scorecardresearch
 

मनसुख मंडाविया बोले- पीएम मोदी ने वैक्सीन पर विजन के साथ काम किया

मनसुख मंडाविया ने कहा कि इंडिया में ब्रेन पावर की कभी कमी नहीं रही. जब लॉकडाइन लगा तो दुनियाभर में प्रोटेस्ट हुआ. डेढ़ महीने का लॉकडाउन रहा. सरकार की जो ताकत थी उसका इस्तेमाल किया लेकिन कोरोना से मुकाबला करने में सभी का अहम योगदान रहा. देश में सब मिलकर किसी को भूखा नहीं सोने दिया.

स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया
स्टोरी हाइलाइट्स
  • 'इंडिया टुडे ग्रुप हेल्थगीरी अवॉर्ड्स' में स्वास्थ्य मंत्री ने की शिरकत
  • मनसुख मंडाविया ने दिया स्वस्थ रहने का मंत्र
  • 'दूसरी लहर में सबने मिलकर काम किया'

आजतक के खास कार्यक्रम 'इंडिया टुडे ग्रुप हेल्थगीरी अवॉर्ड्स' (India Today Healthgiri Awards 2021) में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया ने बताया कि कैसे देश ने कोरोना की दूसरी लहर से मुकाबला किया. उन्होंने इम्युनिटी बढ़ाने का मंत्र भी दिया. साथ ही उन्होंने इंडिया टुडे के हेल्थगीरी कार्यक्रम की सराहनी भी की.

स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया ने कहा कि इंडिया टुडे का यह कार्यक्रम सराहनीय है. कार्यक्रम मुझे बहुत अच्छा लगा. जब मुझे इनविटेशन मिला तो मैंने सोचा कि वहां जाना है. उन्होंने कहा, 'महात्मा गांधी के जन्म दिन के मौके पर अवॉर्ड देने का महत्व और बढ़ जाता है. महात्मा गांधी व्यक्ति से बढ़कर एक विचार थे और उससे बढ़कर भी एक युग.'  

स्वास्थ्य मंत्री ने कहा, 'हमारा शरीर पंच तत्वों से बना है. इसका तालमेल रहेगा तभी आप स्वस्थ रहेंगे. आप संपत्ति किसे मानते हैं. सोना, डायमंड या रुपये-पैसे को? गांधी जी ने कहा था कि सही संपत्ति आपका स्वास्थ्य है. ऐसे में आपकी इम्युनिटी अच्छी हो तो आप स्वस्थ रहेंगे. इसलिए आपको स्वस्थ रहने के लिए इन तत्वों के बीच तालमेल बैठाना पड़ेगा.

दूसरी लहर में सबने मिलकर काम किया

उन्होंने कहा कि इंडिया में ब्रेन पावर की कभी कमी नहीं रही. जब लॉकडाइन लगा तो दुनियाभर में प्रोटेस्ट हुआ. डेढ़ महीने का लॉकडाउन रहा. सरकार की जो ताकत थी उसका इस्तेमाल किया लेकिन कोरोना से मुकाबला करने में सभी का योगदान रहा. देश में सब मिलकर किसी को भूखा नहीं सोने दिया. 

मंडाविया ने कहा कि कोरोना से मुकाबला करने के लिए पीएम मोदी ने विजन के साथ काम किया. देश में वैक्सीन पर रिसर्च शुरू हुआ. पीएम ने सभी रिसर्च इंस्टीट्यूट में जाकर सांइटिस्ट का हौसला बढ़ाया. उन्होंने वैक्सीन पर तेजी से काम करवाया. मोदी जी ने पूछा कि क्या हम दुनिया की मदद कर सकते हैं. हमलोगों ने जवाब दिया हां. फिर 123 देशों को भारत ने मदद पहुंचाई. 700 से ज्यादा डाक्टरों की करोना काल में डेथ हुई फिर भी कोरोना वॉरियर्स ने मोर्च संभाले रखा. 

स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया ने कहा कि कोरोना वॉरियर्स ने कमिटमेंट के साथ काम किया. ऐसे लोगों को सम्मानित करना भारत की पंपरा रही है. ऐसे कर्तव्य को पूरा करने के लिए अरुण पुरी जी आगे आए हैं इसलिए हम उनका अभिनंदन करते हैं. 



आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें