scorecardresearch
 

यूक्रेन पर हमले की तैयारी में रूस? बात करेंगे व्लादिमीर पुतिन और जो बाइडेन

Russia-Ukraine Crisis: यूक्रेन की सीमा पर रूस ने सैनिकों की तैनाती कर दी है. इसे लेकर रूस और अमेरिका के बीच भी तनाव बढ़ गया है. इसी बीच मंगलवार को रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन और अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन बात करेंगे.

X
जो बाइडेन और व्लादिमीर पुतिन के बीच भी थोड़ा तनाव बढ़ गया है. (फाइल फोटो) जो बाइडेन और व्लादिमीर पुतिन के बीच भी थोड़ा तनाव बढ़ गया है. (फाइल फोटो)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • जनवरी में हमले की तैयारी में रूस
  • अमेरिकी इंटेलिजेंस ने किया दावा
  • अमेरिका और रूस में भी तनाव बढ़ा

Russia-Ukraine Crisis: रूस-यूक्रेन बॉर्डर पर तनाव जारी है. अमेरिकी इंटेलिजेंस की रिपोर्ट में दावा किया है कि जनवरी में यूक्रेन पर रूस हमला कर सकता है. दोनों देशों में चल रहे तनाव के बीच मंगलवार को अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन (Joe Biden) और रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन (Vladimir Putin) बात करेंगे. दोनों वर्चुअली मीटिंग करेंगे.

रूस के राष्ट्रपति भवन के प्रवक्ता दिमित्री पेसकोव ने इस बात की पुष्टि की है. उनसे जब पूछा गया कि दोनों नेताओं के बीच कितनी देर बात होती तो उन्होंने कहा 'इसका फैसला राष्ट्रपति लेंगे.' हालांकि, अमेरिकी राष्ट्रपति भवन व्हाइट हाउस की ओर से अभी इस बात की जानकारी नहीं दी गई है. दोनों नेताओं के बीच जुलाई के बाद से ही बात नहीं हुई है.

रूस इस बात पर अड़ा हुआ है कि अमेरिका गारंटी दे कि यूक्रेन को NATO मिलिट्री अलायंस में शामिल नहीं किया जाएगा. लेकिन NATO के महासचिव जेन्स स्टोल्टेनबर्ग (Jens Stoltenberg) ने साफ किया था कि अलायंस में किसे शामिल किया जाए और किसे नहीं, इसमें रूस की कोई भूमिका नहीं है. कई पूर्व अमेरिकी और NATO डिप्लोमैट्स का कहना है कि रूस की ओर से ऐसी मांग पूरी होने की गुंजाइश नहीं है.

इसी बीच अमेरिकी इंटेलिजेंस ने इस बात का भी पता लगाया है कि रूस ने यूक्रेन से लगती सीमा पर करीब 70 हजार सैनिक तैनात किए गए हैं और अगले साल की शुरुआत में हमला कर सकता है. 

ये भी पढ़ें-- यूक्रेन और रूस युद्ध के कगार पर? जानें क्या है दशकों पुराना विवाद?

हालांकि, अगर पुतिन इस तरह का कोई कदम बढ़ाते हैं तो ये उनके लिए ही बहुत बड़ा जोखिम होगा. अमेरिकी अधिकारियों और पूर्व डिप्लोमैट्स का कहना है कि पहले की तुलना में यूक्रेन की सेना अब कहीं ज्यादा बेहतर और तैयार है. साथ ही इससे रूस की अर्थव्यवस्था को भी बड़ा नुकसान होगा. 

पिछले हफ्ते रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने चेताते हुए कहा था कि अगर NATO रूस के खिलाफ यूक्रेन की जमीन का इस्तेमाल करता है तो इसका अंजाम भुगतना होगा. पश्चिमी देशों की ओर से यूक्रेन पर रूस के संभावित हमले को लेकर जताई जा रही चिंता पर पुतिन ने कहा था कि वो भी अपनी सीमा के पास NATO की गतिविधियों को देखकर उतना ही चिंतित हैं. वहीं, जो बाइडेन ने कहा था कि वो एक व्यापक पहल पर काम कर रहे हैं जिससे राष्ट्रपति पुतिन के लिए यूक्रेन पर हमला करना कठिन हो जाएगा. पुतिन ने कहा था कि उनकी सीमा पर हथियारों की तैनाती 'रेड लाइन' है. इस पर बाइडेन ने कहा कि वो किसी की 'रेड लाइन' जैसी शर्तों को नहीं मानते.

यूक्रेन ने भी ऐसी आशंका जताई है कि अगले महीने रूस उस पर हमला कर सकता है. यूक्रेन के रक्षा मंत्री ओलेक्सी रेजनीकोव ने बताया कि उनकी सीमा पर रूस के 94 हजार 300 सैनिक तैनात हैं और जनवरी में इनकी संख्या और ज्यादा बढ़ सकती है. 

यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोडिमीर जेलेन्स्की ने भी हाल में आरोप लगाया था कि रूसी और कुछ यूक्रेनियन लोगों ने तख्तापलट की साजिश रची है और इसके लिए यूक्रेन सबसे अमीर शख्स रिनात अख्मेतोव की मदद लेने की कोशिश की गई. हालांकि, रूस और अख्मेतोव ने इन आरोपों को खारिज कर दिया. बताया जा रहा है कि अगले कुछ हफ्तों में बाइडेन जेलेन्स्की से भी बात कर सकते हैं.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें