scorecardresearch
 

लॉकडाउन में दम तोड़ता बनारसी पान कारोबार, अब तक हो चुका करोड़ों का नुकसान

सात हफ्तों का वक्त बीत जाने के बाद बनारसी पान के कारोबार की ऐसी दुर्गत तस्वीर उभरकर सामने आ रही है, जिसकी किसी ने कल्पना भी नही की थी. छूट को लेकर असमंजस के कारण अब तक करोड़ों रुपए का रुपये का नुकसान हो चुका है.

बनारसी पान बनारसी पान

  • छूट को लेकर असमंजस में बनारसी पान कारोबार
  • हर रोज हो रहा है 25-30 लाख रुपये का नुकसान

लॉकडाउन-3 की मियाद पूरी होने वाली है, लेकिन छूट को लेकर असमंजस बरकरार है. इसका असर कई कारोबार पर पड़ रहा है. इन्हीं में से एक है मशहूर बनारसी पान का कारोबार. सात हफ्तों का वक्त बीत जाने के बाद बनारसी पान के कारोबार की ऐसी दुर्गत तस्वीर उभरकर सामने आ रही है जिसकी किसी ने कल्पना भी नही की थी. अब तक करोड़ों रुपए के नुकसान को झेल चुका ये कारोबार अभी भी स्पष्ट दिशा-निर्देशों के अभाव में असमंजस में है.

पान न केवल एक वनस्पति या खाघ सामग्री है, बल्कि एक संस्कार भी है. सनातनी परंपरा या शुभ कामों में पान के बगैर किसी भी काम के शुभारंभ की कल्पना भी नहीं की जा सकती है तो किसी भी मजहब वाले बनारसियों के लिए पान एक सत्कार का भी जरिया है. लॉकडाउन के 7 हफ्तों के बाद की स्थिति ये है कि देश के सभी कोनों और विदेश में भी पहुंच रखने वाला बनारसी पान अब वेंटिलेटर पर जा चुका है.

banarasi-paan-2_051220123737.jpeg

हर रोज 25-30 लाख रुपये का नुकसान

इस बारे में और जानकारी देते हुए पान कारोबारियों की 1952 से बनाई गए संगठन श्री बरई सभा काशी के महामंत्री अंजनि चौरसिया ने बताया कि देश के अलग-अलग हिस्सों से हरा पान का पत्ता वाराणसी के चेतगंज स्थित पानदरीबा मंडी में आता है. जहां हिटिंग प्रकिया से गुजारकर हरे पत्तों को सफेद किया जा ता है. लॉकडाउन की शुरूआत में ही हरे पान के डंप पड़े रहने की वजह से 20 करोड़ तक का नुकसान पहले ही हो चुका है और प्रतिदिन 25-30 लाख के टर्नओवर का कारोबार रुक जाने से अलग से चपत लग रही है.

banarasi-paan-4_051220123758.jpeg

25 हजार कारोबियों के सामने जीवकोपार्जन का संकट

हार्टिकल्चर में विशेष छूट के बावजूद पानदरीबा मंडी को बंद करना पान कारोबारियों की सोच के परे हैं. वहीं, पान कारोबारी दीपक चौरसिया ने बताया कि पान के होलसेल कारोबार से 20-25 हजार व्यापारी जुड़े हैं और फुटकर दुकानदारों की संख्या लाखों में हैं. पुराने रखे पान सड़ चुके हैं. लोगों का जीवकोपार्जन तक करना मुश्किल हो चुका है. जिला प्रशासन ने इसलिए रोक लगाया है कि पान को थूंकने से कोरोना फैल जायेगा, लेकिन पान में कई औषधीय गुण होते हैं.

banarasi-paan-1_051220123959.jfif

स्थानीय स्तर पर रोक के कारण मंडी बंद

पान कारोबारी बबलू चौरसिया बताते हैं कि हरे पान को घरों पर ही प्रासेस करके हरे पान को बनारसी सफेद पान का स्वरूप दिया जाता रहा है, जो पुरी दुनिया में मशहूर है, लेकिन दो महीने से लॉकडाउन के चलते मजदूरों को बैठाकर तनख्वाह देना पड़ रहा है. ये विडंबना है कि सूबे में 21 पान दरिबाओं को खोलने की छूट मिली है, लेकिन स्थानीय स्तर पर रोक के चलते मंडी बंद है. एकल फुटकर की पान की दुकानों को खोलने की छूट है, लेकिन सप्लाई चेन वाली मंडियों के बंद होने से उनको भी मटेरियल कहां से मिलेगा?

banarasi-paan-3_051220123711.jpeg

सुनी पड़ी है जियापुर पान मंडी

बनारस के चेतगंज के जियापुर इलाके में सैकड़ों वर्षों की पुरानी परंपरा के तहत लगने वाली पान मंडी सुनी पड़ी हुई. मंडी में सैकड़ों डोलचियां या तो खाली पड़ी है या तो फिर उनमें पड़े पड़े पान सड़ चुके हैं. उसी मंडी के बाहर आजीविका के लिए पान बेचने के मजबूर एक छोटे पान विक्रेता विनोद ने बताया कि अभी उनकों पान बेचेने की इजाजत नहीं है, लेकिन जिवकोपार्जन के लिए पान मंडी के बाहर बेच रहें हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें