scorecardresearch
 

कोविड वार्ड में ऑक्सीजन खत्म होने से कोरोना पॉजिटिव महिला ने तोड़ा दम

लुण्ड्रा थाना क्षेत्र के ग्राम बरगीडीह की रहने वाली 75 वर्षीय वृद्धा को 30 दिसंबर को सांस लेने में परेशानी होने के चलते परिजन उसे इलाज के लिए मेडिकल कॉलेज अस्पताल लाए थे. कोविड टेस्ट की जांच में महिला कोरोना पॉजिटिव पाई गई. दोपहर 12 बजे वृद्धा की मौत हो गई. वहीं, इस मामले में मृतका के पोते ने मौत का कारण ऑक्सीजन सिलेंडर का ऑक्सीजन खत्म होना बताया है.

कोविड वार्ड में ऑक्सीजन खत्म होने से कोरोना पॉजिटिव महिला ने तोड़ा दम. कोविड वार्ड में ऑक्सीजन खत्म होने से कोरोना पॉजिटिव महिला ने तोड़ा दम.
स्टोरी हाइलाइट्स
  • छत्तीसगढ़ में एक कोरोना संक्रमित 75 वर्षीय महिला की मौत हो गई
  • परिजनों ने महिला की मौत का कारण ऑक्सीजन खत्म होना बताया
  • परिजनों का आरोप- मैनेजमेंट की गलती की वजह गई दादी की जान

छत्तीसगढ में रायपुर के मेडिकल कॉलेज अस्पताल स्थित कोविड सेंटर में एक कोरोना संक्रमित 75 वर्षीय महिला की मौत हो गई. परिजनों ने महिला की मौत का कारण ऑक्सीजन सिलेंडर का ऑक्सीजन खत्म होना बताया है. ऑक्सीजन खत्म होने पर आनन-फानन में सीएमएचओ कार्यालय के गोदाम से गैस सिलेंडर मंगाया गया, लेकिन तब तक महिला की मौत हो चुकी थी.

लुण्ड्रा थाना क्षेत्र के ग्राम बरगीडीह की रहने वाली 75 वर्षीय वृद्धा को 30 दिसंबर को सांस लेने में परेशानी होने के चलते परिजन इलाज के लिए मेडिकल कॉलेज अस्पताल लाए थे. यहां कोरोना संदिग्ध मानते हुए उसे आइसोलेशन वार्ड में रखा गया था. कोविड टेस्ट की जांच में महिला कोरोना पॉजिटिव पाई गई. इसके बाद उसे कोविड सेंटर के आईसीयू में रखा गया था.

शनिवार की दोपहर 12 बजे वृद्धा की मौत हो गई. वहीं, इस मामले में मृतका के पोते ने मौत का कारण ऑक्सीजन सिलेंडर का ऑक्सीजन खत्म होना बताया है. उसका कहना है कि कोविड सेंटर के अंदर डॉक्टर और स्टाफ बहुत कुशल हैं, लेकिन मैनेजमेंट की कमी के कारण मेरी दादी की मौत हुई है. उनकी ऑक्सीजन खत्म हो गई, फिर उसकी व्यवस्था करने की कोशिश की गई. बाद में, सीएमएचओ ऑफिस के गोदाम से ऑक्सीजन सिलेंडर लाकर लगाया गया, तब तक दादी की मौत हो चुकी थी.

देखें- आजतक LIVE TV

इस घटना से जुड़ा हुआ एक वीडियो वायरल हो रहा है. उस वीडियो में मृतका का पोता भी है. वह डॉक्टरों से बात कर रहा है. वहीं, वीडियो में अगल-बगल के बेड पर जितने भी मरीज भर्ती हैं, सभी ऑक्सीजन खत्म होने को मौत का कारण बता रहे हैं.

दूसरी तरफ मेडिकल अस्पताल अधीक्षक डॉक्टर लखन का कहना है कि ऑक्सीजन सिलेंडर में फ्लो जरूर कम हुआ था. ऑक्सीजन पूरी तरह से बंद नहीं हुआ था, वृद्ध महिला  79 साल की थी और पहले से महिला की स्थिति गंभीर थी. उनको डायबिटीज था, इलाज करने वाले चिकित्सक ने मृत महिला के परिजनों को पहले से ही बता दिया था. मैं नहीं मानता कि केवल ऑक्सीजन की कमी की वजह से मृत्यु हुई है.

मृत महिला के परिजन का कहना है कि उनका गांव बरगीडीह में है. दादी कोरोना पॉजिटिव थी. उनका इलाज 3 दिनों से चल रहा था. हम 30 तारीख को अस्पताल में आए थे. उसके बाद रात में दादी की स्थिति ठीक थी. सुबह मैंने देखा कि ऑक्सीजन लेवल कम था. कुछ देर बाद ऑक्सीजन आना ही बंद हो गया. मैंने  हड़बड़ा कर स्टाफ नर्स से बोला नर्सों ने प्रयास किया, लेकिन मैनेजमेंट की गलती की वजह से ऑक्सीजन समय पर नहीं आया जिसकी वजह से दादी की जान चली गई.

ये भी पढ़ें


 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें