scorecardresearch
 

Gaurav Chandel Murder Case: क्या है इस कत्ल का 'वर्दी' कनेक्शन, कब मिलेगा इंसाफ

एक बड़ी कंपनी के मैनेजर अपने दफ्तर से घर के लिए निकले थे. इस बीच वो अपनी पत्नी से फोन पर बात भी कर रहे थे लेकिन आखिरी बार जब दोनों की बात हुई तो पत्नी को फोन पर पति की घबराई हुई आवाज़ सुनाई दी और अचानक फोन कट गया.

गौरव की हत्या का मामला पुलिस के लिए चुनौती साबित हो रहा है गौरव की हत्या का मामला पुलिस के लिए चुनौती साबित हो रहा है

गुरुग्राम की एक बड़ी कंपनी के मैनेजर अपने दफ्तर से घर के लिए निकले थे. इस बीच वो अपनी पत्नी से फोन पर बात भी कर रहे थे लेकिन आखिरी बार जब दोनों की बात हुई तो पत्नी को फोन पर पति की घबराई हुई आवाज़ सुनाई दी और अचानक फोन कट गया. इसके बाद फोन तो ऑन था, रिंग भी बज रही थी, मगर उसे रिसीव करने वाला कोई नहीं था. घबराई पत्नी और परिवारवाले पुलिस के पास दौड़े. मगर पुलिस हाथ पर हाथ धरे बैठी रही.क्योंकि पुलिस सीमा विवाद में उलझी रही और इसी बीच उस मैनेजर का कत्ल हो गया.

6 जनवरी 2020, रात 8 बजे, गुरुग्राम

गौड़ सिटी फिफ्थ एवेन्यू के रहने वाले 40 साल के वर्किंग प्रोफेशनल गौरव चंदेल जब इस रोज़ अपने दफ्तर से घर के लिए निकले तो उन्होंने अपनी बीवी प्रीति को फोन किया. गौरव ने बताया कि वो अगले दो घंटों में घर पहुंच जाएगा और फिर सभी साथ में ही डिनर करेंगे. आम तौर पर जब भी काम से फुर्सत होती गौरव अपनी पत्नी से फोन पर बातें किया करते थे. इस रोज़ भी दफ्तर से रवाना होने से पहले उन्होंने प्रीति को फोन किया था. इस हिसाब से गौरव को रात करीब 10 बजे तक गुरुग्राम से नोएडा एक्सटेंशन के अपने मकान में पहुंच जाना चाहिए था.

6 जनवरी 2020, रात करीब 10, नोएडा एक्सटेंशन

जब 10 बज जाने के बाद भी गौरव घर नहीं पहुंचे और ना ही उन्होंने रास्ते से प्रीति को फिर से कोई फोन किया. तो प्रीति ने परेशान होकर गौरव का फोन मिला दिया. गौरव ने फोन उठाया तो ज़रूर लेकिन इस बार उसकी अपनी बीवी प्रीति से बहुत ही छोटी बातचीत हुई. थोड़ा परेशान लग रहे गौरव ने प्रीति को सिर्फ इतना बताया कि वो नोएडा एक्सटेंशन के ही पर्थला गोलचक्कर के करीब हैं और अपने पेपर चेक करवा कर फौरन घर लौट रहे हैं. पर्थला गोलचक्कर गौरव के घर से बमुश्किल तीन से चार किमी के फासले पर है. प्रीति की मानें तो उन्होंने बातचीत के दौरान पीछे की कुछ आवाज़ें सुनीं थी. जिसमें कुछ लोग गौरव से उनकी कार सड़क के किनारे लगाने को कह रहे थे.

इस हिसाब से गौरव को कम से कम अगले आधे घंटे यानी रात 10.30- पौने ग्यारह तक घर पहुंच जाना चाहिए था. लेकिन जब 40-45 मिनट गुज़र जाने के बावजूद गौरव घर नहीं पहुंचें तो प्रीति की बेचैनी बढ़ने लगी. अब उसने गौरव को एक के बाद एक कई फोन किए. घंटी बजती रही लेकिन गौरव ने फोन नहीं उठाया. प्रीति को समझ में नहीं आ रहा था कि आखिर अपनी गाड़ी के कागज़ चेक करवा रहे गौरव के साथ बीच रास्ते पर ऐसा क्या हुआ कि वो ना तो घर लौटा और ना ही उठा रहे हैं. ये हालत प्रीति ही नहीं बल्कि पूरे चंदेल परिवार और रिश्तेदारों को बेचैन करने के लिए काफी थी.

लिहाज़ा प्रीति ने अब अपने पड़ोसियों से बात की और फोन पर ही कुछ और देर तक गौरव का पता लगाने की कोशिश चलती रही. लेकिन जब सारी कोशिशें नाकाम हो गईं तो घबराए घरवाले और पड़ोसी सीधे बिसरख पुलिस स्टेशन पहुंचे.. लेकिन जैसा कि आमतौर पर पुलिस थानों में होता है बिसरख के पुलिसवालों ने भी परेशान चंदेल परिवार को बहुत ठंडा रिस्पॉन्स दिया. और ये समझाने की कोशिश की कि गौरव अपनी मर्ज़ी से कहीं चले गए होंगे और खुद ही वापस लौट आएंगे.

चूंकि गौरव की पत्नी प्रीति को पूरे सीक्वेंस यानी घटनाक्रम का पता था तो वो पुलिस कि बात मानने को तैयार नहीं हुई. ऐसे में ज़िद करने पर बिसरख के पुलिसवालों ने चंदेल परिवार को पहले थाना फेस-3 फिर चेरी काउंटी पुलिस चौकी और तब गौड़ सिटी पुलिस चौकी के लिए टरका किया. और इस तरह गौरव के रिश्तेदार उसे रातभर थानों और पुलिसचौकी में ढूंढते. पुलिस से फरियाद करते रहे.

बहुत दबाव बनाने पर पुलिस ने ही गौरव के फोन की लोकेशन ट्रेस करने की कोशिश की जो अब भी एक्टिव थी. और इस कोशिश में पुलिस को नोएडा एक्सटेंशन के ही रोज़ा जलालपुर और हैबतपुर जैसे गांवों का पता चला जहां गौरव के मोबाइल फोन की लोकेशन नज़र आ रही थी. अब घरवालों ने पुलिस से इन जगहों पर चलकर गौरव को तलाशने के लिए कहा, पुलिस अनमने ढंग से गई भी. और कोई कामयाबी नहीं मिली. इस बीच पुलिसवाले बार बार घरवालों को खुद भी गौरव की तलाश करने की सलाह दे रहे थे.

ऐसे में घरवालों ने पर्थला गोल चक्कर से गौड़ सिटी तक एक बार फिर गौरव को ढूंढने का फैसला किया क्योंकि गौरव को इसी रूट से अपने घर आना था और आखिरी बार उसकी अपनी बीवी प्रीति से पर्थला चौक पर फोन पर बात हुई थी. सुबह के करीब साढ़े चार बज रहे थे. रिश्तेदारों की गाड़ी पर्थला चौक से गौड़ चौक की तरफ सर्विस लेन पर चल रही थी. और तभी उन्हें हिंडन पुलिया से पहले एक क्रिकेट ग्राउंड के पास कोई ज़मीन पर पड़ा नज़र आया. बेचैन घरवालों ने अंधेरे में उस शख्स को टटोलने की कोशिश की लेकिन करीब पहुंचते ही सब के पैरों तले ज़मीन खिसक गई. ये गौरव ही थे.. जो औंधे मुंह ज़मीन पर पड़े थे और उनके सिर से खून निकल रहा था. यहां तक की सांसे भी थम चुकी थीं.

मगर फिर भी करिश्मे की उम्मीद से लोग फौरन गौरव को नज़दीक के अस्पताल लेकर गए लेकिन जिसकी सांसे एक बार थम चुकी हों वो फिर दोबारा कब सांस लेता है. गौरव की मौत की खबर पूरे चंदेल परिवार पर बिजली बनकर गिरी. रातभर गौरव को तलाश रहे घरवालों को अब ये समझ नहीं आ रहा था कि वो करें तो क्या करें क्योंकि गौरव तो मिल चुका था मगर ज़िंदा नहीं, मुर्दा.

अब सवाल ये भी था कि आखिर गौरव का ये हाल किसने किया. आखिरी बार तो वो पुलिसवालों को ही अपनी गाड़ी के कागज़ात दिखा रहे थे. गौरव की ब्रैंड न्यू किया सेल्टोस कार कहां थी. दो मोबाइल, लैपटॉप और दूसरी कीमती चीज़ें भी गायब थीं. तो क्या ये मामला लूट औऱ उसके लिए हुए क़त्ल का था. तो फिर वो पुलिसवाले कौन थे जिनको अपने आखिरी वक्त में गौरव गाड़ी के पेपर दिखा रहे थे. वो पुलिसवाले ही थे या फिर पुलिस के लिबास में कोई लुटेरे.. ऐसे ही कई सवाल अब हर किसी को बेचैन कर रहे थे.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें