scorecardresearch
 

दिल्ली एयरपोर्ट पर खुली जीनोम सिक्वेंसिंग लैब, कोरोना के नए स्ट्रेन की हो सकेगी जांच

नई दिल्ली एयरपोर्ट पर गुरुवार को जीनोम सिक्वेंसिंग लैब की शुरुआत की गई. यहां अब कोरोना के नए स्ट्रेन की जांच आसानी से की जा सकेगी.

दिल्ली एयरपोर्ट पर खुली नई लैब दिल्ली एयरपोर्ट पर खुली नई लैब
स्टोरी हाइलाइट्स
  • दिल्ली एयरपोर्ट पर खुली जीनोम सिक्वेंसिंग लैब
  • वीके पॉल बोले- दोनों ही वैक्सीन सुरक्षित

देश में कोरोना वायरस के खिलाफ जारी लड़ाई को अब रफ्तार मिलने जा रही है. 16 जनवरी से भारत में देशव्यापी वैक्सीनेशन का काम शुरू हो रहा है. इसी बीच कोरोना के नए स्ट्रेन को पकड़ में लाने का भी काम हो रहा है. नीति आयोग के सदस्य वीके पॉल के मुताबिक, देश की दोनों ही वैक्सीन सुरक्षित हैं किसी को डरने की जरूरत नहीं है.

नई दिल्ली एयरपोर्ट पर गुरुवार को जीनोम सिक्वेंसिंग लैब की शुरुआत की गई. इसी मौके पर डॉ. वीके पॉल ने कहा कि देश में शुरुआती वैक्सीनेशन प्रोग्राम के तहत दोनों ही वैक्सीन दी जाएंगी. वीके पॉल के मुताबिक, दोनों ही वैक्सीन सुरक्षित हैं ऐसे में किसी को भी डरने की जरूरत नहीं हैं.


आपको बता दें कि भारत में भी यूके में पाए गए नए कोरोना स्ट्रेन के मामले मिले हैं. गुरुवार तक देश में इन केसों की संख्या 109 तक पहुंच गई है. अब नई दिल्ली एयरपोर्ट पर भी यूके से आ रहे यात्रियों की जीनोम सिक्वेंसिंग की जा सकेगी.

देखें: आजतक LIVE TV 

कोरोना वैक्सीनेशन का अभियान 16 जनवरी से शुरू हो रहा है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस कार्यक्रम की शुरुआत करेंगे. इसी वजह से 17 जनवरी को होने वाले पोलियो टीकाकरण अभियान को टाल दिया गया था. जिसे अब 31 जनवरी को आयोजित किया जाएगा. जानकारी के मुताबिक, 30 जनवरी को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद इस अभियान की शुरुआत करेंगे, 31 को देशभर में टीका लगाया जाएगा.

भारत में शुरुआती चरण में कुल तीन करोड़ लोगों को वैक्सीन दी जानी है. जिसमें सभी हेल्थ वर्कर्स शामिल होंगे. गुरुवार की शाम तक देश के सभी वैक्सीनेशन सेंटर्स पर वैक्सीन पहुंच जाएगी, जिसके बाद शनिवार को अभियान की शुरुआत की जाएगी. देश में अभी कोविशील्ड, कोवैक्सीन को ही मंजूरी दी गई है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें