scorecardresearch
 

बीजेपी के मुफ्त कोरोना वैक्सीन के वादे पर रार, अब कई राज्यों में उठ रही ये मांग

जब से बिहार में बीजेपी ने कोरोना वैक्सीन मुफ्त देने का चुनावी वादा किया है उसी के बाद से देश में एक चर्चा शुरू हो गई है. केरल से लेकर कर्नाटक और महाराष्ट्र तक इस मसले पर बात हो रही है.

अलग-अलग चल रहे हैं वैक्सीन के ट्रायल (फाइल फोटो: PTI) अलग-अलग चल रहे हैं वैक्सीन के ट्रायल (फाइल फोटो: PTI)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • देश में कोरोना वैक्सीन पर शुरू हुई बहस
  • बिहार में बीजेपी ने किया फ्री वैक्सीन का वादा

भारतीय जनता पार्टी ने बिहार चुनाव से पहले अपना जो संकल्प पत्र जारी किया, उसमें एक वादे पर पूरे देश में चर्चा शुरू हो गई है. बीजेपी का वादा है कि सत्ता में आने पर वो सभी बिहारवासियों को कोरोना वैक्सीन का मुफ्त में टीकाकरण उपलब्ध करवाएगी. अब इसी वादे पर देश के अलग-अलग राज्यों में बवाल मचा है और इस महामारी का इस तरह चुनावी फायदा लेने का आरोप लगाया जा रहा है. केरल से लेकर कर्नाटक और मध्य प्रदेश में इसको लेकर चर्चा है, वहीं चुनाव आयोग में बीजेपी की शिकायत भी की गई है. 

बीजेपी के दावे पर विपक्ष का हल्ला बोल
भारतीय जनता पार्टी ने कोरोना वैक्सीन को लेकर जो दावा किया, उसपर विपक्ष आगबबूला है. कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने सरकार पर तंज कसा है कि कोरोना वैक्सीन बांटने की नीति यही है कि जहां चुनाव होंगे, वहां पहले देंगे. दूसरी ओर महाराष्ट्र में शिवसेना सांसद संजय राउत ने कहा है कि बीजेपी सरकार इलाज के नाम पर भी बंटवारा कर रही है और ये कहना चाह रही है कि जो बीजेपी को वोट देगा उसे ही वैक्सीन मिलेगी. 

देखें: आजतक LIVE TV

कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री सिद्धारमैया ने कहा है कि बीजेपी बिहार में मुफ्त में वैक्सीन बांट रही है, क्या कर्नाटक में भी चुनाव होने पर ही वैक्सीन मिलेगी. मैं चाहूंगा कि राज्य के सभी बीजेपी विधायक, सांसद और सीएम मुफ्त में केंद्र से वैक्सीन मांगें.

बिहार से इतर मध्य प्रदेश में भी उपचुनाव जारी हैं, गुरुवार को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने इस दौरान ऐलान किया कि जैसे ही देश में वैक्सीन बन जाएगी और उसे मंजूरी मिल जाएगी. मध्य प्रदेश में सरकार उसे मुफ्त में लोगों तक पहुंचवाएगी. हालांकि, बाद में उन्होंने कहा कि मुफ्त में वैक्सीन देने के लिए फोकस गरीबों पर रखा जाएगा. 

आपको बता दें कि भारत में भी कई कोरोना वैक्सीन का ट्रायल चल रहा है, लगातार वैज्ञानिक इस ओर काम कर रहे हैं. इस बीच भारत बायोटेक को नेक्स्ट स्टेज में ट्रायल को भी मंजूरी मिल गई है. वैक्सीन की इस प्रोग्रेस के बीच केरल सरकार ने बड़ा फैसला लिया, यहां राज्य में ट्रायल को मंजूरी दे दी गई है. यानी देश के अलग-अलग हिस्सों में जो कोरोना वैक्सीन के ट्रायल चल रहे हैं उसमें अब केरल के वॉलिंटियर्स भी हिस्सा ले सकेंगे. 

केंद्र बना रही है योजना, राज्यों में भी होड़
केंद्र सरकार देश में हर नागरिक तक वैक्सीन पहुंचाने के प्लान पर काम कर रही है. इसके लिए करीब 50 हजार करोड़ के बजट का इंतजाम किया जा रहा है. ऐसे में एक व्यक्ति के टीकाकरण के लिए करीब 385 रुपये खर्च होंगे. केंद्र की ओर से हालांकि, कोरोना वैक्सीन देने का आधिकारिक प्लान घोषित किया जाना बाकी है. लेकिन, अब बिहार में सरकार बनने पर इस तरह मुफ्त वैक्सीन के ऐलान से अन्य राज्यों में भी हलचल तेज है. क्योंकि इससे उनपर भी वैक्सीन को मुफ्त देने का दबाव बन सकता है और मांग उठ सकती है. 

आपको बता दें कि भारत ही नहीं, दुनिया के कई देशों में वैक्सीन पर ट्रायल चल रहा है. इसी के साथ WHO एक नीति पर भी काम कर रहा है कि किस देश को कैसे वैक्सीन दी जाएगी. अभी तक कई अमीर देशों ने ट्रायल वाली जगहों से अपने लिए वैक्सीन एडवांस में खरीद ली है, लेकिन WHO का कहना है कि वो सबसे प्रभावित देश और कम विकसित देशों को फोकस में रखेगा. हालांकि, अभी आधिकारिक प्लान बनना बाकी है.


 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें