scorecardresearch
 

पाक में रह रही गीता ने विवाहित होने से किया इनकार

करीब 14 साल पहले गलती से सीमा पार कर पाकिस्तान आ गई गूंगी और बहरी भारतीय लड़की गीता ने विवाहित होने से इंकार किया है. भारतीय मीडिया में आई कुछ खबरों में कहा गया था कि बिहार के सहरसा जिले में 23 वर्षीया गीता के पैतृक गांव के लोगों का कहना है कि जब वह छोटी थी, तब उसका उमेश महतो नामक व्यक्ति से विवाह हो गया था और उनका एक बेटा भी है जो अब 12 साल का हो गया है.

X
पाक में रह रही भारतीय लड़की गीता पाक में रह रही भारतीय लड़की गीता

करीब 14 साल पहले गलती से सीमा पार कर पाकिस्तान आ गई गूंगी और बहरी भारतीय लड़की गीता ने विवाहित होने से इंकार किया है. भारतीय मीडिया में आई कुछ खबरों में कहा गया था कि बिहार के सहरसा जिले में 23 वर्षीया गीता के पैतृक गांव के लोगों का कहना है कि जब वह छोटी थी, तब उसका उमेश महतो नामक व्यक्ति से विवाह हो गया था और उनका एक बेटा भी है जो अब 12 साल का हो गया है.

विवाहित होने से किया इंकार
समाज सेवी अब्दुल सत्तार एधी के पुत्र फैजल एधी ने बताया कि इन खबरों के बाद उन्होंने गीता से बात की थी. फैजल ने बताया ‘ उसने स्काइप के जरिए उन लोगों से बात की, जिन्हें उसने भारतीय उच्चायोग द्वारा भेजी गई तस्वीरों में अपने परिवार के तौर पर पहचाना. उन्होंने उसे बताया कि वह विवाहित है और उसने इस बात से इंकार किया कि उसका कभी विवाह हुआ था.’ उन्होंने कहा ‘ हमने उसे भारतीय मीडिया में प्रकाशित तस्वीर भी दिखाई, जिसके बारे में उनका दावा है कि वह गीता है, लेकिन जब हमने वह तस्वीर उसे दिखाई तो उसने कहा कि वह तस्वीर उसकी नहीं है.

वापस भारत भेजने की तैयारी
फैजल के मुताबिक, स्थिति थोड़ी जटिल हो गई है क्योंकि गीता को 26 अक्टूबर को दिल्ली भेजने के इंतजाम किए जा चुके हैं. उन्होंने कहा ‘ उससे बात कर हम यह पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं कि कहीं वह हमसे कुछ छिपा तो नहीं रही है या गुमराह तो नहीं कर रही है.’ गीता ने भारतीय उच्चायोग द्वारा एधी फाउंडेशन को भेजी गई अपने परिवार की तस्वीर पहचान ली, जिसके बाद पाकिस्तान और भारत ने गीता को स्वदेश भेजने के लिए तैयारी शुरू कर दी.

समझौता एक्सप्रेस में अकेले पाया
बताया जाता है कि गीता उन दिनों 7 या 8 साल की थी जब उसे पाकिस्तानी रेंजरों ने 14 साल पहले लाहौर रेलवे स्टेशन पर समझौता एक्सप्रेस में अकेले बैठे हुए पाया था. पुलिस गीता को लाहौर में एधी फाउंडेशन ले गई और फिर उसे कराची भेज दिया गया. फाउंडेशन की बिलकिस एधी ने उसे गोद ले लिया और कराची में उसके साथ रहने लगी.

पहले डीएनए टेस्ट होगा
फैजल ने बताया ‘ बिलकिस एधी ने गीता को अपनी बेटी की तरह पाला और उम्मीद है कि वह उसके साथ नई दिल्ली जाएंगी. हम शायद पहले डीएनए टेस्ट कराएंगे ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि तस्वीर में दिखाए गए लोग सचमुच उसके परिवार वाले हैं. इसके बाद ही उसे उनके सुपुर्द किया जाएगा.’

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें