scorecardresearch
 

तालिबान ने बढ़ाया इस पड़ोसी देश पर प्रेशर, कहा- लौटाओ अफगानिस्तान के 46 एयरक्राफ्ट

अफगानिस्तान में तालिबान की सरकार बन चुकी है. सरकार बनने के बाद तालिबान ने सबसे पहले उज्बेकिस्तान (Uzbekistan) पर दबाव बनाया है.

X
तालिबान ने उज्बेकिस्तान पर बनाया दबाव तालिबान ने उज्बेकिस्तान पर बनाया दबाव
स्टोरी हाइलाइट्स
  • तालिबान ने बढ़ाया उज्बेकिस्तान पर प्रेशर
  • अफगान के 46 एयरक्राफ्ट लौटाने को कहा

अफगानिस्तान में सत्ता संभालने के बाद अब तालिबान (Taliban) खुद को मजबूत करने की कोशिशों में लगा हुआ है. इसी कड़ी में उसने अपने पड़ोसी देश को एक संदेश भिजवाया है, जिससे टेंशन बढ़ गई है. तालिबान ने उज्बेकिस्तान (Uzbekistan) को संदेश भेजा है और उससे अफगान के 46 एयरक्राफ्ट और पायलट लौटाने की मांग की है. तालिबान द्वारा इस तरह दबाव बनाने से अफगान पायलट डर गए हैं.

बता दें कि ये अफगान सेना के वे पायलट हैं जो अफगानिस्तान पर तालिबान के पूरी तरह कब्जे (15 अगस्त) के बाद फाइटर प्लेन लेकर उज्बेकिस्तान आ गए थे. अब इन फाइटर पायलट्स को उज्बेकिस्तान के कैंप से UAE शिफ्ट किया जा रहा है. इन अफगान पायलट्स को यूएस आर्मी ने ही ट्रेन किया था और एक डील के हिसाब से ही इनको शिफ्ट किया जा रहा है.

रॉयटर्स की खबर के मुताबिक, पायलट्स का पहला दल UAE (संयुक्त अरब अमीरात) के लिए निकल चुका है. अलग-अलग टुकड़ियों में इन पायलट्स को UAE भेज दिया जाएगा.

फाइटर जेट्स का क्या होगा? साफ नहीं

अफगान सेना के पायलट तो UAE जा रहे हैं, लेकिन फाइटर विमानों का क्या होगा यह फिलहाल साफ नहीं है. ये पायलट अपने साथ 46 एयरक्राफ्ट लेकर आए थे, जिसमें A-29 लाइट अटैक प्लेन और UH-60 ब्लैक हॉक हेलिकॉप्टर भी शामिल थे. खबर के मुताबिक, अब US के कुछ अधिकारियों ने बताया कि तालिबान ने उज्बेकिस्तान पर विमान और पायलट लौटाने का प्रेशर बनाया है.

बता दें कि 15 अगस्त को काबुल पर कब्जे के साथ ही तालिबान ने पूरे अफगानिस्तान पर कब्जा कर लिया था. अब तालिबान ने अफगान में सरकार भी बना ली है. मुल्ला अखुंद को तालिबान ने प्रधानमंत्री बनाया है. तालिबान की इस सरकार को कुछ मुल्क मान्यता देने की बात कह चुके हैं. इसमें पाकिस्तान, चीन, कतर आदि शामिल हैं. वहीं अमेरिका और भारत अभी वेट एंड वॉच की रणनीति अपना रहे हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें