scorecardresearch
 

Milk Price Maharashtra: फुल क्रीम दूध बढ़कर हुआ 66 रुपये लीटर, नई दरें आज से लागू

गोकुल डेयरी ने पिछले 15 महीनों में तीसरी बार दूध की कीमतों में इजाफा किया है. 18 जुलाई से दूध के पैक प्रोडक्ट- दही, लस्सी, पनीर और छाछ पर जीएसटी लगने लगा है. इस वजह से पिछले महीने अमूल ने भी अपने प्रोडक्ट की कीमतों में इजाफा किया था.

X
दूध की कीमतों में इजाफा
दूध की कीमतों में इजाफा
स्टोरी हाइलाइट्स
  • मुंबई-पुणे में बढ़ी दूध की कीमतें
  • अमूल ने बढ़ाए थे अपने प्रोडक्ट के रेट

लोगों को महंगाई (Inflation) से राहत मिलती नजर नहीं आ रही है. आज से महाराष्ट्र (Maharashtra) में दूध की कीमतें बढ़ गई हैं. राज्य की सहकारी संस्था गोकुल डेयरी (Gokul Dairy) ने एक अगस्त से मुंबई और पुणे समेत अपने सभी केंद्रों पर फुल क्रीम दूध की कीमतों (Full Cream Milk Price) में दो रुपये प्रति लीटर का इजाफा किया है. इस बढ़ोतरी के बाद मुंबई में अब एक लीटर फुल क्रीम दूध 66 रुपये में मिलेगा. गोकुल डेयरी ने पिछले 15 महीनों में तीसरी बार दूध की कीमतों में इजाफा किया है.

इस वजह से बढ़े दाम

डेयरी की ओर से बयान में कहा गया है कि गाय के दूध और टोंड दूध की कीमतों में किसी भी तरह का इजाफा नहीं किया गया है. किसानों से दूध खरीदने के रेट दो रुपये लीटर बढ़ाए गए हैं. इस वजह से उपभोक्ताओं के लिए भी कीमतों में इजाफा हुआ है. डेयरी के अधिकारी ने कहा कि पशुओं के लिए इस्तेमाल होने वाले चारे के रेट में इजाफा हुआ है, जिसका असर दूध की कीमतों पर दिख रहा है.

गोकुल डेयरी के अध्यक्ष विश्वास पाटिल के अनुसार, नई दरें सोमवार से लागू हो जाएंगी. पशु आहार की लागत में वृद्धि के कारण, डेयरी उत्पादकों को पशुपालन का खर्च वहन करना मुश्किल हो रहा है. इसलिए भैंस और गाय के दूध के खरीद मूल्य में बढ़ोतरी करने का फैसला किया गया है.

अमूल ने बढ़ाए थे अपने प्रोडक्ट के रेट

18 जुलाई से दूध के पैक प्रोडक्ट- दही, लस्सी, पनीर और छाछ पर जीएसटी लगने लगा है. इस वजह से पिछले महीने अमूल ने भी अपने प्रोडक्ट की कीमतों में इजाफा किया था. अमूल ने दही, मट्ठा, फ्लेवर्ड दूध समेत मिल्क प्रोडक्ट्स के रेट बढ़ा दिए थे. सरकार पैक्ड डेयरी प्रोडक्ट पर पांच फीसदी की दर से जीएसटी वसूल रही है.

मिल्क प्रोडक्ट पर जीएसटी

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण की अध्यक्षता में जून के आखिर में जीएसटी काउंसिल की 47वीं बैठक हुई थी. बैठक में GST काउंसिल ने कुछ ऐसे खाद्य पदार्थों पर  GST लगाने का फैसला किया, जिन्हें इस टैक्स स्लैब से बाहर रखा गया था. इसके बाद से दही और लस्सी की कीमतों में बढ़ोतरी देखी जा रही है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें