scorecardresearch
 
यूटिलिटी

आपका हेल्थ इंश्योरेंस कवर करेगा ब्लैक, व्हाइट या Yellow फंगस का इलाज? पाएं पूरी जानकारी

तेजी से बढ़ रहे फंगस के मामले
  • 1/10

कोरोना की दूसरी लहर के बीच म्यूकॉरमाइकोसिस के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं. म्यूकॉरमाइकोसिस को आम भाषा में ब्लैक फंगस भी कहा जाता है. इसके अलावा व्हाइट और येलो फंगस के भी मामले सामने आए हैं. ऐसे में ये जानना बेहद जरूरी है कि क्या आपका हेल्थ इंश्योरेंस इसके इलाज को कवर करता है, कौन-कौन से इंश्योरेंस इसे कवर करते हैं और कौन से नहीं...
(All Photos : Getty)
 

कोरोना स्पेसिफिक पॉलिसी नहीं करती कवर
  • 2/10

पॉलिसी बाजार डॉट कॉम के हेल्थ इंश्योरेंस प्रमुख अमित छाबड़ा का कहना है कि कोरोना काल में कई बीमा कंपनियों ने कोविड स्पेशल हेल्थ इंश्योरेंस की पेशकश की थी. कई लोगों ने इन्हें हाथों हाथ लिया, लेकिन उन्हें पता होना चाहिए कि ये पॉलिसी फंगल इंफेक्शन के इलाज को कवर नहीं करती है. क्या कोरोना कवच या रक्षक करती हैं कवर?

कोरोना कवच और रक्षक भी नहीं करती कवर
  • 3/10

कोरोना काल में IRDAI ने दो सरल कोविड-19 पॉलिसी पेश की थी. कोरोना कवच और कोरोना रक्षक नाम की इन दो पॉलिसियों को सभी बीमा कंपनियों से बेचने के लिए कहा गया. लेकिन ये पॉलिसियां भी ब्लैक या अन्य तरह के फंगस के इलाज को कवर नहीं करती, बल्कि सिर्फ कोविड-19 या उससे जुड़े इलाज के खर्चों को कवर करती है. कौन सी पॉलिसी करती है कवर? (File Photo : Aajtak)

आपकी कंप्रिहेंसिव पॉलिसी करती है कवर
  • 4/10

जब कोरोना स्पेशल पॉलिसी ब्लैक या अन्य फंगस के इलाज को कवर नहीं करती तो कौन सी पॉलिसी करती है. तो हम आपको बतों दें कि आपका कंप्रिहेंसिव हेल्थ इंश्योरेंस फंगल इंफेक्शन के इलाज को कवर करता है. इसलिए आपको कोई अलग हेल्थ् इंश्योरेंस लेने की जरूरत नहीं. लेकिन क्या शर्तें होंगी ब्लैक फंगस के इलाज के लिए?

फंगस के इलाज के लिए करना होगा 30 दिन का इंतजार
  • 5/10

पॉलिसी बाजार के अमित छाबड़ा कहते हैं कि यदि आपकी हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी नई है, तो बीमा म्यूकॉरमाइकोसिस के इलाज को 30 दिन बाद ही कवर करेगा जैसा अन्य बीमारियों के संदर्भ में होता है. यानी आपको 30 दिन का वेटिंग पीरियड मानना ही होगा.

राज्य सरकारों ने आयुष्मान भारत में शामिल किया
  • 6/10

ब्लैक या अन्य फंगस के 1.5 लाख रुपये तक के इलाज खर्च को महाराष्ट्र सरकार ने सरकारी स्वास्थ्य बीमा योजनाओं जैसे कि प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना और महात्मा ज्योतिराव फुले जन आरोग्य योजना में शामिल किए जाने का निर्णय किया है. वहीं राजस्थान सरकार ने चिरंजीव योजना इंश्योरेंस स्कीम में निजी अस्पतालों में इलाज की अधिकतम दरें तय की है. (File Photo : Aajtak)

स्टार हेल्थ ने की पुष्टि
  • 7/10

हेल्थ इंश्योरेंस ब्लैक या अन्य फंगस के इलाज को कवर करेंगे इसकी पुष्टि खुद स्टार हेल्थ एंड एलाइड इंश्योरेंस के मैनेजिंग डायरेक्टर डॉक्टर एस. प्रकाश ने की है. उनका कहना है, ‘‘ बीमा कंपनियां फंगल इंफेक्शन के नाम पर लोगों को क्लेम देने से मना नहीं कर सकती. माना कि इसका इलाज महंगा है लेकिन बीमा कंपनियों को इसे कवर करना ही होगा.’ क्या रिजेक्ट हो सकता है क्लेम?

किस शर्त पर रिजेक्ट हो सकता है क्लेम?
  • 8/10

डॉक्टर प्रकाश कहते हैं कि ब्लैक फंगस के कुछ मामलों में क्लेम रिजेक्ट भी हो सकता है. यह क्लेम कुछ विवादास्पद सर्जरी के चलते रिजेक्ट हो सकता है जैसे कि बीमित व्यक्ति की कोई सर्जरी होनी नहीं थी फिर भी उसे किया गया.

हर दिन आ रहे 1800 फंगल इंफेक्शन के क्लेम
  • 9/10

ब्लैक फंगस के बढ़ते खतरे का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि स्टार हेल्थ को हर दिन लगभग 2,000 कोरोना से जुड़े क्लेम आ रहे हैं. इनमें से 90 प्रतिशत किसी ना किसी फंगस के इलात से जुड़े हैं. फंगल इंफेक्शन के बढ़ते खतरे को देखते हुए कई राज्यों ने इसे भी महामारी घोषित कर दिया है.  

बीमा धारक ठीक से पढ़ें शर्तें
  • 10/10

बीमाधारकों को अपनी हेल्थ इंश्योरेंस की शर्तें ठीक से पढ़नी चाहिए, विशेषकर नई पॉलिसी लेते वक्त. इतना ही नहीं यदि उन्हें पहले से कोई बीमारी है तो उसकी सूचना भी देनी चाहिए. फंगल इंफेक्शन का इलाज कोविड-19 के इलाज से कई गुना महंगा है, इसलिए आपके पास ठीक-ठाक राशि का हेल्थ इंश्योरेंस होना चाहिए.