scorecardresearch
 

चीन के वैज्ञानिकों का दावा: ट्रंप से दोस्ती नहीं, किसी और वजह से किम ने रोके मिसाइल टेस्ट

किम ने कार्यक्रम रोकने का ऐलान करते हुए अमेरिका राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप से होने वाली मुलाकात को इसकी वजह बनाया था. लेकिन इसकी पीछे कि असल वजह अब सामने आई हैं. पिछले साल हुए एक परीक्षण के दौरान उत्तर कोरिया की परमाणु परीक्षण साइट धमाके के कारण ढह गई थी.

डोनाल्ड ट्रंप और किम जोंग डोनाल्ड ट्रंप और किम जोंग

उत्तर कोरिया के शासक किम जोंग उन ने शनिवार को परमाणु मिसाइल टेस्ट कार्यक्रम रोकने का ऐलान किया था लेकिन अब उसके पीछे की असल वजह भी सामने आ गई है. चीन के भू-गर्भ विशेषज्ञों ने दावा किया है कि उत्तर कोरिया की भूमिगत परमाणु परीक्षण साइट ढह गई है और अब उनके पास परीक्षण के लिए कोई स्थान नहीं बचा है.

किम ने कार्यक्रम रोकने का ऐलान करते हुए अमेरिका राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप से होने वाली मुलाकात को इसकी वजह बनाया था. लेकिन इसकी पीछे कि असल वजह अब सामने आई हैं. पिछले साल हुए एक परीक्षण के दौरान उत्तर कोरिया की परमाणु परीक्षण साइट धमाके के कारण ढह गई थी.

काफी शक्तिशाली था परीक्षण

अंग्रजी अखबार डेली मेल में छपी खबर के मुताबिक चीन के शोधकर्ताओं ने यह पता किया कि सितंबर में हुए छठे परीक्षण के दौरान परमाणु साइट का हिस्सा ढह गया. परीक्षण के दौरान हुए धमाके को जापान ने करीब 120 किलोटन का मापा था, जो कि अमेरिका की ओर से हिरोशिमा शहर पर गिराए गए बम से भी आठ गुना ज्यादा था. सैटलाइट तस्वीरों से भी यह नजर आ रहा है कि छठे परीक्षण से पहले और उसके बाद इलाके की भौगोलिक स्थिति में बदलाव हुआ है.

किम के शासनकाल में उत्तर कोरिया ने अपने परमाणु कार्यक्रम का लगातार विस्तार किया है. उत्तर कोरिया आए दिन परमाणु हथियारों का परीक्षण कर दुनिया को चौकाता रहा है. अमेरिका समेत कई बड़े मुल्क उसे कार्यक्रम रोकने की अपील भी कर चुके हैं. यहां तक कि संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद, यूरोपीय संघ, दक्षिण कोरिया और अन्य समूह भी किम के इस रवैये पर अपनी नाराजगी जता चुके हैं.

ट्रंप ने किम को सराहा

किस से मुलाकात से परमाणु परीक्षण रोकने के फैसला का अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप ने भी स्वागत किया था. ट्रंप ने ट्वीट करते हुए लिखा, 'उत्तर कोरिया परमाणु टेस्ट कार्यक्रम रोकने पर राजी हो गया है. यह उत्तर कोरिया और दुनिया के लिए बहुत ही अच्छी खबर है.'

डोनाल्ड ट्रंप ने मंगलवार को ही उत्तर कोरिया के शासक किम जोंग की तारीफ करते हुए उन्हें एक बेहद सम्मानित व्यक्ति बताया और उम्मीद जताई कि जल्दी दोनों नेताओं की मुलाकात होगी. अमेरिका बर्बरता और धोखे के लिए लंबे वक्त से किम जोंग के परिवार की आलोचना करता आया हैलेकिन इस बार उसके रुख में बड़ा बदलाव देखने को मिला है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें