scorecardresearch
 

सरकारी बैंक के एम्प्लॉई की मौत पर परिवार को मिलेगी सैलरी के 30% बराबर पेंशन, NPS में 40% बढ़ेगा PSB का योगदान

सरकारी बैंक कर्मियों के लिए केन्द्र सरकार ने बुधवार को कई बेनेफिट का पिटारा खोल दिया. इसका बड़ा फायदा बैंक कर्मियों और उनके परिवार को पेंशन के रूप में मिलेगा. जानें पूरी खबर

X
वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Photo: PTI) वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Photo: PTI)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • ‘फैमिली पेंशन होगी 30,000 से 35,000 तक’
  • ‘बैंक देंगे ‘वन डिस्ट्रिक, वन एक्सपोर्ट’ को बढ़ावा’
  • ‘पूर्वोत्तर के लिए अलग से योजनाएं बनाएंगे बैंक’

केन्द्र सरकार ने सरकारी बैंकों के मृत कर्मियों के परिवार को मिलने वाली पेंशन बढ़ाने का फैसला किया है. अब परिवार को बैंक कर्मी की मौत के बाद आखिरी सैलरी के 30% के बराबर पेंशन मिलेगी.

30,000 से 35,000 तक होगी फैमिली पेंशन

केन्द्र सरकार के इस फैसले के बाद मृत बैंक कर्मियों के परिवार को मिलने वाली पेंशन 30,000 से 35,000 रुपये तक हो जाएगी. पहले इस पर 9,284 रुपये की कैप थी. वित्त सेवा सचिव देवाशीष पांडा ने बुधवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में की.

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Nirmala Sitaraman) दो दिन के मुम्बई दौरे पर हैं. बुधवार को उन्होंने सरकारी बैंकों के कामकाज की वार्षिक समीक्षा की. इस दौरान सरकारी बैंकों के संबंध में लिए गए निर्णयों की जानकारी देने के लिए उन्होंने प्रेस से बात की.

NPS में 40% बढ़ेगा योगदान

केन्द्र सरकार ने सरकारी बैंक कर्मियों के पेंशन फंड में भी योगदान बढ़ाने का निर्णय किया है. न्यू पेंशन सिस्टम (NPS) के तहत अभी बैंक कर्मियों के पेंशन फंड में 10% योगदान वो खुद करते हैं और 10% सरकारी बैंक यानी कि एम्प्लॉयर. अब बैंकों की तरफ से होने वाले योगदान को 40% बढ़ाकर 14% करने का निर्णय किया गया है.

‘वन डिस्ट्रिक, वन एक्सपोर्ट’ को बढ़ावा

इसी के साथ वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि उन्होंने बैंकों को राज्य सरकारों के साथ मिलकर काम करने के लिए कहा है. ताकि ‘वन डिस्ट्रिक, वन एक्सपोर्ट’ के एजेंडा को आगे बढ़ाया जा सके. वहीं पूर्वोत्तर के राज्यों के लिए उन्होंने बैंकों से अलग-अलग राज्य के लिए अलग-अलग योजनाएं बनाने के लिए कहा है. इसमें भी उनसे लॉजिस्टिक और एक्पोर्ट के एरिया पर फोकस करने के लिए कहा गया है. इसके अलावा उन्होंने तेजी से बढ़ते फिनटेक सेक्टर को बैंकों से सहारा देने की बात भी कही. 

कोविड के बावजूद सरकारी बैंकों प्रदर्शन शानदार

निर्मला सीतारमण ने कहा कि सामूहिक तौर पर सरकारी बैंकों का प्रदर्शन कोविड-19 महामारी के बावजूद बेहतर रहा है. सरकारी बैंक त्वरित सुधारत्मक कार्रवाई (PCA) के दायरे से बाहर आए हैं. वहीं सरकारी बैंकों का विलय भी आसान रहा और इसका फायदा उन्हें हुआ है. उनकी बैलेंस शीट में प्रॉफिट नजर आ रहा है.

वहीं कंपनियों की सीधी ओवरसीज लिस्टिंग के मुद्दे पर राजस्व सचिव तरुण बजाज ने कहा कि सरकार इस पर बातचीत कर रही है और वो भी चाहती है कि इस पर सफलता मिले. 

ये भी पढ़ें:

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें