scorecardresearch
 

टोक्यो में दौड़ी समझौते की मेल, भारत आएगी जापानी बुलेट ट्रेन

जापान में नरेंद्र मोदी के कई सपने सच हो गए. जापानी प्रधानमंत्री शिंजो एबे ने उस बुलेट ट्रेन को रफ्तार देने का वादा किया, जिसे मोदी ने भारत में सपने की पटरियों पर दौड़ाया था. साथ ही गंगा की सफाई में भी जापान एक दोस्त का भरपूर फर्ज निभाएगा.

नरेंद्र मोदी और जापानी प्रधानमंत्री शिंजो एबे नरेंद्र मोदी और जापानी प्रधानमंत्री शिंजो एबे

जापान में नरेंद्र मोदी के कई सपने सच हो गए. जापानी प्रधानमंत्री शिंजो एबे ने उस बुलेट ट्रेन को रफ्तार देने का वादा किया, जिसे मोदी ने भारत में सपने की पटरियों पर दौड़ाया था. साथ ही गंगा की सफाई में भी जापान एक दोस्त का भरपूर फर्ज निभाएगा.

भारत को सबसे करीबी दोस्त जापान की तरफ से बुलेट ट्रेन का तोहफा मिला है. जापान ने भारत में बुलेट ट्रेन शुरू करने के लिए मदद की पेशकश की है. प्रधानमंत्री मोदी और जापान के प्रधानमंत्री शिन्जो एबे के बीच बातचीत के बाद जारी संयुक्त घोषणापत्र में इसका ऐलान किया गया. आबे ने उम्मीद जताई है कि भारत अहमदाबाद-मुंबई के बीच शिनकासेन सिस्टम वाली बुलेट ट्रेन की शुरुआत कर सकता है.

यह ट्रेन मुंबई-अहमदाबाद रूट पर दौड़ेगी. इस रूट की लंबाई भी टोक्यो-क्योटो की तरह करीब 500 किलोमीटर की होगी. इसके बनने पर 7 घंटे का सफर सिर्फ ढाई घंटे में पूरा होगा. जापान की शिनकासेन बुलेट ट्रेन सबसे तेज ट्रेन है. इसकी तरफ्तार 300 किलोमीटर प्रति घंटे की है. इस हाइटेक ट्रेन में सुरक्षा की पूरी गांरटी है.

बुलेट ट्रेन का सपना प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देखा था. इसके स्पेशल प्रोजेक्ट के लिए मौजूदा बजट में 60 हजार करोड़ रुपए अलग से रखे गए हैं.

दोस्ती की पंचवर्षीय योजना!
शिंजो के साथ शिखर वार्ता के बाद मोदी ने जापान को सबसे भरोसेमंद दोस्त बताते हुए निवेश के पंचवर्षीय प्लान पर दस्तखत किए. जापान पांच साल तक भारत में दो लाख करोड़ से ज्यादा का निवेश करेगा.

मोदी ने शिखर वार्ता के फौरन बाद फास्ट ट्रैक चैनल बनाने का एलान करके जापान को उस मुल्क का दर्जा दे डाला. जिसकी अहमियत भारत के सर आंखों पर होगी. रक्षा क्षेत्र में आपसी समझौते ने दोनों मुल्कों को तकनीक और कारोबार के सूत्र में नए सिरे से पिरो डाला. मोदी ने शिखर वार्ता के फौरन बाद भरोसा दिलाया कि जापान की सफलता में भारत का विकास अपने रास्ते तलाशेगा.

मोदी उन हिन्दुस्तानी कंपनियों पर से पाबंदी हटवाने में भी कामयाब रहे, जिनपर जापान ने पाबंदी थोप रखी थी. मोदी ने जहां शांति पथ पर न्यूक्लियर एनर्जी के समझौते किए वहीं रक्षा क्षेत्र में भी हाथ मिलाकर उन मुल्कों को चेता दिया, जिनेक होश जापान भारत की दोस्ती से फाख्ता हैं.

शिखर वार्ता के बाद जापानी प्रधानमंत्री शिंजो एबे ने दोस्ती का वो दायरा खींच दिया, जहां निवेश से लेकर स्मार्ट सिटी, शिक्षा और शोध तक के क्षेत्रों में साझेदारी का फार्मुला आकार ले रहा था. जापान आकर मोदी के दो सपने- गंगा की सफाई और बुलेट ट्रेन दोनों एक दोस्त ने पूरे कर दिए.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें