scorecardresearch
 

अनुच्छेद 370 पर बोला ईरान- शांतिपूर्ण तरीके से भारत-पाक करें बातचीत

ईरान के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता सैय्यद अब्बास मौसवी ने कहा है कि ईरान, जम्मू और कश्मीर में चल रहे सियासी घटनाक्रमों पर बारीकी से नजर बनाए हुए है.

ईरान के राष्ट्रपति हसन रूहानी की फाइल फोटो (तस्वीर-IANS) ईरान के राष्ट्रपति हसन रूहानी की फाइल फोटो (तस्वीर-IANS)

  • ईरान की है कश्मीर के घटनाक्रम पर नजर
  • ईरान ने की सीमा पर शांति बनाए रखने की अपील
  • ईरान का कहना, बैठकर सुलझाएं आपसी विवाद

जम्मू और कश्मीर के लिए को स्पेशल स्टेटस देने वाले संविधान के अनुच्छेद 370  के प्रावधानों को खत्म कर दिया गया है. भारत सरकार के इस ऐतिहासिक फैसले से पाकिस्तान इन दिनों बेहद बौखलाया हुआ है. ईरान ने पाकिस्तान की बौखलाहट पर बयान बड़ा बयान दिया है.

इस्लामिक राष्ट्र ईरान का कहना है कि वह जम्मू एवं कश्मीर को लेकर भारत सरकार के फैसले पर बारीकी से नजर बनाए हुए है. ईरान को उम्मीद है कि भारत और पाकिस्तान अपने क्षेत्रीय लोगों के हितों की रक्षा करेंगे.

ईरान ने यह भी उम्मीद जताई है कि दोनों राष्ट्र सीमा पर शांति के लिए शांतिपूर्ण तरीका अपनाएंगे. ईरान ने कहा है कि भारत-पाकिस्तान को इस विवाद पर आपस में बातचीत करनी चाहिए.

पाकिस्तान सेना के कई वरिष्ठ अधिकारी भारत को गीदड़भभकी दे चुके हैं. वहीं अमेरिका ने पाकिस्तान को नसीहत दी है कि पाकिस्तान शांति का परिचय दे और अपने यहां फैल रहे आतंक पर रोक लगाए.

ईरान के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता सैय्यद अब्बास मौसवी ने बुधवार को दिए गए एक बयान में कहा कि ईरान, जम्मू और कश्मीर को लेकर भारत सरकार के फैसले और क्षेत्र में चल रहे घटनाक्रम पर नजर रखे हुए है. भारतीय और पाकिस्तानी अधिकारियों द्वारा दी गई जानकारियों पर ईरान लगातार नजर रख रहा है.

ईरान की यह प्रतिक्रिया भारत द्वारा जम्मू एवं कश्मीर का विशेष दर्जा हटाए जाने और लद्दाख को एक अलग भाग में बांटने के बाद आया है. पाकिस्तान ने भारत के इस फैसले का विरोध करते हुए इस्लामाबाद में भारतीय दूत को निष्कासित कर दिया है और दोनों देशों के बीच व्यापार संबंधों को भी निलंबित कर दिया है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें