scorecardresearch
 

हवाई टिकट के लिए आधार-पैनकार्ड-पासपोर्ट की डिजिटल पहचान जरुरी करने पर विचार

नागर विमानन राज्यमंत्री जयंत सिन्हा ने गुरुवार को कहा कि मंत्रालय की योजना हवाई यात्रा टिकट बुक कराते वक्त विशेष डिजिटल पहचान शुरू करने की है.

आधार होगा जरुरी आधार होगा जरुरी

हवाई यात्रा को कागज रहित बनाने के सरकारी प्रयासों के चलते हवाई यात्रियों को जल्द ही विमान टिकट बुक कराते वक्त आधार, पैन या पासपोर्ट संख्या जैसी डिजिटल पहचान जानकारियां साझा करनी होंगी. नागर विमानन राज्यमंत्री जयंत सिन्हा ने गुरुवार को कहा कि मंत्रालय की योजना हवाई यात्रा टिकट बुक कराते वक्त विशेष डिजिटल पहचान शुरू करने की है. मौजूदा समय में हवाई यात्रियों को हवाईअड्डे पर प्रवेश के समय अपने पहचानपत्र की एक प्रतिलिपि रखने की आवश्यकता होती है.

सिन्हा ने कहा कि अब हवाई यात्रियों के आधार, पैन या पासपोर्ट संख्या जैसी किसी विशेष डिजिटल पहचान से उनकी पहचान सुनिश्चित करने का प्रस्ताव है. नागर विमानन मंत्रालय ने एक डिजिटल यात्री कार्यकारी समूह बनाया है ताकि इस योजना को लागू करने के सुझाव मिल सकें. सिन्हा ने कहा कि 30 दिन के भीतर समूह एक श्वेत पत्र लाएगा और नियमों को अंतिम रूप देने से पहले हितधारकों से सुझाव लिए जाएंगे.

उन्होंने कहा कि इस पहल के तहत आधार को अनिवार्य नहीं बनाया जाएगा बल्कि इसे डिजिटल पहचान के अन्य विकल्पों में से एक के तौर पर रखा जाएगा. उन्होंने कहा कि यह एक ऐच्छिक पहल है ना कि अनिवार्य। यात्रियों के पास अभी भी बोर्डिंग पास के साथ यात्रा करने का विकल्प है जो उनकी इच्छा पर निर्भर करता है.

सिन्हा बोले कि यदि यात्री डिजिटल प्रणाली का उपयोग करते हैं तो उन्हें हवाईअड्डे की सुरक्षा जांच इत्यादि को पार करने में मात्र 10-15 मिनट का वक्त लगेगा जिसमें अभी 20-30 मिनट तक लगते हैं. हमारा मानना है कि यह डिजिटल प्रणाली लोगों के लिए फायदेमंद होगा. उन्होंने कहा कि यह एक ऐच्छिक पहल है ना कि अनिवार्य। यात्रियों के पास अभी भी बोर्डिंग पास के साथ यात्रा करने का विकल्प है जो उनकी इच्छा पर निर्भर करता है. सिन्हा ने कहा कि नागर विमानन आवश्यकता सीएआर या नए नियम तैयार किए जाएंगे जिसमें विशिष्ट पहचान को टिकट बुकिंग के दौरान अनिवार्य आवश्यकता बनाया जाएगा.

उन्होंने कहा कि यह प्रणाली उन अभद्र यात्रियों की प्रस्तावित सूची बनाने में भी मदद करेगा जिन पर उड़ान भरने से रोक लगायी जाएगी. और यह उनको ट्रैक करने में मदद करेगा, तकनीकी समिति विभिन्न यात्रा पोर्टलों, हवाई अड्डों, विमानन कंपनियों, सुरक्षा एजेंसियों, पार्किंग इत्यादि के साथ डाटा साझा करने के बारे में भी सुझाव देगी. सिन्हा ने बताया कि डिजिटल माध्यम से यात्रा करवाना हवाईअड्डों के लिए अनिवार्य नहीं होगा.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें