scorecardresearch
 

कुलभूषण जाधव को 'आतंकी' घोषित करवाने की पैरवी करेगा PAK

पाकिस्तान विदेश मंत्रालय के डॉ. फरहान बुग्ती अपनी टीम के साथ हेग स्थित कोर्ट में जवाब देंगे. मई में अंतरराष्ट्रीय कोर्ट ने जाधव को फांसी की सजा देने पर रोक लगा दी थी. सुनवाई के दौरान भारत को 13 सितंबर और पाकिस्तान को 13 दिसंबर को जवाब देने को कहा गया था.

फाइल फोटो फाइल फोटो

क्रिसमस के मौके पर कुलभूषण जाधव को उनकी पत्नी से मिलने की इजाजत देने के बाद पाकिस्तान अब फिर दगा देने की तैयारी में है. जाधव मामले में पाकिस्तान अंतरराष्ट्रीय कोर्ट में अपना जवाब दाखिल करेगा. सूत्रों की मानें, तो पाकिस्तान भारत के हर सवाल का कड़े रुख से जवाब देगा.

पाकिस्तान विदेश मंत्रालय के डॉ. फरहान बुग्ती अपनी टीम के साथ हेग स्थित कोर्ट में जवाब देंगे. मई में अंतरराष्ट्रीय कोर्ट ने जाधव को फांसी की सजा देने पर रोक लगा दी थी. सुनवाई के दौरान भारत को 13 सितंबर और पाकिस्तान को 13 दिसंबर को जवाब देने को कहा गया था.

सूत्रों की मानें, पाकिस्तान भारत के हर तर्क को बेदम करने की पूरी कोशिश करेगा. पाकिस्तान की ओर से कोशिश रहेगी कि जाधव पर लगे आतंकी होने के आरोपों पर सही साबित किया जा सके. जिसके आधार पर एक आतंकी केस को अंतरराष्ट्रीय अदालत में नहीं जाना चाहिए. पाकिस्तान लगातार ये आरोप लगाता रहा है कि कुलभूषण जाधव का आतंकी गतिविधियों में हाथ रहा है.

पाकिस्तान के जवाब देने के बाद अंतरराष्ट्रीय कोर्ट दोनों देशों के जवाबों की जांच करेगा. बता दें कि नवंबर महीने में पाकिस्तान ने भारत को सूचित किया था कि वह जाधव और उसकी पत्नी को मानवीय आधार पर मिलने की अनुमति देने के लिए तैयार है. इससे पहले भारत ने पाकिस्तान से अनुरोध किया था कि पहले जाधव की मां को मिलने की इजाजत दी जाए. जाधव को पाकिस्तान में फांसी की सजा सुनाई गई है.

पाकिस्तान का दावा है कि भारतीय नौसेना का कमांडर जाधव भारत की प्रमुख खुफिया एजेंसी, रिसर्च एंड एनलिसिस विंग (रॉ) के लिए काम कर रहा था. इस्लामाबाद का कहना है कि तीन मार्च, 2016 को बलूचिस्तान में कानून प्रवर्तन एजेंसियों ने उसे अवैध रूप से पाकिस्तान में पकड़ लिया था. भारत ने कहा है कि जाधव एक पूर्व नौसेना अधिकारी हैं और वह रॉ के लिए काम नहीं कर रहे थे.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें