scorecardresearch
 

Imran Khan Vs Shehbaz Sharif: सियासी लड़ाई के जरिये गृहयुद्ध के तरफ बढ़ रहा है पाकिस्तान?

Imran Khan Vs Shehbaz Sharif: सियासी लड़ाई के जरिये गृहयुद्ध के तरफ बढ़ रहा है पाकिस्तान?

पाकिस्तान में खान साब नाकाम रहे और शाहबाज शऱीफ की नई सरकार भी कांप रही है. कुर्सी गंवाने के बाद इमरान आजादी मार्च का झंडा थामे इस्लामाबाद की सड़कों पर उतरे तो मुल्क हिंसा, आगजनी, तोड़फोड़ की आंच में दहकने लगा, जैसे आजादी मार्च के नाम पर खुले आतंक की छूट मिल गई हो. इमरान सड़क पर आ चुके हैं तो सवाल ये है कि शाहबाज कब तक शरीफ बने रहेंगे? क्या ये लड़ाई पाकिस्तान को गृहयुद्ध के रास्ते पर ढकेल रही है? पाकिस्तान में हालाता ना पुरानी सरकार के काबू में थे और ना शाहबाज की नई सरकार लगाम लगा पा रही है. महंगाई ने जीना मुहाल कर रखा है और ताजा फैसला एक झटके में 30 रुपए तक तेल के भाव बढाने वाला है. पेट्रोल 180 रुपए लीटर के भाव है तो डीजल 175. सवाल ये है कि क्या इकॉनमी के फ्रंट पर फेल श्रीलंका की तरह पाकिस्तान भी सिविल वॉर का मैदान ना बन जाएगा? देखें ये खास रिपोर्ट.

The situation in Pakistan was neither under the control of the Imran government nor the new Shehbaz government is able to control it. Inflation is rapidly moving forward. Petrol is being sold at Rs 180 a liter and diesel is 175. The question is will Pakistan also become a battlefield of civil war just like Sri Lanka?

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें