scorecardresearch
 
यूटिलिटी

सपने साकार करने की मोदी सरकार की मुद्रा योजना, बिना गारंटी 10 लाख रुपये तक लोन

मुद्रा योजना के 6 साल पूरे
  • 1/7

प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के तहत देश के युवाओं को अपना खुद का कारोबार शुरू करने के लिए बिना गारंटी के बैंकों से लोन उपलब्ध कराया जाता है. इस योजना की शुरुआत आज से ठीक 6 साल पहले 8 अप्रैल 2015 को हुई थी. (Photo: File)

10 लाख रुपये तक लोन का प्रावधान
  • 2/7

मुद्रा योजना में तीन तरह के लोन दिए जाते हैं. शिशु मुद्रा लोन (50,000 रुपये तक), किशोर मुद्रा लोन (50,001 रुपये से 5 लाख रुपये तक) और तरुण मुद्रा लोन (5,00,001 रुपये से 10 लाख रुपये तक) में दिया जाता है. (Photo: File)

 6 वर्ष के आंकड़े
  • 3/7

वित्त मंत्रालय के मुताबिक बैंकों और वित्तीय संस्थानों ने प्रधानमंत्री मुद्रा योजना (PMMY) के तहत पिछले 6 वर्षों में 28.68 करोड़ से अधिक लाभार्थियों को 14.96 लाख करोड़ रुपये दिए हैं. इस योजना को छोटे व्यवसायों को प्रोत्साहित करने के लिए शुरू किया गया था. (Photo: File)

युवा उद्यमियों को प्रोत्साहित करने के लिए लोन
  • 4/7

वित्त मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि नए उद्यमियों से लेकर कड़ी मेहनत करने वाले किसानों तक सभी के वित्तीय जरूरतों को पूरा किया गया है. इसके लिए एक महत्वपूर्ण पहल प्रधानमंत्री मुद्रा योजना (पीएमएमवाई) है, जिसने सपनों को साकार करने का काम किया है. (Photo: File)
 

कर्ज का औसत आकार लगभग 52,000 रुपये
  • 5/7

बयान में कहा गया कि 2020-21 में 4.20 करोड़ PMMY कर्ज मंजूर किए गए और 19 मार्च 2021 तक 2020-21 के लिए 2.66 लाख करोड़ रुपये आवंटित किए जा चुके हैं. कर्ज का औसत आकार लगभग 52,000 रुपये है. (Photo: File)

सबसे अधिक करीब 88 फीसदी शिशु लोन
  • 6/7

मुद्रा योजना के तहत करीब 88 फीसदी शिशु लोन दिए गए हैं. करीब 24 प्रतिशत ऋण नए उद्यमियों को दिए गए हैं. लगभग 68 प्रतिशत ऋण महिला उद्यमियों को दिये गए हैं. करीब 51 प्रतिशत ऋण अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति/ अन्य पिछड़े वर्गों को दिये गए हैं. लगभग 11 प्रतिशत ऋण अल्पसंख्यक समुदाय के व्यक्तियों को दिए गए हैं. (Photo: File)

मुद्रा लोन से रोजगार के अवसर बढ़े
  • 7/7

श्रम और रोजगार मंत्रालय द्वारा किए गए सर्वेक्षण के अनुसार, पीएमएमवाई ने 2015 से 2018 तक 1.12 करोड़ कुल अतिरिक्त रोजगार सृजन में सहायता की है. रोजगार में अनुमानित वृद्धि के 1.12 करोड़ में से 69 लाख महिलाएं (62 प्रतिशत) शामिल हैं. (Photo: File)