scorecardresearch
 

Lumpy Virus: शहर-शहर, गांव-गांव मौत का मंजर, लंपी वायरस ने लील लीं 58 हजार गायों की जान

Lumpy Skin Virus Disease गुजरात, राजस्थान, पंजाब, हरियाणा और उत्तर प्रदेश के बाद अब हिमाचल प्रदेश में भी लंपी वायरस ने भयंकर तबाही मचा रखी है. यहां अब तक 2,309 मवेशियों की मौत हो चुकी है. इस वायरस की सबसे ज्यादा मार राजस्थान को झेलना पड़ा है. लेटेस्ट अपडेट के अनुसार राज्य में अब तक 37 हजार से ज्यादा गायों की मौत हो चुकी है.

X
Lumpy Virus Disease Lumpy Virus Disease

Lumpy Virus Disease: देश में कई राज्यों में लंपी वायरस ने तबाही मचा रखी है. राजस्थान, हरियाणा, पंजाब और गुजरात जैसे राज्यों में गायों की शवों को दफनाने के लिए जगहें कम पड़ने लगी हैं. ताजा रिपोर्ट के मुताबिक पूरे देश में इस वायरस से तकरीबन 57, 000 गायों की मौत हो चुकी है. इनमें से सबसे ज्यादा 37 हजार मौतें राजस्थान में दर्ज की गई है. 

स्थिति पर सरकार की नजर

केंद्रीय मत्स्य पालन, पशुपालन और डेयरी मंत्री पुरुषोत्तम रूपाला ने बताया कि गुजरात, राजस्थान, पंजाब, हरियाणा और उत्तर प्रदेश सहित 6-7 राज्यों में लंपी वायरस फैल चुका है. आंध्र प्रदेश में भी कुछ मामले दर्ज किए गए हैं. स्थिति पर नजर रखी जा रही है. राज्यों के लिए लगातार केंद्र एडवायजरी भी जारी कर रहा है.

टीकाकरण में तेजी लाने के निर्देश

पशुपालन और डेयरी मंत्री पुरुषोत्तम रूपाला ने अपनी गायों को गोटपॉक्स वैक्सीन लगवाने की सलाह दी है. राज्य सरकारों को टीकाकरण में तेजी लाने को कह दिया गया है. रूपाला के मुताबिक गुजरात में स्थिति में सुधार हुआ है, जबकि पंजाब और हरियाणा में बीमारी नियंत्रण में है. राजस्थान में यह बीमारी फैल चुकी है. फिलहाल, दूध उत्पादन पर कोई असर नहीं पड़ा है. 

हिमाचल प्रदेश में इस बीमारी को महामारी घोषित करने की मांग

वहीं हिमाचल प्रदेश में भी इस बीमारी का प्रसार हो चुका है. लेटेस्ट अपडेट के मुताबिर राज्य में 2,309 गायों की मौत हो चुकी है. 55, 700 गायों को ये वायरस संक्रमित कर चुका है. हिमाचल प्रदेश के 12 में से नौ जिलों में इससे जुड़े मामले सामने आए हैं. यहां के पशुपालकों ने इस बीमारी को महामारी घोषित करने की मांग की है.

क्या है लंपी वायरस

लंपी वायरस पशुओं में पाया जाने वाला एक खतरनाक वायरस है. यह मक्खियों और मच्छरों की कुछ प्रजातियों और टिक्स द्वारा एक पशु के शरीर से दूसरे पशु के शरीर तक यात्रा करता है. लंपी वायरस से संक्रमित पशुओं को तेज बुखार आने के साथ ही उनकी भूख कम हो जाती है. इसके अलावा चेहरे, गर्दन, थूथन, पलकों समेत पूरे शरीर में गोल उभरी हुई गांठें बन जाती हैं. साथ ही पैरों में सूजन, लंगड़ापन और नर पशु में काम करने की क्षमता भी कम हो जाती है. कई बार पशुओं की मौत भी हो जाती है.


 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें