scorecardresearch
 

कोरोना: जांच करने वुहान पहुंची WHO की टीम, पॉजिटिव पाए गए दो वैज्ञानिक सिंगापुर में रोके गए

कोरोना वायरस के ओरिजिन के बारे में पता लगाने के लिए विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के विशेषज्ञों की टीम गुरुवार को सिंगापुर से चीन के वुहान पहुंची. WHO के 13 वैज्ञानिक जांच के लिए पहुंचे हैं.

वुहान पहुंची WHO की टीम (फाइल फोटो) वुहान पहुंची WHO की टीम (फाइल फोटो)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • वुहान पहुंची WHO की टीम
  • कोरोना के ओरिजिन का पता लगाएंगे वैज्ञानिक
  • 2 वैज्ञानिक कोरोना पॉजिटिव पाए गए

महामारी कोरोना वायरस के ओरिजिन के बारे में पता लगाने के लिए विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के विशेषज्ञों की टीम गुरुवार को सिंगापुर से चीन के वुहान पहुंची. WHO के 13 वैज्ञानिक जांच के लिए पहुंचे हैं. हालांकि, दो वैज्ञानिक कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं. उन्हें वुहान जाने से रोक दिया गया. 

WHO ने ट्वीट किया कि कोरोना वायरस के ओरिजिन का पता करने के लिए 13 वैज्ञानिकों की अंतरराष्ट्रीय टीम वुहान पहुंची है. वैज्ञानिक 14 दिन क्वारनटीन पूरा करने के बाद जांच शुरू करेंगे. कोरोना पॉजिटिव पाए गए दो वैज्ञानिक सिंगापुर में हैं. एक रिपोर्ट में कहा गया कि स्क्रीनिंग प्रक्रिया में शामिल चीनी अधिकारियों ने पॉजिटिव पाए गए दोनों वैज्ञानिकों को विमान में चढ़ने से रोक दिया. चीन के विदेश मंत्रालय ने इस पर कहा कि महामारी पर नियंत्रण और सख्ती के कारण ऐसा किया गया है. 

देखें: आजतक LIVE TV

जानकारों का मानना है कि यह काफी अहम है कि काफी दिनों से रुकी इसी जांच को पूरा करने के लिए WHO की टीम वुहान पहुंची है. कोरोना वायरस के कारण दुनिया में अबतक 1,944,750 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है. वायरस के ओरिजिन की जांच को लेकर बीजिंग सवालों के घेरे में रहा है. वुहान में वायरस के ओरिजिन की जांच को लेकर चीन ने अनुमति देने में भी देरी की है. चीन कोरोना वायरस को लेकर कई बार सफाई पेश कर चुका है. 

चीन में फिर कोरोना का कहर

वहीं, चीन में एक बार फिर कोरोना का कहर शुरू हो गया है. आठ महीने बाद चीन में वायरस की चपेट में आकर एक शख्स की मौत हो गई. इससे पहले मई में वायरस के कारण आखिरी मौत हुई थी. चीन के हेबै प्रांत में इन दिनों कोरोना के मामले बढ़ रहे हैं. यही वजह है कि 20 मिलियन की आबादी वाले इस प्रांत में आपातकाल की घोषणा की गई है और सख्त लॉकडाउन लगा दिया गया है. इस प्रांत में कोरोना से आठ महीने बाद मौत हुई है. राष्ट्रीय स्वास्थ्य आयोग ने बताया कि यहां 138 नए मामले सामने आए हैं, जो पिछले साल मार्च के बाद सबसे बड़ा नंबर है.

कोरोना के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए चीन की सरकार ने अभियान शुरू किया है. हेबै प्रांत की राजधानी शहर शीज़ीयाज़ूआंग में परिवहन लिंक, स्कूलों और दुकानों को बंद कर दिया. इसके साथ ही पड़ोसी प्रांत जिंगताई में भी सख्त लॉकडाउन लगाया गया है. इसके शहर लैंगलांग में करीब पांच मिलियन लोग रहते हैं, जो पिछले शुक्रवार से ही घर में बंद हैं.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें