scorecardresearch
 
यूटिलिटी

BPCL की तीसरी तिमाही में बंपर कमाई, सरकार सबसे पहले इसे ही बेचने की तैयारी में

BPCL को बेचने की तैयारी
  • 1/8

पिछले कुछ दिनों से देश की दूसरी सबसे बड़ी तेल कंपनी भारत पेट्रोलियम कॉरपोरेशन लिमिटेड (BPCL) चर्चा में है. सरकार की विनिवेश की लिस्ट में यह सरकारी कंपनी सबसे ऊपर है. सरकार को उम्मीद है कि BPCL की बिक्री से विनिवेश का लक्ष्य थोड़ा आसान हो जाएगा. यही नहीं, इस कंपनी की बिक्री में कम अड़चनें आने की संभावना है. सरकार ने वित्त-वर्ष 2021-22 में विनिवेश से 1.75 लाख करोड़ रुपये जुटाने का लक्ष्य रखा है. 

 BPCL के मुनाफे में जोरदार उछाल
  • 2/8

दरअसल, कोरोना संकट के दौरान BPCL ने जबर्दस्त मुनाफा कमाया है. अब अक्टूबर-दिसंबर तिमाही में कंपनी का शुद्ध मुनाफा 120 फीसदी उछलकर 2,777.6 करोड़ रुपये पहुंच गया है. इससे पहले 2019-20 की इसी तिमाही में कंपनी को 1,260.6 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ हुआ था.

जून तिमाही में बीपीसीएल का मुनाफा लगभग 2,076 करोड़ रुपये था. जबकि दूसरी तिमाही में मुनाफा 2,247 करोड़ रुपये रहा था. जानकारी के मुताबिक तेल के दामों में भारी उछाल आया है, और कंपनी के पास पहले से जो स्टॉक थे, उसे बेचने पर मुनाफा बढ़ा है. (Photo: File)

पेट्रोल-डीजलों की कीमतों में उछाल
  • 3/8

पेट्रोल-डीजलों की कीमतों में अच्छी-खासी बढ़ोतरी देखी जा रही है. मंगलवार को दिल्ली में पेट्रोल 87.30 रुपये और डीजल 77.48 रुपये लीटर हो गया है. इसी तरह मुंबई में पेट्रोल 93.83 रुपये और डीजल 84.36 रुपये लीटर, चेन्नै में पेट्रोल 89.70 रुपये और डीजल 82.66 रुपये लीटर तथा कोलकाता में पेट्रोल 88.63 रुपये और डीजल 81.06 रुपये लीटर हो गया है. (Photo: File)

BPCL के लिए मिली तीन बोलियां
  • 4/8

सरकार को BPCL के लिए तीन बोलियां मिली हैं. इसे खरीदने की दौड़ में माइनिंग क्षेत्र की दिग्गज कंपनी वेदांता के अलावा अमेरिका की दो प्राइवेट इक्विटी इनवेस्टर्स फर्म अपोलो ग्लोबल मैनेजमेंट और आई स्कावयर्ड कैपिटल की इकाई थिंक गैस शामिल है. BPCL की मजबूत बैलेंस शीट खरीदारों को लुभाने वाली है. सूत्रों के मुताबिक सितंबर-2021 तक BPCL का विनिवेश पूरा कर लिया जाएगा. (Photo: File)

कंपनी को 76 करोड़ रुपये का विदेशी विनिमय लाभ
  • 5/8

बीपीसीएल के निदेशक (वित्त) एन विजय गोपाल ने बताया कि चालू वित्त वर्ष में लाभ के रूप में तीसरी तिमाही काफी बेहतर रही है. कंपनी बिक्री के मामले में कोविड पूर्व स्तर पर आ गई है. कंपनी को पहले के बचे तेल से 771 करोड़ रुपये का लाभ हुआ है. कंपनी ने ईंधन तैयार करने के लिए कच्चा तेल कम दाम पर खरीदा था. लेकिन बाद में दाम बढ़ने से उसे ऊंचे मूल्य पर बेचा. इसके अलावा कंपनी को 76 करोड़ रुपये का विदेशी विनिमय लाभ भी हुआ है. (Photo: File)

बीपीसीएल की देश में चार रिफाइनरी
  • 6/8

बीपीसीएल की देश में चार रिफाइनरी हैं. उसने अक्टूबर-दिसंबर तिमाही में प्रत्येक एक बैरल कच्चे तेल को ईधन में तब्दील करने पर 2.47 डॉलर का लाभ कमाया. कंपनी की बिक्री 1.4 प्रतिशत बढ़कर 86,579.9 करोड़ रुपये रही. पेट्रोलियम उत्पादों की बिक्री चालू वित्त वर्ष की तीसरी तिमाही में 1.110 करोड़ टन रही जो 2019-20 की इसी तिमाही में 1.102 करोड़ टन से अधिक है. ईंधन मांग 2020 के मुकाबले 2021 में बेहतर रहेगी तथा 2022 में इसमें और सुधार होगा. (Photo: File)

BPCL के देशभर में करीब 17,138 पेट्रोल पंप
  • 7/8

BPCL में हिस्सेदारी बेचने से सरकार को करीब 60 हजार करोड़ रुपये मिल सकते हैं. बीपीसीएल में सरकार की कुल 52.98 प्रतिशत हिस्सेदारी है. सरकार अपनी पूरी हिस्सेदारी बेचने की तैयारी में है. BPCL के देशभर में करीब 17,138 पेट्रोल पंप हैं. 

मालिकाना हक भी सौंपने को तैयार सरकार
  • 8/8

सरकार के पास कंपनी के 114.91 करोड़ शेयर हैं. सरकार का ऐलान कर दिया है कि BPCL के रणनीतिक खरीदार को कंपनी का प्रबंधन नियंत्रण भी ट्रांसफर किया जाएगा, यानी मालिकाना हक भी खरीदार के पास चला जाएगा.  (Photo: File)