scorecardresearch
 

मेहुल के भाई से मिलने से डोमिनिका के विपक्षी नेता का इनकार, कहा- मुझे कोई पैसा नहीं मिला

विपक्ष के नेता लेनोक्स लिंटन ने चेतन चोकसी से मुलाकात की बात से इनकार कर दिया है. लिंटन ने कहा कि मुझे प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से कभी भी कोई पैसा नहीं मिला है.

X
मेहुल चोकसी मेहुल चोकसी
स्टोरी हाइलाइट्स
  • विपक्षी नेता से मेहुल के भाई की मुलाकात की खबर
  • विपक्षी नेता का इनकार, कहा- मैं कभी नहीं मिला

भारत के बैंकों के साढ़े तेरह हजार करोड़ रुपये लूट कर भागने वाले मेहुल चोकसी पर आज फैसला आएगा. डोमिनिका की कोर्ट तय करेगी कि मेहुल के भारत भेजना है या नहीं? इस बीच मेहुल चोकसी के भाई चेतन चोकसी से मुलाकात पर डोमिनिका के विपक्षी नेता लेनोक्स लिंटन ने सफाई दी है.

विपक्ष के नेता लेनोक्स लिंटन ने चेतन चोकसी से मुलाकात की बात से इनकार कर दिया है. लिंटन ने कहा, 'दावा किया जा रहा है कि मैंने चेतन से मेरीगोट स्थित आवास पर मुलाकात की, लेकिन इस समय मेरीगोट में मेरा कोई घर नहीं है, जो घर था वह 2017 के तूफान में नष्ट हो गया था और मैं आज तक इसका पुनर्निर्माण करने में असमर्थ रहा हूं.'

विपक्ष के नेता लेनोक्स लिंटन ने कहा, 'मैं 29 मई को मेरीगोट में एक जनसभा के लिए गया था, जिसमें मैंने चोकसी मुद्दे को संबोधित किया था. मैं 30 मई को मेरीगोट नहीं गया था और इसलिए वहां किसी से नहीं मिल सकता था, मुझे प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से कभी भी कोई पैसा नहीं मिला है.'

एंटीगुआ से गायब होने के बाद मेहुल चोकसी जब से डोमिनिका में मिला है, उसे लेकर सवालों की झड़ी लग गई है. सवाल उठ रहे हैं कि वो यहां कैसे पहुंचा? क्या वो हनी ट्रैप का शिकार हो गया? या भारत ये धोखेबाज एक बार फिर भारतीय एजेंसियों की आंख में धूल झोंकने के लिए नाटक कर रहा है. 

भारत में सबके मन में एक सवाल है, और वो ये कि क्या मेहुल चोकसी को भारत लाया जा सकेगा. बुधवार शाम 6.30 बजे डोमिनिका की अदालत में इसे लेकर सुनवाई होनी है. आजतक को EXCLUSIVE जानकारी मिली है कि मेहुल चोकसी के खिलाफ प्रवर्तन निदेशालय डोमिनिका की अदालत में एक शपथ पत्र पेश करेगा.

सूत्रों के मुताबिक प्रवर्तन निदेशालय की टीम डोमिनिका की अदालत में जो शपथपत्र पेश करेगी उसमें मेहुल चोकसी के खिलाफ रेड कॉर्नर नोटिस का प्रमुखता से जिक्र होगा.  इसी रेड कॉर्नर नोटिस के आधार पर अदालत से मेहुल चोकसी को भारत को सौंपने की गुजारिश की जाएगी.

माना जा रहा है कि सारा जोर इस बात पर रहेगा कि मेहुल चोकसी भारत का नागरिक है. उसने भारत में घपला किया है. उसके खिलाफ रेड कॉर्नर नोटिस है. ऐसे में उसे भारत को सौंपना हर लिहाज से ठीक होगा. कहीं कोई कमी न रह जाए. इसके लिए ED के अफसरों ने डोमिनिका में मौजूद भारतीय अधिकारियों से मेहुल से संबंधित दस्तावेज शेयर किए हैं.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें