scorecardresearch
 

Sri Lanka crisis: श्रीलंका एक नए संकट में घिरा, फिर मांगी भारत से मदद

श्रीलंका में विदेशी मुद्रा की कमी को लेकर हाहाकार मचा हुआ है ऐसे में ईंधन संकट देश की मुश्किलें बढ़ा रहा है. भारत ने करोड़ो का आर्थिक पैकेज देकर पड़ोसी देश की मदद की घोषणा की है. ईंधन संकट में भी भारतीय कंपनी इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन से मदद ली जाएगी.

X
श्रीलंका के राष्ट्रपति गोटाबाया राजपक्षे (Photo- Reuters) श्रीलंका के राष्ट्रपति गोटाबाया राजपक्षे (Photo- Reuters)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • श्रीलंका में गहराया ईंधन संकट
  • भारत लगातार कर रहा पड़ोसी की मदद
  • अब भारतीय कंपनी IOC से बात करेगी श्रीलंका सरकार

आर्थिक मुश्किलें झेल रहा श्रीलंका ऊर्जा संकट की मार भी झेल रहा है. ऐसे में एक बार फिर भारत श्रीलंका के काम आ रहा है. श्रीलंका के बिजली मंत्री गामिनी लोकुगे ने सोमवार को कहा कि श्रीलंका मौजूदा ईंधन और ऊर्जा संकट से निपटने के लिए मंगलवार को इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन (IOC) के
साथ बातचीत करेगा. उन्होंने कहा कि ईंधन संकट के समाधान के लिए इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन की स्थानीय इकाई से बातचीत की जाएगी.

भारत की प्रमुख तेल कंपनी इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन की श्रीलंकाई सहायक कंपनी Lanka IOC (LIOC) 2002 से श्रीलंका में कार्यरत है. श्रीलंकाई मंत्री ने कहा, 'मैंने अपने अधिकारियों से मंगलवार को IOC के साथ बातचीत शुरू करने को कहा है, अगर जरूरत पड़ी तो मैं भी इस बातचीत का हिस्सा बनूंगा.'

श्रीलंका के मंत्री ने कहा कि 22 जनवरी तक लगातार बिजली आपूर्ति सुनिश्चित की जा सकती है. इससे पहले उन्होंने कहा था कि आपूर्ति 18 जनवरी तक ही सुनिश्चित की जा सकती है.

श्रीलंका के ऊर्जा मंत्री उदय गम्मनपिला ने कहा था कि बिजली उत्पादन के लिए आवश्यक डीजल और फर्नेस ऑयल की निरंतर आपूर्ति पर बिजली मंत्रालय के साथ चर्चा करने का कोई मतलब नहीं है.

गैमनपिला ने कहा था, 'उन्हें आपूर्ति के लिए अपने पैसे (डॉलर) खर्च करने होंगे और जितनी जरूरत है, उस हिसाब से पहले से ही ऑर्डर करना होगा.' उन्होंने कहा था कि श्रीलंकन एयरलाइंस ने ईंधन आपूर्ति का भुगतान भी अपने डॉलर से किया था.

श्रीलंका फिलहाल कम होते ईंधन भंडार के साथ-साथ एक गंभीर विदेशी मुद्रा संकट का सामना कर रहा है. आयात के भुगतान के लिए डॉलर की कमी के कारण देश लगभग सभी आवश्यक वस्तुओं की कमी से जूझ रहा है.

श्रीलंका में पीक आवर्स में बिजली कटौती की जा रही है क्योंकि देश की बिजली इकाई को ईंधन नहीं मिल पा रहा जिससे पर्याप्त बिजली पैदा नहीं हो रही.

देश की ईंधन इकाई ने तेल की आपूर्ति बंद कर दी है क्योंकि बिजली बोर्ड ने कई बार से बिल नहीं भरा है. एकमात्र रिफाइनरी को हाल ही में बंद कर दिया गया था क्योंकि यह कच्चे माल के आयात के लिए भुगतान करने में असमर्थ थी.

इस सप्ताह की शुरुआत में भारत सरकार ने श्रीलंका को पेमेंट सपोर्ट सहायता के अलावा एक अरब डॉलर के सहायता पैकेज की घोषणा की है.

खाद्य पदार्थों और दवाओं का आयात कर खाद्य संकट को टालने के लिए श्रीलंका अरबों डॉलर का कर्ज ले रहा है. भारत से ईंधन आयात करने के लिए श्रीलंका को अतिरिक्त 50 करोड़ डालर भी दिए जा रहे हैं.  

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें