scorecardresearch
 

इन 10 कारणों से फ्रांस यूरोप में भारत के लिए है सबसे अहम साझेदार

न्यूक्लीयर एनर्जी दोनों देशों के बीच बहुत ही अहम मुद्दा है. 2010 में ही NPCIL और Areva के बीच न्यूक्लीयर एनर्जी के सहयोग को लेकर समझौता हुआ था.

मैक्रों और मोदी होंगे पहली बार आमने सामने मैक्रों और मोदी होंगे पहली बार आमने सामने

चार यूरोपीय देशों की यात्रा पर निकले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आखिरी चरण में फ्रांस पहुंचे हैं. फ्रांस न केवल व्यापार बल्कि डिफेंस और सांस्कृतिक रूप से भी भारत का अहम साझेदार रहा है. राफेल डील हो या अन्य सुरक्षा मामले फ्रांस भारत का समर्थन करता रहा है. यूरोप में हाल के दिनों में फ्रांस में सबसे अधिक आतंकी हमले हुए हैं. आतंकवाद से वैश्विक लड़ाई की भारत की अपील पर फ्रांस साथ है. फ्रांस में हाल ही में सत्ता संभालने वाले राष्ट्रपति इमैनुअल मैक्रॉं पहली बार पीएम मोदी से मिलेंगे. इस दौरान आपसी संबंधों को नई ऊंचाई देने पर चर्चा होगी. जानते हैं आपसी सहयोग की 10 बातें जो यूरोप में फ्रांस को भारत का सबसे अहम साझेदार बनाती हैं.

1. फ्रांस और भारत के बीच सदियों से व्यापारिक संबंध रहे हैं. 17वीं शताब्दी से लेकर 1954 तक पुडुचेरी में फ्रांस की उपनिवेशी उपस्थिति रही है. औपनिवेशिक दौर खत्म होने के बाद भी सांस्कृतिक और व्यवसायिक रूप से फ्रांस हमारे करीब रहा है.

2. न्यूक्लियर एनर्जी दोनों देशों के बीच बहुत ही अहम मुद्दा है. 2010 में ही NPCIL और Areva के बीच न्यूक्लियर एनर्जी के सहयोग को लेकर समझौता हुआ था. जिसके बाद जैतापुर में EPRNPP यूनिट को स्थापित करने की बात हुई थी.

3. रक्षा के मुद्दे पर भी दोनों देश साथ दिखते आए हैं. हाल ही में हुए 36 राफेल विमानों का सौदा इसमें सबसे अहम है. इन विमानों के भारत में आ जाने के बाद से भारत की ताकत में जबरदस्त बढ़ोतरी होगी. समय-समय पर दोनों देशों के बीच संयुक्त सैन्य अभ्यास भी होते रहते हैं.

4. FDI निवेश की बात करें तो फ्रांस भारत के लिए विदेशी निवेशकों मे 9वें स्थान पर है. अप्रैल 2000 से मार्च 2017 के बीच फ्रांस ने हमारे देश में तकरीबन 37 हजार करोड़ का निवेश किया है.

5. भारत के अंतरिक्ष अनुसंधान केंद्र ISRO और फ्रांस के CNES के बीच ग्रहों पर खोज में सहयोग के लिए आशय-पत्र पर हस्ताक्षर हुआ था. इसके अलावा ISRO और CNES के बीच थर्मल इन्फ्रारेड सेटेलाइट बनाने पर भी समझौता हो चुका है.

6. भारतीय पर्यटकों के लिए विदेशों में फ्रांस सबसे पसंदीदा जगह है. आतंकवादी हमलों के बाद भी साल 2015 की बात करें तो रिकॉर्ड 5 लाख भारतीय फ्रांस घुमने गए थें. जबकी भारत में पुडुचेरी फ्रांसीसी पर्यटकों के लिए लोकप्रिय स्थान रहा है.

7. रेलवे के क्षेत्र में फ्रांस ने 400 भारतीय स्टेशनों को अंतरराष्ट्रीय स्तर का बनाने में सहयोग की बात कही है. इसके अलावा तेज गति की ट्रेन को भी भारत में लाने में फ्रांस सहयोग के लिए तैयार है.

8. भारत और फ्रांस सांस्कृतिक रूप से भी एक-दूसरे के काफी करीब हैं, इस साल के अंत तक तो फ्रांस में भारतीय सास्कृतिक केंद्र खोलने के लिए भारत ने कदम भी बढ़ा दिए हैं.

9. खेल के क्षेत्र में भी फ्रांस और भारत के अच्छे रिश्ते रहे हैं. स्पोर्ट मेडिसिन से लेकर ट्रेनिंग और खेलों में महिलाओं की भागीदारी को लेकर भी दोनों देश एक दूसरे के साथ खड़े हैं. फ्रांस, भारत में फुटबॉल को विकसित करने पर भी सहयोग करने को राजी है.

10. भारतीय राज्यों के भी अलग स्तर पर फ्रांस से संबंध हैं. कर्नाटक सरकार ने 2015 में ही पेरिस और टूलूज़ में रोड शो के लिए निवेश किया था.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें