scorecardresearch
 

ICU में पहुंची देश की अर्थव्‍यवस्‍था, रुपया हुआ डॉलर के आगे पस्त

भारतीय अर्थव्‍यवस्‍था में बदहाली का दौर फिलहाल थमता नजर नहीं आ रहा है. रुपये में कमजोरी का असर शेयर बाजार में भी देखा जा रहा है. बुधवार को सेंसेक्‍स 28.07 अंक बढ़कर 17,996.15 अंक पर बंद हुआ. दूसरी ओर निफ्टी 2.45 अंकों की गिरावट के साथ 5285 अंक पर बंद हुआ.

भारतीय अर्थव्‍यवस्‍था में बदहाली का दौर फिलहाल थमता नजर नहीं आ रहा है. रुपये में कमजोरी का असर शेयर बाजार में भी देखा जा रहा है. बुधवार को सेंसेक्‍स 28.07 अंक बढ़कर 17,996.15 अंक पर बंद हुआ. दूसरी ओर निफ्टी 2.45 अंकों की गिरावट के साथ 5285 अंक पर बंद हुआ.

गौरतलब है कि मंगलवार को सेंसेक्‍स 519 अंक गिरकर बंद हुआ था. बाजार पर रुपये में गिरावट का असर साफ देखा जा सकता है.

रुपया 68.75 के नए ऐतिहासिक निचले स्तर पर
माह के आखिर में तेल आयातकों के बीच डॉलर की मांग बढ़ने के कारण देश की मुद्रा रुपया बुधवार को डॉलर के मुकाबले गिरावट दर्ज करते हुए 68.75 के नए ऐतिहासिक निचले स्तर पर पहुंच गया. इससे पहले रुपया मंगलवार को प्रति डॉलर 66.25 के ऐतिहासिक निचले स्तर पर और सोमवार को 64.72 के स्तर पर बंद हुआ था.

भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा हस्तक्षेप करने के बाद मुंबई के अंतर-बैंक विदेशी मुद्रा बाजार में दोपहर 2.55 बजे रुपया थोड़ा संभल कर डॉलर के मुकाबले 67.79 पर कारोबार करते देखा गया.

कई कारणों से रुपये में गिरावट
मुद्रा के जानकारों के मुताबिक, आयातकों के बीच डॉलर की मांग बढ़ना और देश की कमजोर अर्थव्यवस्था में विदेशी निवेशकों की रुचि कम होना रुपये में गिरावट की मुख्य वजह है.

माह के आखिर में तेल आयातकों की मांग और निजी ऑर्डर के कारण दिन की शुरुआत में 30-40 करोड़ डॉलर की मांग होने के कारण भी डॉलर की मांग बढ़ी.

कोटक सिक्युरिटीज के मुद्रा विशेषज्ञ अनिंद्य बनर्जी ने कहा, 'कई मुद्दे रुपये को प्रभावित कर रहे हैं, जैसे राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा विधेयक को पेश करने का गलत समय, सीरिया में तनाव और अमेरिका द्वारा हस्तक्षेप करने की संभावना तथा तेल कीमत पर इसका असर.'

सोमवार को लोकसभा में पारित खाद्य सुरक्षा विधेयक को लागू करने में करीब 1.3 लाख करोड़ (20 अरब डॉलर) का खर्च आएगा. मौजूदा कारोबारी साल की पहली तिमाही के लिए विकास दर के कमजोर आंकड़े आने की आशंका के कारण भी रुपये में गिरावट दर्ज की जा रही है.

उद्योग संघ एसोसिएटेड चैंबर्स ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री ऑफ इंडिया (एसोचैम) ने यह सलाह दी कि दुनिया की प्रमुख अर्थव्यवस्थाओं को एक बैठक कर यह सोचना चाहिए कि फेडरल रिजर्व के एकपक्षीय फैसले का सामना कैसे किया जाए, जिसके कारण दुनिया भर में शेयर बाजार और मुद्राओं पर नकारात्मक असर देखा जा रहा है.

सरकारी उपाय अब तक नाकाफी
मंगलवार को वाणिज्य मंत्री आनंद शर्मा ने कहा कि सरकार अपने प्रमुख व्यापारिक साझेदारों के साथ मुद्रा स्वैप समझौता करने पर विचार कर रही है. अभी जापान के साथ 15 अरब डॉलर और भूटान के साथ 10 करोड़ डॉलर का स्वैप समझौता है. चीन और दक्षिण कोरिया ने भी भारत के साथ इस समझौते में रुचि दिखाई है.

सोना में आया और निखार
वैश्विक बाजार में तेजी के रुख के बीच रुपये में गिरावट और कारोबारियों द्वारा स्टॉक बढा़ए जाने के कारण मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज में बुधवार को सोना वायदा 34,000 रुपये प्रति 10 ग्राम के उच्चतम स्तर पर पहुंच गया. बाजार विश्लेषकों ने बताया कि शेयर बाजार में बदहाली और रुपये में रिकार्ड गिरावट के कारण सोना में सुधार आया.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें