scorecardresearch
 

ट्रेन यात्री ध्यान दें, महाराष्ट्र जाने के लिए कोरोना निगेटिव सर्टिफिकेट है जरूरी

महाराष्ट्र में रेलवे स्टेशन पर उतरते ही राज्य सरकार के अधिकारी कोरोना का RT-PCR निगेटिव सर्टिफिकेट चेक करेंगे. इसके बाद ही लोगों को राज्य में प्रवेश की इजाजत मिलेगी. अगर कोई ट्रेन दूसरे राज्य से शुरू होती है लेकिन इसका स्टॉपेज इन राज्यों में है तो भी पैसेंजर को कोरोना निगेटिव सर्टिफिकेट लेकर ही चढ़ना पड़ेगा.

ठाणे में ट्रेन पर सवार होते लोग (फोटो-पीटीआई) ठाणे में ट्रेन पर सवार होते लोग (फोटो-पीटीआई)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • दिल्ली से मुंबई जाने के लिए कोरोना निगेटिव सर्टिफिकेट जरूरी
  • राजस्थान, गुजरात, गोवा से आने पर भी RT-PCR सर्टिफिकेट की जरूरत
  • पॉजिटिव पाए जाने पर अपने खर्चे पर होंगे क्वारनटीन

महाराष्ट्र में कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए राज्य सरकार ने दूसरे राज्यों से ट्रेन के जरिए आने वाले लोगों पर सख्ती बढ़ा दी है. राज्य सरकार की नई गाइडलाइंस के मुताबिक दिल्ली, राजस्थान, गोवा, गुजरात से आने वाली ट्रेनों से महाराष्ट्र आने वाले लोगों को कोरोना का RT-PCR निगेटिव सर्टिफिकेट लेकर आना होगा. 

महाराष्ट्र में रेलवे स्टेशन पर उतरते ही राज्य सरकार के अधिकारी कोरोना का RT-PCR निगेटिव सर्टिफिकेट चेक करेंगे. इसके बाद ही लोगों को राज्य में प्रवेश की इजाजत मिलेगी. अगर कोई ट्रेन दूसरे राज्य से शुरू होती है लेकिन इसका स्टॉपेज इन राज्यों में है तो भी पैसेंजर को कोरोना निगेटिव सर्टिफिकेट लेकर ही चढ़ना पड़ेगा.

कोरोना का RT-PCR टेस्ट कराने के लिए सैंपल कलेक्शन महाराष्ट्र पहुंचने की समय सीमा से चार दिन यानी कि 96 घंटे के अंदर किया गया हो.

महाराष्ट्र पहुंचने पर जिन यात्रियों के पास उचित RT-PCR सैंपल कलेक्शन रिपोर्ट नहीं होगी उनकी रेलवे स्टेशन पर कोरोना के लक्षणों की मेडिकल जांच की जाएगी. 

जिन यात्रियों में कोई लक्षण नहीं पाया जाएगा, उन्हें घर जाने की इजाजत होगी. लेकिन जिन यात्रियों में कोरोना के लक्षण दिखेंगे उन्हें पहले अलग किया जाएगा फिर उनका रैपिड एंटीजन टेस्ट कराया जाएगा. अगर एंटीजन टेस्ट निगेटिव आता है तो पैसेंजर को घर जाने की अनुमति होगी.

देखें: आजतक LIVE TV  

वैसे यात्री जो कोरोना पॉजिटिव पाए जाएंगे उन्हें इलाज के लिए कोविड केयर सेंटर भेजा जाएगा. इस इलाज का पूरा खर्चा यात्री को खुद उठाना होगा. 

इस पूरी प्रक्रिया के लिए संबंधित निगम आयुक्त, जिला कलेक्टर को राज्य सरकार ने नोडल अधिकारी नियुक्त किया है. इनकी जिम्मेदारी होगी ये पूरे दिशानिर्देशों का पालन करवाएं. इस प्रक्रिया को पूरा करने के लिए मुंबई के रेलवे स्टेशनों पर पूरा इंतजाम किया गया है.  

रेलवे को कहा गया है कि वो इस पूरी प्रक्रिया में राज्य सरकार के अफसरों को मदद करें. रेलवे राज्य सरकार को किसी खास दिन पर आने वाले ट्रेनों की लिस्ट, सवारियों की संख्या, ट्रेनों के आने का समय मुहैया कराएगा. इसी के आधार पर रेलवे स्टेशन पर तैयारी की जाएगी. 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें