scorecardresearch
 

UP: चंदौली में जमकर हुई ओलावृष्टि, फसलों को नुकसान, किसानों ने मुआवजे की मांग की

तेज बारिश और ओलावृष्टि की वजह से एक तरफ जहां तापमान और नीचे गिर गया. दूसरी तरफ इसकी वजह से गेंहू, तिलहन, दलहन और साग सब्जी की फसलों को भी काफी नुकसान पहुंचने की आशंका जताई जा रही है.ओलावृष्टि से प्रभावित किसानों ने सरकार से मांग की है कि उनकी फसलों के नुकसान का आकलन किया जाए और उचित मुआवजा दिया जाए.

भारी ओलावृष्टि से फसल हुई खराब भारी ओलावृष्टि से फसल हुई खराब
स्टोरी हाइलाइट्स
  • चंदौली में अचानक मौसम ने ली करवट
  • तेज बारिश के साथ जमकर हुई ओलावृष्टि

UP Crop Damage: एक तरफ जहां सर्द मौसम ने लोगों को परेशान कर रखा है. वहीं, दूसरी तरफ पूर्वी उत्तर प्रदेश के चंदौली में अचानक मौसम बदलने के बाद हुई तेज बारिश और ओलावृष्टि ने लोगों की मुश्किलें बढ़ा दीं. तेज बारिश और ओलावृष्टि की वजह से एक तरफ जहां तापमान और नीचे गिर गया. दूसरी तरफ इसकी वजह से गेंहू, तिलहन, दलहन और साग सब्जी की फसलों को भी काफी नुकसान पहुंचने की आशंका जताई जा रही है.ओलावृष्टि से प्रभावित किसानों ने सरकार से मांग की है कि उनकी फसलों के नुकसान का आकलन किया जाए और उचित मुआवजा दिया जाए.

दरअसल, बुधवार की शाम मौसम ने अचानक करवट ली और चंदौली के बरहनी और सदर ब्लॉक के कई गांवों में तेज बारिश होने लगी. जब तक लोग कुछ समझ पाते चंदौली के दर्जनों गांवों मे जोरदार ओलावृष्टि होने लगी. आलम यह था कि देखते ही देखते खेतों में और सड़क पर आसमान से बरसती बर्फ की परतें जमा हो गईं. कई ग्रामीणों ने आसमान से बरसती इस आफत को अपने कैमरे में भी कैद किया. देखते ही देखते इन इलाकों में बर्फ की परतें जमा हो गईं. 

अचानक हुई इस बेमौसम की बरसात और ओलावृष्टि से चना और सात सब्जी की फसलों को नुकसान होने की आशंका है. प्रभावित किसानों ने सरकार से यह मांग की है कि उनके नुकसान का आकलन किया जाए और उचित मुआवजा उन्हें दिया जाए. चंदौली के बरहनी ब्लॉक केस सिकठा गांव के रहने वाले किसान रतन कुमार सिंह ने बताया कि क्षेत्र में मौसम ने अचानक करवट लिया एका-एक बदली आने के बाद बरसात और भयंकर ओलावृष्टि हुई, जिससे हमारे क्षेत्र के अमड़ा, कंदवा, कम्हरिया, कुर्मी, डिग्गी, सिकठा, कपसिया, चखनिया आदि गांवों में काफी ओलावृष्टि हुआ जिसके चलते हमारी फसलों की काफी क्षति हुई है. 

उन्होंने कहा कि विशेषकर कि सरसों और चना की फसल और साग भाजी और गेहूं की फसलों पर इसका असर पड़ा है. मैं जिला प्रशासन से मांग करता हूं कि राजस्व विभाग और कृषि विभाग की टीम नुकसान का आकलन करके क्षतिपूर्ति रिपोर्ट सरकार को प्रेषित करें और प्रदेश सरकार से मांग करते हैं कि किसानों को राहत दिलाने के लिए क्षतिपूर्ति अविलंब किया जाए.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें
ऐप में खोलें×