scorecardresearch
 

गोवा के अस्पताल में फिर मौत का कारण बनी ऑक्सीजन की कमी, 4 घंटे में 13 ने लोगों गंवाई जान

गोवा मेडिकल कॉलेज में मरीजों की मौत के मामले में कांग्रेस राज्य सरकार पर हमलावर हो गई गई. कांग्रेस अब मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत और गोवा के स्वास्थ्य मंत्री के खिलाफ आपराधिक मामला दर्ज कराने की तैयारी में जुट गई है.

ऑक्सीजन सप्लाई में दिक्कत से जा रही लोगों की जान (सांकेतिक तस्वीर: PTI) ऑक्सीजन सप्लाई में दिक्कत से जा रही लोगों की जान (सांकेतिक तस्वीर: PTI)
8:03
स्टोरी हाइलाइट्स
  • गोवा में एक बार फिर ऑक्सीजन की कमी से मौत
  • शुक्रवार तड़के ही 13 लोगों ने गंवाई अपनी जान

देश में कोरोना वायरस की दूसरी लहर के बीच ऑक्सीजन की कमी का संकट अभी भी जारी है. गोवा के गोवा मेडिकल कॉलेज में एक बार फिर ऑक्सीजन की किल्लत लोगों की मौत का कारण बनी है. गोवा मेडिकल कॉलेज अस्पताल में बीती रात दो बजे से सुबह 6 बजे तक 13 लोगों की मौत हो गई. बताया जा रहा है कि ये मौत ऑक्सीजन लेवल की कमी के कारण हुई है. 

आपको बता दें कि इस अस्पताल में बीते दिनों में ऑक्सीजन की कमी के कारण कई मरीज़ों की जान जा चुकी है, जो प्रशासन की लापरवाही को उजागर करता है.  

वहीं, गोवा मेडिकल कॉलेज में मरीजों की मौत के मामले में कांग्रेस राज्य सरकार पर हमलावर हो गई गई. कांग्रेस अब मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत और गोवा के स्वास्थ्य मंत्री के खिलाफ आपराधिक मामला दर्ज कराने की तैयारी में जुट गई है. गोवा कांग्रेस प्रमुख गिरीश चोडनकर ने कहा कि हम दोनों के खिलाफ आपराधिक शिकायत दर्ज करेंगे और जरूरत पड़ने पर निर्दोषों को न्याय दिलाने के लिए अदालत जाएंगे. 

गोवा में पिछले कई दिनों से ऑक्सीजन की कमी के कारण मरीजों की मौत हो रही है. मंगलवार को 26, बुधवार को 20, गुरुवार को 15 और अब शुक्रवार को 13 लोगों की मौत दर्ज की गई है. कोविड वार्ड में हुई इस मौत के कारण अस्पताल की फजीहत हो रही है, तो वहीं यहां अधिकारियों का कहना है कि लॉजिस्टिक में दिक्कत के कारण ऐसा हुआ है. 

गोवा की सरकार ने अब इस मेडिकल कॉलेज में ऑक्सीजन सप्लाई के विषय को लेकर एक कमेटी का गठन कर दिया है. जिसमें IIT के बीके मिश्रा, GMC के पूर्व डीन वीएन जिंदर और तारिक थॉमस शामिल हैं. 

इस कमेटी को टास्क दिया गया है कि वह अस्पताल को मिलने वाली ऑक्सीजन सप्लाई पर नज़र रखे और ऑक्सीजन को लेकर कहां दिक्कत आ रही है, उन्हें उजागर करे. इस कमेटी को तीन दिन में अपनी रिपोर्ट देनी है.

गौरतलब है कि देश में कोरोना मरीजों की तादाद अचानक बढ़ने के कारण ऑक्सीजन की डिमांड भी बढ़ गई थी. कुछ वक्त पहले तक दिल्ली, यूपी, समेत अन्य राज्यों में लोग ऑक्सीजन के लिए भटक रहे थे, हालांकि अब कुछ हदतक ये कंट्रोल हो पाया है.  


 

 

  • ऑक्सीजन की कमी होना क्या प्रशासनिक और रणनीतिक गलती है?

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें
ऐप में खोलें×