scorecardresearch
 

बाइडेन से मुलाकात, QUAD का साथ... आज विश्व शक्तियों को साधने के मिशन पर मोदी, निशाने पर चीन!

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शुक्रवार को कई अहम बैठकों में शामिल होंगे. इनमें अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन संग द्विपक्षीय वार्ता है, साथ ही QUAD देशों के प्रमुखों के साथ मीटिंग है.

X
Prime Minister Narendra Modi In America Prime Minister Narendra Modi In America
स्टोरी हाइलाइट्स
  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का अमेरिकी दौरा
  • आज जो बाइडेन से करेंगे मुलाकात
  • क्वाड देशों की मीटिंग में होंगे शामिल

PM Narendra Modi In America: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शुक्रवार को अपने अमेरिकी दौरे के दौरान राष्ट्रपति जो बाइडेन से मुलाकात करेंगे. दोनों राष्ट्र प्रमुखों के बीच ये होने वाली पहली मुलाकात है, जिसपर पूरी दुनिया की नज़र टिकी है.

कोरोना का संकट हो, वैक्सीनेशन का मुद्दा या फिर अफगानिस्तान (Afghanistan) में बदलते हालात हर किसी के केंद्र में भारत है, साथ ही दुनिया को चीन से जो चुनौती मिल रही है उसको लेकर भी अहम भूमिका है. ऐसे में वाशिंगटन में आज होने वाली तमाम बैठकें काफी खास हैं. 

पीएम मोदी और जो बाइडेन की मुलाकात...

राष्ट्रपति बनने के बाद जो बाइडेन (Joe Biden) और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) के बीच कई बार बातचीत हुई है, दोनों ने तमाम मसलों पर चर्चा की है. लेकिन आमने-सामने मुलाकात पहली बार हो रही है. व्हाइट हाउस में होने वाली इस मीटिंग में कई विषयों पर मंथन किया जाना है. कोरोना संकट, वैक्सीनेशन, क्लाइमेट चेंज, आतंकवाद और अन्य तमाम मसलों पर खुलकर बात हो सकती है. 

QUAD संग होगा मंथन

एशिया समेत दुनिया के अलग-अलग में बढ़ रहे चीन के प्रभाव को काउंटर करने के लिए Quadrilateral Security Dialogue (QUAD) का गठन हुआ था. इसमें अमेरिका, भारत, जापान और ऑस्ट्रेलिया शामिल हैं. चारों देशों के राष्ट्रप्रमुख शुक्रवार को मंथन करेंगे, जिसमें चीन के प्रभाव को किस तरह रोका जाए इसपर मंथन किया जाएगा. 

साथ ही कैसे चारों देश आपसी सहयोग बढ़ाएं, फिर चाहे वो निवेश हो या फिर सैन्य के क्षेत्र में हो, ये मसला भी उठाया जाएगा. 


अफगानिस्तान और चीन को लेकर भारत का रोल

अफगानिस्तान से अमेरिका के निकलने के बाद तालिबान ने वहां पर कब्जा कर लिया, वहां अब तालिबान की सरकार है. लेकिन भारत यहां अभी भी पड़ोस में है और अफगानिस्तान में उसका बड़ा निवेश है, ऐसे में इस क्षेत्र के लिहाज से भारत काफी अहम है. इसलिए अफगानिस्तान को लेकर कोई भी निर्णय होता है, तो भारत का उसमें शामिल होना लाजिमी हो जाता है. 

वहीं, एशिया में चीन के ताकतवर होने से कई देशों की चिंताएं बढ़ी हैं. ऐसे में भारत यहां भी उसका पड़ोसी है, वहीं निवेश-कारोबार-सैन्य-लोकतांत्रिक व्यवस्था समेत अन्य मसलों पर भारत दुनिया के लिए भरोसेमंद है. ऐसे में चीन को काउंटर करने के लिए अमेरिका जैसे देश को भारत का साथ लेना ज़रूरी हो जाता है. 

पीएम मोदी-जो बाइडेन मुलाकात: रात 8.30 बजे (भारतीय समयानुसार)
QUAD देशों की मीटिंग: रात 11.30 बजे (भारतीय समयानुसार) 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें