scorecardresearch
 

आसाराम की ध्‍यान कुटिया का सच

सफ़ेद चोले में सत्संग करने वाले आसाराम को तो पूरी दुनिया जानती है लेकिन इस लिबास के पीछे छिपे असली आसाराम से कम ही वाकिफ हैं. ये आसाराम लड़कियों से रिश्ते बनाने का शौकीन है, ये आसाराम अपने दुश्मन को ठिकाने लगवा देता है, ये आसाराम अय्याशी करता है और यही आसाराम एकांतवास के नाम पर शिष्याओं का यौन शोषण करता है.

X
आसाराम आसाराम
13:29

सफ़ेद चोले में सत्संग करने वाले आसाराम को तो पूरी दुनिया जानती है लेकिन इस लिबास के पीछे छिपे असली आसाराम से कम ही वाकिफ हैं. ये आसाराम लड़कियों से रिश्ते बनाने का शौकीन है, ये आसाराम अपने दुश्मन को ठिकाने लगवा देता है, ये आसाराम अय्याशी करता है और यही आसाराम एकांतवास के नाम पर शिष्याओं का यौन शोषण करता है.

ये हम नहीं कह रहे, बल्कि ये कहना है आसाराम के साथ लंबा वक्त गुज़ार चुके खुद उन्हीं के साधकों का, जिन्होंने अपनी आंखों से आसाराम का वो सच देखा है, जिसे देखने के बाद अब उनकी जमीर उन्हें खामोश रहने से रोक रही है. दूसरे लफ्ज़ों में कहें तो आसाराम के एक नहीं, कई चेहरे हैं. आसाराम के इन चेहरों से एक-एक कर नकाब हटले वाला है.

आसाराम व्यासपीठ पर बैठता है, प्रवचन करता है. दुनिया को सदाचार और ब्रह्मचर्य का सीख देता है और अपनी आध्यात्मिक शक्तियों और दवाओं से उनकी दुख तकलीफ़ दूर करने का दावा करता है. जाहिर है, आसाराम का यही वो चेहरा है, जिसकी बदौलत दुनिया में लाखों लोग आसाराम की तरफ खिंचे चले आते हैं लेकिन आसाराम को करीब से जाननेवालों की मानें तो आसाराम का ये चेहरा, चेहरा कम बल्कि नक़ाब ज़्यादा है़ असली आसाराम तो कोई और है.

दुनिया की नजरों से दूर होते ही ये आसाराम अपनी असलियत पर उतर आता है. व्यासपीठ से बैठे-बैठे उसकी निगाहें लड़कियों की तलाश में ऐसे घूमती है कि फिर वो एकांतवास की कुटिया में आ कर ही थमती है. इस आसाराम को ना सिर्फ़ लड़कियों के साथ रिश्ते बनाने की चाहत रहती है, बल्कि वो छोटी और मासूम लड़कियों को हमेशा अपने करीब लाने की कोशिश में लगा रहता है और कई बार वो लड़कियों के साथ स्वीमिंग पुल में नहाने का मज़ा भी लेता है और उन्हीं से अपनी मालिश भी करवाता है.

आसाराम का ये चेहरा संत का नहीं, बल्कि शैतान का है. ये व्यासपीठ से नीचे उतरते ही किसी क्रिमिनल की तरह जीने लगता है. ये गालियां देता हैं और अपने खिलाफ बोलनेवाले लोगों को ठिकाने भी लगवा देता है. अलग-अलग हथकंडों से रुपये कमाना और मौका मिलते ही लड़कियों के करीब आने की कोशिश करना ही इस आसाराम का सबसे पसंदीदा शगल है और आसाराम के आश्रम में अंधश्रद्धा के मारे सैकड़ों लोग, ये सबकुछ आंखें मूंद कर देखते रहते हैं.

अब असली आसाराम से वाकिफ उसके साधक रहे पुराने लोग ही आसाराम के खिलाफ क़ानून की मदद करने के लिए आगे आने लगे हैं. जाहिर है, आसाराम की मुसीबत अभी ख़त्म नहीं होने वाली हैं.

वहीं दूसरी ओर ड्रामा, स्वांग और नौटंकी की बदौलत आसाराम के बेटे नारायण साईं लंबे वक्त तक दुनिया की आंखों में धूल झोंकते रहे लेकिन अब उनके बारे में उन्हीं के एक पुराने सेवादार ने जो खुलासा किया है, वो ना सिर्फ़ चौंकानेवाला बल्कि शर्मनाक है.

इस सेवादार की मानें तो नारायण ना सिर्फ़ अपनी पिता की तरह एकांतवास के नाम पर लड़कियों का यौन शोषण करते थे, बल्कि आश्रमों में एकांतवास की कुटिया की डिज़ाइन भी खास तौर पर यौन शोषण के इरादे से तैयार की जाती थी.

अव्वल तो एकांतवास की कुटिया भीड़-भाड़ से दूर होती थी, ऊपर से उनमें एक नहीं, बल्कि दो दरवाज़े होते थे, ताकि लड़की के साथ कोई नारायण साईं या आसाराम को एक साथ कुटिया के अंदर जाते या बाहर आते देख ना ले और जरूरत के मुताबिक दूसरे दरवाज़े का इस्तेमाल किया जा सके. नारायण लड़कियों को लेकर एकांतवास की कुटिया तक जाते और जब लड़की के साथ वक्‍त बिता कर उनका मन भर जाता था, तो कुटिया से बाहर निकल कर कोड लैंग्वेज का इस्तेमाल कर अपने सेवादार को कमरा साफ कर देने के लिए कहते. दरअसल, ये कमरा साफ़ करने का मतलब साफ-सफ़ाई नहीं, बल्कि लड़की को कमरे से बाहर निकालना होता था.
नारायण साईं के पूर्व सेवादार महेंद्र चावला का कहना है कि पहले तो वो आसाराम और नारायण साईं के भक्त हुआ करते थे, लेकिन जब उन्होंने दोनों की सच्चाई अपनी आंखों से देखी, तो फिर उन्हें ऐसा सदमा लगा कि वो डिप्रेशन में रहने लगे और इससे निकलने में भी उन्हें सालों का वक्‍त लग गया. इस पूर्व साधक की मानें तो आसाराम का ट्रस्ट धर्म कर्म की जगह नहीं, बल्कि जुर्म और धंधेबाज़ी का वो ठिकाना है, जिसमें लड़कियों के साथ ज़्यादती और पैसे कमाना ही इकलौता मकसद है.

आसाराम और नारायण साईं लोगों से मिलनेवाले पैसों ब्याज पर लगाते हैं और अगर कोई इन पैसों को वक्त पर देने में नाकाम रहता है या आनाकानी करता है तो पुलिस और गुंडों की मदद से उनसे वसूली की जाती है.

चावला कहते हैं कि उन्होंने बाप-बेटे की करतूतों के सिलसिले में सिर्फ़ गुजरात ही नहीं, बल्कि हरियाणा पुलिस से भी शिकायत की थी, लेकिन हर बार उसकी शिकायत को ठंडे बस्ते में डाल दिया गया और गुजरात की डीके त्रिवेदी कमिशन के सामने अपने बयान में भी उसने आश्रम में चल रहे गलत धंधों के बारे में बताया था, लेकिन तब कमिशन के अधिकारियों ने उनके बातों की अनसुनी कर दी.

अब एक के बाद एक बलात्कार के इल्ज़ामों में घिरने के बाद नारायण साईं जिस तरह पुलिस से भागते फिर रहे हैं, उसे देख कर तो यही लगता है कि जहां धुआं होता है, आग भी जरूर होती है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें