scorecardresearch
 

जुनून ने 100 गांवों को दिलाई जलसंकट से मुक्ति

कई बार समस्या बदलाव का कारण बन जाती है, सूखा, पलायन और भुखमरी के लिए बदनाम बुंदेलखंड के कुछ इलाकों में भी ऐसा ही हुआ है, यहां के कुछ लोगों पर छाए बदलाव के जुनून ने 100 से अधिक गांव को जलसंकट से न केवल मुक्ति दिला दी है, बल्कि लोगों की जिदंगी में भी बदलाव ला दिया है.

कोशिशों ने बदली तस्वीर कोशिशों ने बदली तस्वीर

कई बार समस्या बदलाव का कारण बन जाती है, सूखा, पलायन और भुखमरी के लिए बदनाम बुंदेलखंड के कुछ इलाकों में भी ऐसा ही हुआ है, यहां के कुछ लोगों पर छाए बदलाव के जुनून ने 100 से अधिक गांव को जलसंकट से न केवल मुक्ति दिला दी है, बल्कि लोगों की जिदंगी में भी बदलाव ला दिया है.

यूपी के 13 जिले
बुंदेलखंड में उत्तर प्रदेश के सात और मध्य प्रदेश के सात कुल मिलाकर 13 जिले आते हैं. यह इलाका हमेशा ही समस्याओं की जद में रहा है. यहां का हाल यह है कि औसतन हर तीन से पांच वर्ष के बीच में सूखा पड़ जाता है, जिसके चलते लोगों को खेतों से खाने तक को अनाज नहीं मिलता, नतीजतन रोजगार की तलाश में हजारों परिवार पलायन को मजबूर होते हैं. इतना ही नहीं फसल की बर्बादी पर हर वर्ष सैकड़ों किसान जान तक दे देते हैं.

नौजवानों ने की पहल
इन स्थितियों से वाकिफ जालौन जिले के मिर्जापुर गांव के पांच नौजवानों ने पढ़ाई पूरी करने के बाद वर्ष 1995 में सूखा की समस्या से मुक्ति दिलाने के लिए गांवों को पानीदार बनाने के अभियान की शुरुआत की, इस अभियान को शुरुआत में समस्याओं के दौर से गुजरना पड़ा, क्योंकि कोई भरोसा ही नहीं करता था कि गांव को पूरे साल पानी भी मिल सकता है.

जल-जन जोड़ो अभियान
जल-जन जोड़ो अभियान के संयोजक संजय सिंह ने बताया कि युवाओं की टोली का मानना था कि सच्ची आजादी तभी है, जब कमजोर और जरुरतमंद तबके की जरुरतें पूरी हों, इसी को ध्यान में रखकर चंबल और बुंदेलखंड के गांवों में समाज सेवा की ठानी. यह काम उस इलाके में आसान नहीं था, क्योंकि उस दौर में वह क्षेत्र डकैत समस्याग्रस्त था. इसका नतीजा यह हुआ कि जब इस इलाके में काम करने की कोशिश की, तो लोगों ने हमें डकैत का एजेंट माना. उनका यह भ्रम तोड़ने में तीन वर्ष का समय लग गया.

शुरुआती दौर मुश्किल भरा
उनके समाजसेवा के काम के पहले सात वर्ष अर्थात 1995 से 2002 तक का समय काफी मुश्किल भरा रहा. वर्ष 2002 में लोगों की अपेक्षा थी कि दवाई और पढ़ाई से ज्यादा उनके लिए पानी जरूरी है. उस दौरान करमरा गांव की प्रधान मूला देवी ने उन लोगों से कहा, 'अगर आप लोग पानी का इंतजाम कर देते हैं तो हमें किसी चीज की जरूरत नहीं है.'

शादियां तक नहीं होती थी
उसकी कही बात अंदर तक छू गई. उसी के चलते पास से गुजरी पहुज नदी का पानी गांव तक लाने का अभियान चलाया, एक पंप के सहारे पानी को ऊपर लाए और पाइप के जरिए खेतों तक पहुंचाया. इस कोशिश ने गांव की तस्वीर बदल दी. पानी मिलने से पैदावार कई गुना बढ़ गई. दूसरी ओर, हैंडपंप लगने से लोगों को साल भर पानी मिलने लगा. यह ऐसा गांव था जहां लोग अपनी बेटी को ब्याहने के लिए तैयार नहीं होते थे.

20 साल से जारी है कोशिश
बीते 20 वर्ष से बुंदेलखंड में पानी के लिए काम कर रहे संजय सिंह ने बताया कि इस इलाके के छह जिलों जालौन, हमीरपुर, ललितपुर, झांसी, छतरपुर व टीकमगढ़ में उनकी संस्था परमार्थ समाज सेवा संस्थान 100 से ज्यादा गांव में स्थाई तौर पर पानी का इंतजाम करने में सफल रही है. विभिन्न अनुदान देने वाली संस्थाओं की मदद से उन्होंने 80 से ज्यादा तालाब और 800 से ज्यादा अन्य जल संरचनाओं का निर्माण कराया है.

इनपुट...IANS.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें