scorecardresearch
 

कुआलालंपुर में बोले PM मोदी- इंटरनेट को नहीं बनने देंगे आतंकियों की भर्ती का जरिया

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को कुआलालंपुर में भारतीय समुदाय को संबोधि‍त किया. इस कार्यक्रम में हिस्सा लेने के लिए जहां एक ओर भारतीय मूल के लोगों का तांता लगा, वहीं इस दौरान पीएम ने 'नमस्कार' से साथ भारतीयों का अभि‍वादन किया.

miecc में कार्यक्रम के दौरान प्रधानमंत्री मोदी miecc में कार्यक्रम के दौरान प्रधानमंत्री मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को कुआलालंपुर में भारतीय समुदाय को संबोधि‍त किया. इस कार्यक्रम में हिस्सा लेने के लिए जहां एक ओर भारतीय मूल के लोगों का तांता लगा, वहीं इस दौरान पीएम ने 'नमस्कार' से साथ भारतीयों का अभि‍वादन किया. पीएम ने आतंकवाद का मुद्दा उठाते हुए कहा कि हमें यह तय करना होगा कि इंटरनेट आतंकियों की भर्ती का जरिया नहीं बने.

अपने संबोधन में पीएम ने कहा कि पूरी दुनिया को आतंकवाद के खि‍लाफ एकजुट होना होगा. तमिल भाषा में अपने भाषण की शुरुआत करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि दुनिया के हर कोने में भारतीय रहते हैं. पीएम बोले, 'भारत के विकास में तमिल लोगों का बड़ा योगदान रहा है. भारत अपने क्षेत्र तक सीमित नहीं है. यह हर भारतीय में बसता है. यह दुनिया के हर हिस्से में हर भारतीय में मौजूद है.'

भारतीय समुदाय के बीच अपनी सरकार का रिपोर्ट कार्ड पेश करते हुए और योजनाओं का जिक्र करते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि आज हिंदुस्तान दुनिया में सबसे तेजी से विकास करने वाली अर्थव्यवस्था है. यही नहीं, उन्होंने यह भी कहा कि उनकी सरकार भ्रष्टाचार के खात्मे के लिए हर संभव प्रयास कर रही है और हर स्तर पर करप्शन खत्म हो रहा है.

पीएम मोदी के संबोधन से पहले मलेशिया इंटरनेशनल एग्जीबिशन एंड कन्वेंशन सेंटर में सांस्कृति कार्यक्रमों का भी आयोजन किया, जहां देसी-विदेशी कलाकार बॉलीवुड गीतों पर भी झूमते नजर आएं. प्रधानमंत्री ने कुआलालंपुर में कल्चरल सेंटर को नेताजी सुभाषचंद्र बोस का नाम देने की भी घोषणा की.

'आतंकवाद सबसे बड़ा खतरा'
आतंकवाद को दुनिया का सबसे बड़ा खतरा बताते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इसे धर्म से अलग करने का आह्वान किया और दुनिया से एकजुट होकर राजनीतिक संतुलन का विचार किए बिना इसका मुकाबला करने को कहा. उन्होंने साथ ही पाकिस्तान का नाम लिए बिना यह भी सुनिश्चित करने को कहा कि कोई देश आतंकवाद का इस्तेमाल, समर्थन या प्रोत्साहन नहीं करने पाए.

'हम गरीबी मिटा रहे हैं'
पीएम ने दावा किया कि उनकी सरकार सभी स्तरों पर भ्रष्टाचार और गरीबी को समाप्त कर रही है. इसके साथ ही नीति आधारित ऐसी शासन व्यवस्था बना रही है जहां किसी के साथ भेदभाव का कोई स्थान न हो. मोदी ने कहा कि 18 महीने पहले जब उनकी सरकार सत्ता में आई तब देश के सामने बहुत बड़ी बड़ी चुनौतियां थी. उन्होंने कहा, 'लेकिन मेरी सरकार इस माहौल को बदलने आई है. हम गरीबी मिटा रहे हैं. जनता को आधुनिक अर्थव्यवस्था के लाभ दिला रहे हैं.

देश में बढ़ती असहिष्णुता के सवालों का पीएम मोदी ने मलेशिया में भी जवाब दिया. उन्होंने कहा कि भारत की विविधता ही उसकी ताकत है. उन्होंने कहा, 'हमारी सरकार हर किसी के अधिकारों की रक्षा करती है.'

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संबोधन के मुख्य अंश-

- आतंकवाद के खि‍लाफ पूरी दुनिया को एकजुट होना होगा.

- हमें यह तय करना पड़ेगा कि इंटरनेट आतंकियों की भर्ती का जरिया न बने.

- आज दुनिया को मिलकर आतंकवाद के खिलाफ लड़ना होगा.

- भारत और मलेशिया हर क्षेत्र में साथ मिलकर काम कर रहे हैं.

- भारत और मलेशिया के बीच बेहद करीबी रिश्ता है.

- पूरी दुनिया भारत की ओर देख रही है.

- भारत दुनिया में सबसे तेजी से बढ़ता आर्थिक ताकत है.

- भारत ने आजादी के बाद से तमाम मुश्किलों के बावजूद काफी विकास किया है.

- यहां स्वामी विवेकानंद की प्रतिमा का अनावरण करना गौरवपूर्ण है.

- भारतीय सुमदाय ने मलेशिया के विकास में अहम योगदान दिया है.

- स्किल और शि‍क्षा के विकास पर हमारा जोर.

-‍ विविधता में एकता ही भारत की ताकत और पहचान.

- कुआलालंपुर में हम अपने कल्चरल सेंटर को नेताजी सुभाष चंद्र बोस का नाम देंगे.

- आपके हजारों पूर्वजों ने आगे बढ़कर नेताजी सुभाष चंद्र बोस का साथ दिया और इंडियन नेशनल आर्मी में शामिल हुए.

- मैं देख सकता हूं कि समय और दूरी ने आपके दिल में भारत के प्रति प्रेम को कहीं से कम नहीं किया है.

- मलेशियाई भारतीयों का प्यार और उनकी दोस्ती हमेशा मेरे दिल के करीब रही है.

प्रधानमंत्री मोदी आसियान सम्मलेन में हिस्सा लेने के लिए मलेशिया दौरे पर हैं. इस दौरान वह वैश्वि‍क मुद्दों पर दुनिया के 18 देशों के सर्वोच्च नेताओं के बातचीत कर रहे हैं. कुआलालंपुर में भारतीयों को संबोधि‍त करने से पहले उन्होंने आरके मिशन जाकर स्वामी विवेकानंद की मूर्ति का अनावरण किया.

इस दौरान प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, 'प्रवचन से हमारे अंदर विवेकानंद नहीं प्रवेश कर सकते. स्वामी विवेकानंद हमारे मन और आत्मा में हैं. भारतीय संस्कृति का बखान करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि उपनिषद से उपग्रह तक हमारी विकास यात्रा है.'

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें