scorecardresearch
 
ऑटो न्यूज़

चोरों से बचाने के लिए अपनी गाड़ी में HSRP जरूर लगवाएं, बाइक के लिए भी अनिवार्य

हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट के बारे में
  • 1/11

हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट (HSRP) और कलर-कोडेड स्टीकर को लेकर पूरे देश में वाहन मालिक परेशान दिख रहे हैं. लोगों में इन दोनों को लेकर कई तरह के कंफ्यूजन हैं. आज हम आपको हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट से जुड़े हर सवाल का जवाब देंगे. आपका सारा कंफ्यूजन दूर हो जाएगा. दिल्ली में चलने वाली सभी कार, स्कूटर, मोटरसाइकल के लिए एचएसआरपी जरूरी है. (Photo: Getty)

HSRP से जुड़े सवाल
  • 2/11

दरअसल, वाहनों मालिकों में हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट (HSRP) और कलर-कोडेड स्टीकर को लेकर सवाल उठ रहे हैं कि आखिरी डेट क्या है? कितने का चालान है? ये नंबर प्लेट नई गाड़ी के लिए भी जरूरी है क्या? कहां से नंबर प्लेट बनवाएं और कहां से स्टिकर खरीदें? घर बैठे कैसे नंबर प्लेट मंगवा सकते हैं? असली-नकली की पहचान कैसे करें? बाइक के लिए भी यह प्लेट जरूरी है क्या? इन सारे सवालों के जवाब आपको नीचे मिल जाएंगे.  (Photo: Getty)

हर वाहन के लिए हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट जरूरी
  • 3/11

सवाल- हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट (HSRP) और कलर-कोडेड स्टिकर क्या है? 
जवाब- हर वाहन के लिए हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट (HSRP) और कलर-कोडेड स्टिकर लगवाना जरूरी है. हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट (HSRP) में एक होलोग्राम स्टिकर चिपका हुआ है, जबकि कलर-कोडेड स्टीकर वाहन के विंड स्क्रीन (शीशे) पर चिपकाया जाता है. (HSRP) और कलर-कोडेड स्टिकर सभी वाहनों के लिए अनिवार्य है, जबकि टू-व्हीलर के लिए केवल हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट जरूरी है.  (Photo: PTI)

हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट हर वाहन के लिए जरूरी
  • 4/11

सवाल- नई गाड़ी है, उसमें भी हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट (HSRP) और कलर-कोडेड स्टीकर लगवाना जरूरी है क्या?
जवाब- अप्रैल 2019 से पहले खरीदी गई गाड़ियों पर हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट अनिवार्य है. यानी अगर आपने गाड़ी अप्रैल-2019 के बाद खरीदी है तो फिर आपकी गाड़ी में हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट और कलर-कोडेड स्टीकर जरूर लगी होगी. वैसे 1 अप्रैल 2012 से जो नई गाड़ियां आ रही हैं, उनमें एचएसआरपी लगाई जाती है. लेकिन अप्रैल- 2019 से अनिवार्य कर दिया गया है. ऐसे में अगर एचएसआरपी लगी हुई है तो नई नंबर प्लेट की जरूरत नहीं है, केवल कलर-कोडेड स्टिकर लगवाना होगा. कुछ लोग एचएसआरपी हटवाकर फैंसी नंबर प्लेट लगवा लेते हैं. अगर ऐसा मामला है तो फिर हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट (HSRP) भी लगवाना होगा. (Photo: Getty)
 

ऑनलाइन कर सकते हैं हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट
  • 5/11

सवाल- कैसे और कहां से लगवाएं हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट (HSRP) और कलर-कोडेड स्टिकर?
जवाब- हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट लगवाने के लिए आप डीलर से संपर्क कर सकते हैं या फिर ऑनलाइन भी आवेदन कर सकते हैं. ऑनलाइन अप्लाई करने के लिए bookmyhsrp.com/index.aspx पर विजिट करें, जहां पर आपको प्राइवेट वाहन और कमर्शियल वाहन के दो ऑप्शन दिखाई देंगे. प्राइवेट व्हीकल टैब पर क्लिक करने पर पेट्रोल, डीजल, इलेक्ट्रिक, CNG और CNG+ पेट्रोल का ऑप्शन चुनना होगा. इसके अलावा आप (https://www.siam.in/) पर जाकर भी बुक कर सकते हैं. अधिक जानकारी के लिए (011 47103010) पर कॉल और (hsrpquery@siam.in) मेल कर सकते हैं. (Photo: PTI)

फिलहाल 5500 रुपये तक जुर्माना
  • 6/11

सवाल- हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट (HSRP) और कलर-कोडेड स्टिकर नहीं लगवाने पर कितने का चालान है?
जवाब- बिना हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट (HSRP) और कलर-कोडेड स्टिकर की गाड़ी से फिलहाल 5500 रुपये तक जुर्माना वसूला जा रहा है. संशोधित एमवी एक्ट के अनुसार, हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन प्लेट न होने पर 10,000 रुपये तक का चालान हो सकता है. इसलिए पकड़े जाने पर अधिकतम 5500 रुपये का चालान होगा. (Photo: File)

 कलर-कोडेड स्टिकर के बारे में
  • 7/11

सवाल- कैसे असली हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट (HSRP) और कलर-कोडेड स्टिकर की पहचान करें? 
जवाब- कई जगहों पर हाई सिक्योरिटी फर्जी नंबर प्लेट और स्टिकर बेचे जा रहे हैं. असली हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट के साथ छेड़छाड़ करना मुमकिन नहीं है, क्योंकि क्रोमियम बेस्ड होते हैं. 07 अंकों का यूनीक लेजर कोड भी रहेगा. होलोग्राम स्टिकर में वाहन के इंजन और चेसिस नंबर होंगे. यह नंबर प्रेशर मशीन से लिखा जाता है. प्लेट पर एक तरह का पिन होगा, जो आपके वाहन से जोड़ेगा. 
 

 कलर-कोडेड स्टिकर की पहचान कैसे करें? 
  • 8/11

सवाल- कलर-कोडेड स्टिकर की पहचान कैसे करें? 
जवाब- गाड़ी के फ्रंट शीशे पर ही कलर कोडेड स्टिकर ईंधन की परख के लिए लगाया जाएगा ताकि दूर से ही पता चल सकेगा कि आपकी गाड़ी पेट्रोल से चल रही है या डीजल से. इसी आधार पर कलर कोडिंग की जाएगी. पेट्रोल और सीएनजी के लिए नीले रंग का स्टिकर है, जबकि डीजल के लिए ऑरेंज कलर का स्टिकर है. (Photo: Getty)

हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट (HSRP) और कलर-कोडेड स्टिकर जरूरी क्यों?
  • 9/11

सवाल- हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट (HSRP) और कलर-कोडेड स्टिकर जरूरी क्यों? 
जवाब- हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट का सबसे बड़ा फायदा यह है कि यह अपराधों के साथ कार चोरों पर भी लगाम लगाएगा. परिवहन विभाग की मानें तो यह व्यवस्था लागू होने पर वाहन को ट्रेस करना आसान होगा. प्लेट पर एक बार कोड और होलोग्राम होगा. क्रोमियम प्लेटेड नंबर और इंबॉस होने से नंबर प्लेट को रात में भी वाहनों पर कैमरे के जरिये नजर रख सकेंगे. पुलिसकर्मियों और परिवहन कर्मचारियों के मोबाइल में एक सॉफ्टवेयर होगा. जांच के दौरान मोबाइल से प्लेट का फोटो लेने पर पूरी जानकारी सामने आ जाएगी. (Photo: Getty)
 

 हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट (HSRP) क्या टू-व्हीलर के लिए भी जरूरी है? 
  • 10/11

सवाल- हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट (HSRP) क्या टू-व्हीलर के लिए भी जरूरी है? 
जवाब-
टू-व्हीलर में बाइक हो या स्कूटर आपको हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट (HSRP) लगवाना जरूरी है. टू-व्हीलर में कलर कोडेड स्टिकर नहीं लगेगा. इससे बाइक चोरी की घटनाएं कम हो जाएंगी. क्योंकि जांच के दौरान मोबाइल से प्लेट का फोटो लेने पर बाइक की पूरी जानकारी सामने आ जाएगी. क्रोमियम प्लेटेड नंबर और इंबॉस होने से नंबर प्लेट को रात में भी वाहनों पर कैमरे के जरिये नजर रख सकेंगे. खासकर बाइक की लोकेशन और चालान के बारे में पता लगाना आसान होगा.  (Photo: Getty)

हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट (HSRP) और कलर-कोडेड स्टिकर के लिए कितनी कीमत चुकानी होगी? 
  • 11/11

सवाल- हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट (HSRP) और कलर-कोडेड स्टिकर के लिए कितनी कीमत चुकानी होगी? 
जवाब-
हमने (https://www.bookmyhsrp.com/) के कस्टमर केयर से संपर्क किया. उन्होंने बताया कि वाहनों के कैटेगरी के हिसाब से HSRP की कीमत तय होती है. एक अनुमान के मुताबिक बाइक की हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट के लिए अधिकतम 400 रुपये, और फोर-व्हीलर्स के लिए अधिकतम 1100 रुपये चुकाने होंगे. जबकि कलर-कोडेड स्टिकर के लिए 140-150 रुपये चुकाने होते हैं. होम डिलिवरी पर अतिरिक्त भुगतान करना पड़ेगा. (Photo: Getty)