scorecardresearch
 

Suicide Machine: '1 मिनट में बिना दर्द के मौत', स्विट्जरलैंड में 'मौत की मशीन' को कानूनी मंजूरी

स्विट्जरलैंड सरकार ने सुसाइड मशीन को कानूनी मंजूरी दे दी है. इस मशीन के जरिए कोई भी व्यक्ति बिना किसी दर्द के 1 मिनट में मर सकता है. कहा जा रहा है कि ये मशीन ऐसे लोगों के लिए बनाई गई है जिन्हें बहुत गंभीर बीमारी होती है और जो हिल-डुल भी नहीं पाते.

ये मशीन ताबूत के आकार की है. (फोटो- एग्जिट इंटरनेशनल) ये मशीन ताबूत के आकार की है. (फोटो- एग्जिट इंटरनेशनल)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • स्विट्जरलैंड में सुसाइड मशीन को मंजूरी
  • अगले साल तक उपलब्ध होगी मशीन

Switzerland Suicide Machine: स्विट्जरलैंड सरकार ने सुसाइड मशीन के इस्तेमाल को कानूनी मंजूरी दे दी है. इसे बनाने वाली कंपनी का दावा है कि इस मशीन से किसी भी व्यक्ति की 1 मिनट के भीतर बिना किसी दर्द के मौत हो सकती है. ये मशीन ताबूत के आकार की बनी हुई है. इस मशीन के जरिए ऑक्सीजन का लेवल बहुत कम कर दिया जाता है जिससे 1 मिनट के अंदर मौत हो जाती है.

एग्जिट इंटरनेशनल (Exit International) नाम की संस्था के डायरेक्टर डॉ. फिलिप निट्स्के (Dr Philip Nitschke) ने इस 'मौत की मशीन' को बनाया है. उन्हें 'डॉ. डेथ' भी कहा जाता है. 

स्विट्जरलैंड में इच्छामृत्यु को कानूनी मान्यता मिली हुई है. एग्जिट इंटरनेशनल का दावा है कि पिछले साल स्विट्जरलैंड में 1,300 लोगों ने दूसरों की मदद से आत्महत्या की थी. 

कहा जा रहा है कि इस मशीन को ऐसे लोगों के लिए बनाया गया है जो बीमारी की वजह से हिल-डुल भी नहीं पाते. ब्रिटिश वेबसाइट इंडिपेंडेंट की रिपोर्ट के मुताबिक, इस मशीन को अंदर से भी ऑपरेट भी किया जा सकता है. बीमार व्यक्ति मशीन के अंदर पलकें झपकाकर भी इस मशीन को चला सकता है. इस मशीन में बायोडिग्रेडेबल कैप्सूल लगा है जिसे ताबूत की तरह इस्तेमाल किया जा सकता है. 

ये भी पढ़ें-- पत्नी तलाक के ल‍िए कर रही थी एक करोड़ की ड‍िमांड, वीड‍ियो में दर्द बयान कर पत‍ि ने क‍िया सुसाइड

इस मशीन को Sarco नाम दिया गया है और अभी इसका प्रोटोटाइप पेश किया गया है. डॉ. निट्स्के ने बताया, 'अगर सब ठीक रहा तो अगले साल तक ये मशीन उपलब्ध हो जाएगी. ये अब तक का सबसे महंगा प्रोजेक्ट है, लेकिन हम इसके काफी करीब हैं.'

हालांकि, ऐसी मशीन बनाने पर डॉ. निट्स्के की आलोचना भी हो रही है. इंडिपेंडेंट ने बताया कि कुछ लोगों ने मशीन के इस्तेमाल करने के तरीके पर सवाल उठाए हैं. लोगों का कहना है कि ये खतरनाक गैस चैंबर है. कुछ लोगों का ये भी कहना है कि ये मशीन लोगों को खुदकुशी के लिए उकसाएगी.

फिलहाल दो मशीन के प्रोटोटाइप तैयार हैं. तीसरी मशीन का प्रोडक्शन भी किया जा रहा है और अगले साल तक इसके तैयार होने की संभावना है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें
ऐप में खोलें×