scorecardresearch
 

Watermelon Farming: 200 एकड़ जमीन पर 700 महिलाएं कर रहीं किसानी, तरबूज उगाकर बनीं लखपति

Watermelon Farming: महिलाओं ने हजारीबाग के आसपास की जलवायु और आसपास के जिलों में तरबूज की मांग को देखते हुए तरबूज की खेती करने का फैसला. लॉकडाउन के बावजूद उन्हें अच्छा मुनाफा हासिल हुआ. जिसके बाद इन महिलाओं ने बड़े पैमाने पर तरबूज की खेती शुरू की.

X
Watermelon Farming Watermelon Farming
स्टोरी हाइलाइट्स
  • समूह में कर रही हैं तरबूज की खेती
  • बढ़ गया कई गुना मुनाफा

Watermelon Cultivation: कहते हैं कि अगर इंसान कुछ चाह ले तो उसे जरूर पूरा कर लेता है. यह कर दिखाया है झारखंड के हजारीबाग जिले से 15 की किलोमीटर की दूरी पर चरही में रहने वाली महिला किसानों ने. यहां की रहने वाली महिलाओं ने सामुदायिक खेती के तरफ कदम बढ़ाया है. 200 एकड़ जमीन पर लगभग 700 महिला किसान तरबूज की खेती कर लाखों का मुनाफा कमा रही हैं.

इन सभी महिला किसानों के पास बहुत छोटे-छोटे टुकड़ों में जमीन थी. इन टुकड़ों पर भी बहुत कम मात्रा में खेती होती थी. बरसात पर पूरी खेती आश्रित थी. ऐसे में इन महिलाओं ने एक ग्रुप बनाया और फिर अपनी अपनी जमीनों को मिलाकर खेती के लिए बड़ी जमीन तैयार की और समूह में खेती करने लगी. इससे उनका मुनाफा भी बढ़ गया

महिलाओं ने हजारीबाग के आसपास की जलवायु और आसपास के जिलों में तरबूज की मांग को देखते हुए तरबूज की खेती करने का फैसला. सबसे पहले उन्होंने इसकी खेती के लिए संकल्प लिया. कोरोना की वजह से लॉकडाउन के बावजूद उन्हें अच्छा मुनाफा हासिल हुआ. जिसके बाद इन महिलाओं ने बड़े पैमाने पर तरबूज की खेती शुरू की. अब इन तरबूजों को हजारीबाग के साथ-साथ आसपास के सभी जिलों में और निकटवर्ती राज्यों में भेजे जा रहे हैं .

जहां इन महिला किसानों को साल भर में बमुश्किल 20 से 30 हज़ार ही खेती से आते थे आज इनकी कमाई 4 से 5 गुना बढ़ गई है जिस किसान की जितनी जमीन पर खेती हुई है उस हिसाब से लाभ में उसका हिस्सा तय होता है .अब इन महिला किसानों के हौसले बुलंद हैं. वह कहती हैं कि अब 12 महीने वह खेती करेंगे और जिससे वह अधिक लाभ हासिल कर सकें.

(रिपोर्ट- बिस्मय)

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें