scorecardresearch
 
यूटिलिटी

मोदी राज में ऐसे आई शेयर बाजार में बहार, 25 हजार से चला सेंसेक्स हुआ 60 हजार पार

शेयर बाजार ने शुक्रवार को इतिहास रच दिया
  • 1/7

भारतीय शेयर बाजार (Indian Share Market) ने शुक्रवार 24 सितंबर, 2021 को इतिहास रच दिया. सेंसेक्स (BSE Sensex) ने पहली बार 60 हजार का आंकड़ा पार किया है. करीब 41 साल पहले ही 100 के आधार अंक से शुरू हुआ सेंसेक्स साल 2014 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में सरकार बनने पर 25 हजार तक पहुंचा था और इसी राज के सात साल के भीतर 60 हजार तक पहुंच गया. आइए जानते हैं किस तरह से पिछले सात साल में सेंसेक्स ने यह यात्रा की है? (फाइल फोटो: Getty Images)

एश‍िया का सबसे पुराना स्टॉक एक्सचेंज
  • 2/7

देश में शेयर बाजार और इनके कारोबार काफी पहले से चल रहे हैं. बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (जिसे अब BSE लिमिटेड कहा जाता है) कि स्थापना 1875 में ही हो गई थी. यह एश‍िया का सबसे पुराना स्टॉक एक्सचेंज है. लेकिन 30 शेयरों वाले बीएसई के सूचकांक सेंसेक्स का गठन 1 अप्रैल 1979 को हुआ. तब इसका सूचकांक 100 माना गया और इसका बेस ईयर 1978-79 को माना गया. सेंसेक्स असल में सेंसेटिव इंडेक्स का शॉर्ट फॉर्म है. सेंसेक्स में 30 दिग्गज और सबसे सक्रिय कारोबार वाली कंपनियों के शेयरों को रखा जाता है. इसे भारतीय शेयर बाजार की धड़कन माना जाता है.  (फाइल फोटो)

एनडीए की सरकार बनने से उत्साह का माहौल
  • 3/7

साल 2014 में नरेंद्र मोदी के आगमन का बाजार ने किया स्वागत

साल 2013 में बीएसई सेंसेक्स 18 जनवरी 2013 को 20 हजार के पार बंद हुआ था. लेकिन इसके 20 से 25 हजार तक पहुंचने में सिर्फ डेढ़ साल लगे. साल 2014 में केंद्र में नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में एनडीए की सरकार बनी. इससे शेयर बाजार में भी उत्साह का माहौल बना. 16 मई 2014 को ही सेंसेक्स 25,364 के स्तर तक पहुंच गया था, हालांक‍ि यह बंद 25 हजार से नीचे हुआ. 5 जून 2014 को सेंसेक्स 25019.51 पर बंद हुआ. इसके बाद सेसेंक्स को 25 हजार से 30 हजार तक पहुंचने में तीन साल और लगे. (फाइल फोटो: AP)

साल 2017 में 30 हजार का स्तर
  • 4/7

साल 2017 में 30 हजार का स्तर

साल 2017 के अप्रैल महीने में सेंसेक्स 30133.35 तक पहुंच गया. अगले एक साल में ही सेंसेक्स 35 हजार के लेवल पर पहुंच गया. 17 जनवरी 2018 को सेंसेक्स 35081.82 पर बंद हुआ. अगले करीब 22 महीने लगे फिर सेंसेक्स को 40 हजार के स्तर तक पहुंचने में. 30 अक्टूबर 2019 को सेंसेक्स 40051.87 के स्तर पर पहुंच गया. (फाइल फोटो: Reuters)

कोरोना संकट के दौरान उतार-चढ़ाव 
  • 5/7

कोरोना संकट के दौरान जबरदस्त उतार-चढ़ाव 

लेकिन इसके बाद साल 2020 का कोरोना का भयावह दौर आ गया. जनवरी 2020 में 42 हजार के करीब पहुंच गया सेंसेक्स मार्च 2020 में लॉकडाउन के बाद धराशायी होकर 25981.24 तक पहुंच गया. हालांकि अप्रैल के अंत और मई से फिर सेंसेक्स तेजी आने लगी. फाइल फोटो: Getty Images)

फिर आया बाजार में बहार
  • 6/7

15 महीने से कम समय में 40 से 50 हजार 

30 अक्टूबर 2019 को सेंसेक्स पहली बार 40 हजार के पार बंद हुआ था. लेकिन कोरोना संकट के दौर में लोगों के पास निवेश के बहुत कम साधन रह गये और विदेशी निवेशकों को भी भारत के शेयर बाजार में पैसा लगाना आकर्षक लगने लगा. तो विदेशी निवेश प्रवाह और घरेलू निवेशकों के दम पर सेंसेक्स करीब एक साल में ही 40 से 45 हजार तक पहुंच गया. 4 दिसंबर, 2020 को सेंसेक्स 45079.55 तक पहुंच गया. इसक बाद करीब डेढ़ महीने में ही 21 जनवरी 2021 को सेंसेक्स 50 हजार के पार पहुंच गया. (फाइल फोटो)

60 हजार के आंकड़े तक पहुंचा
  • 7/7

सिर्फ आठ महीने  में 50 से 60 हजार 

सेंसेक्स को 50 हजार से 60 हजार के आंकड़े तक पहुंचने में सिर्फ 8 महीने लगे. 21 जनवरी 2021 को 50 हजार के पार पहुंचा सेंसेक्स आज यानी 24 सितंबर 2021 को 60 हजार का आंकड़ा पार कर चुका है. चीन की एक रियल एस्टेट कंपनी Evergrande दिवालिया होने की कगार पर है और इसका असर पूरी दुनिया के शेयर बाजारों (Share Market) पर पड़ा है. इसके बावजूद भारतीय बाजार ने बेहतरीन प्रदर्शन किया है. (फाइल फोटो: AFP)