scorecardresearch
 

एम्स डायरेक्टर गुलेरिया बोले- प्लाज्मा कोई जादू की गोली नहीं, कोरोना में समय से इलाज जरूरी

देश में कोरोना के गंभीर मरीजों पर प्लाज्मा थेरेपी का काफी इस्तेमाल हो रहा है. इसी मुद्दे पर एम्स दिल्ली के निदेशक डॉ गुलेरिया ने कहा कि प्लाज्मा थेरेपी ने कोरोना के मृत्यु दर को कम नहीं किया है.

एम्स के डायरेक्टर डॉ गुलेरिया ने प्लाज्मा थेरपी पर की बात (फाइल फोटो) एम्स के डायरेक्टर डॉ गुलेरिया ने प्लाज्मा थेरपी पर की बात (फाइल फोटो)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • एम्स डायरेक्टर बोले- प्लाज्मा कोई जादू की गोली नहीं
  • गुलेरिया बोले- इलाज तभी फायदेमंद जब समय पर हो
  • 'प्लाज्मा थेरेपी ने कोरोना मृत्यु दर को कम नहीं किया'

देश में कोरोना वायरस का कहर थमने का नाम नहीं ले रहा है. कुछ रिपोर्ट्स में इसे सर्दियों में और बढ़ने का खतरा भी जताया गया है. केंद्र और राज्य सरकारें इस महामारी से निपटने की तमाम कोशिश कर रही हैं, लेकिन नए केस रुकने का नाम नहीं ले रहे हैं. कोरोना के गंभीर मरीजों पर प्लाज्मा थेरेपी का काफी इस्तेमाल हो रहा है. इसी मुद्दे पर एम्स दिल्ली के निदेशक डॉ गुलेरिया ने कहा कि प्लाज्मा थेरेपी ने कोरोना के मृत्यु दर को कम नहीं किया है.

आईसीएमआर द्वारा किए गए सूक्ष्म अवलोकन के बाद डॉ गुलेरिया ने कहा कि यह कहने के लिए बहुत जल्दी होगा, हमें और अधिक डेटा को देखने की जरूरत है. लेकिन, आईसीएमआर के अध्ययन में बड़ी संख्या में ऐसे रोगियों को शामिल किया गया था जिन्हें प्लाज्मा दिया गया था, जबकि उनमें पहले से एंटीबॉडीज थे.

गुलेरिया ने आगे कहा कि अगर किसी मरीज के शरीर में एंटीबॉडीज पहले से ही हैं तो उसे बाहर से देने से बहुत फायदा नहीं हो सकता है. उन्होंने इस दौरान ये भी स्पष्ट किया कि प्लाज्मा थेरेपी ने कोविड-19 की मृत्यु दर को कम नहीं किया है. 

देखें: आजतक LIVE TV

प्लाज्मा थेरेपी पर बात करते हुए एम्स के डायरेक्टर डॉ रणदीप डुलेरिया ने आगे कहा कि प्लाज्मा कोई जादू की गोली नहीं है. हमें इसे ठीक से इस्तेमाल करना होगा जहां ये उपयोगी हो सकता हो, बजाय ये कहने के कि इससे हर किसी को फायदा हो सकता है. कोविड से हम जो सीख रहे हैं, वह यह है कि अगर सही समय पर उपचार हो तो ही फायदा हो सकता है.

अपनी बात जारी रखते हुए डॉ गुलेरिया ने कहा कि सर्दियों के दौरान स्वाइन फ्लू के मामलों में तेजी दिखाई देती है. संभावना है कि कोरोना के मामलों में भी ऐसा ही हो. ऐसा डेटा भी है जो दिखाता है कि वायु प्रदूषण से कोविड-19 का संक्रमण काफी तेज हो सकता है. यह बात इटली और चीन में पिछले कुछ महीनों में किए गए एक अध्ययन पर आधारित है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें