scorecardresearch
 
खेती किसानी

PHOTOS: सुर्ख लाल अमरूद हुआ बाजार से गायब, मौसम की मार से फसल हुई बर्बाद

Prayagraj Guava
  • 1/6

प्रयागराज की पहचान कहे जाने वाले सुर्ख यानी लाल अमरूद इस बार अमरूद प्रेमियों को शायद ही खाने को मिलें, क्योंकि इस बार मौसम की मार और कीड़ों ने अमरूद के बाग के बाग खराब कर दिए हैं. बागों में अमरूद के पेड़ों में कीड़े लगने के कारण अमरूद की फसल खराब हो गई है. लाल अमरूद लेने वाले भी इस बार सुर्ख अमरूद न मिलने से मायूस दिख रहे हैं.

25 बीघे में दिखाई देते थे अमरूद के बाग
  • 2/6

पहले 25 बीघे के अमरूद के बाग में फल ही दिखाई देते थे. बाग में सुर्खा, सफेदा, सेबिया हर किस्म के अमरूद होते थे, लेकिन आज इस बाग के मालिक मुन्ना भइया पटेल अपनी इस अमरूद की फसल को देख कर मायूस हैं, क्योंकि इनके पूरे अमरूद के पेड़ो में कीड़े लग गए हैं, जिससे ज्यादातर अमरूद काले पड़ गए. 

90-95 फीसदी फसल हुई बर्बाद
  • 3/6

मुन्ना ने बताया, ''जैसे लोग कोरोना से परेशान हुए थे, वैसे ही पेड़ भी रोग से ग्रसित हो गए हैं, जिस कारण 90 से 95 फीसदी फीसदी फसल बर्बाद हो गई है.'' बाग के मालिक मुन्ना के मुताबिक, मौसम और हुई बरसात इसका कारण हो सकता है और न इसका प्रशिक्षण कराया गया है और इस बार लाल अमरूद की फसल भी खराब हो गई है. इस कारण अमरूद का किसान बर्बाद हो गया है.

दुकानदार भी परेशान
  • 4/6

अमरूद के दुकानदार भी लाल अमरूद न आने से परेशान हैं, क्योंकि अमरूद प्रेमी लाल अमरूद खोज रहे हैं, लेकिन अभी तक दुकानदारों को लाल अमरूद नही मिल पाया है. जिससे उनके ग्राहक मायूस होकर लौट रहे है. (फोटो- ANI)

क्या है अमरूद की खासियत?
  • 5/6

इस लाल अमरूद की खासियत होती है कि ये अमरूद अंदर भी लाल होते हैं और काफी मीठे भी होते हैं. लोग इस अमरूद को खूब पसंद करते हैं, लेकिन फसल के खराब होने के करण अमरूद प्रेमियों को इस बार मायूसी देखने को मिल रही है.

इन वजहों से खराब हुए अमरूद
  • 6/6

दरअसल, पिछले साल और इस साल भी अप्रैल से जून के बीच में कई बार बारिश हुई. जिसके चलते तापमान लगातार कम रहा. गर्मी में मिट्टी में नमी के कारण फूल और छोटे फल गिर जाते हैं. इस साल बारिश के कारण मक्खी का प्रकोप भी अधिक रहा, जिसकी वजह से भी फल खराब हो गए.