scorecardresearch
 

लहर बनी कहर: 24 घंटे में देश में आए 1.26 लाख कोरोना केस, 684 की मौत, महाराष्ट्र-दिल्ली में महासंकट

कोरोना वायरस की ताज़ा लहर अब कहर बनकर टूट रही है. पिछले सभी रिकॉर्ड तोड़ते हुए बुधवार को देश में सवा लाख से अधिक नए मामले दर्ज किए गए हैं.

कोरोना की नई लहर की बेकाबू रफ्तार (फाइल फोटो) कोरोना की नई लहर की बेकाबू रफ्तार (फाइल फोटो)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • कोरोना वायरस के मामलों ने तोड़े सारे रिकॉर्ड
  • एक दिन में सवा लाख से अधिक केस दर्ज

कोरोना वायरस की ताज़ा लहर अब कहर बनकर टूट रही है. पिछले सभी रिकॉर्ड तोड़ते हुए बुधवार को देश में सवा लाख से अधिक नए मामले दर्ज किए गए हैं. राज्य सरकारों द्वारा आंकड़ों के मुताबिक, पिछले 24 घंटे में देश में कोरोना वायरस के 126315 नए केस सामने आए हैं. जबकि 684 लोगों की मौत हुई है.

पिछले चार दिनों में ये तीसरी बार है कि देश में एक दिन में आने वाले केस का आंकड़ा एक लाख के पार गया है. इससे पहले मंगलवार को 1.15 लाख केस आए थे, यानी दो दिन में ही 2.40 लाख के करीब केस आ गए हैं.

महाराष्ट्र, दिल्ली में हाहाकार
कोरोना की इस ताज़ा लहर से महाराष्ट्र सबसे अधिक प्रभावित है. बीते दिन महाराष्ट्र में करीब 60 हज़ार मामले दर्ज किए गए, जो पूरे देश में सामने आए केस का आधा हिस्सा है. यही कारण है कि केंद्र की ओर से एक्सपर्ट्स की टीमें लगातार महाराष्ट्र भेजी जा रही हैं.

यही हाल दिल्ली का भी है जहां फिर एक बार साढ़े पांच हज़ार से अधिक केस दर्ज किए गए हैं, जो पिछले साल के पीक की याद दिलाते हैं. बुधवार को महाराष्ट्र में कुल 59907, दिल्ली में 5,506, उत्तर प्रदेश में 6,023, कर्नाटक में 6,976  मामले दर्ज किए गए हैं.

लगातार बढ़ते आंकड़ों के साथ ही देश में कुल केस की संख्या 1.26 करोड़ के पार चली गई है. चिंता की बात एक्टिव केस की टैली से सामने आई है, जहां अब एक्टिव केस की संख्या नौ लाख को पार कर गई है. कुछ दिनों पहले देश में सिर्फ एक लाख के करीब एक्टिव केस ही थे.

पीएम मोदी आज करेंगे मंथन
कोरोना वायरस की बढ़ती रफ्तार के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज एक बार फिर राज्यों के साथ बात करेंगे. शाम को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, राज्यों के मुख्यमंत्री, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री, केंद्रीय गृह मंत्री समेत अन्य वरिष्ठ अधिकारियों के बीच कोरोना की बढ़ती रफ्तार, वैक्सीनेशन में आ रही दिक्कतों को लेकर मंथन होगा. पीएम मोदी ने वैक्सीनेशन के फेज़ शुरू होने से पहले भी सभी मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक की थी. ऐसे में आज की बैठक से भी कोई बड़ा संदेश निकल सकता है.

वैक्सीन को लेकर हो रही है चिंता
देश में कोरोना का कहर बढ़ रहा है, तो वैक्सीन की मांग भी तेज़ हो गई है. महाराष्ट्र, आंध्र प्रदेश का कहना है कि उनके पास कुछ ही दिन का वैक्सीन स्टॉक बचा है, कुछ सेंटर्स पर वैक्सीन है ही नहीं. ऐसा ही नज़ारा वाराणसी में दिखा, जहां वैक्सीन ना होने के कारण लोगों को लौटाना पड़ रहा है. दूसरी ओर केंद्र दावा कर रहा है कि वैक्सीन की कोई कमी नहीं है. यही वजह है कि कोरोना संकट के बीच वैक्सीन को लेकर चिंताएं दूर करने की जरूरत है. 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें