scorecardresearch
 

मेहुल चोकसी ने एंटीगुआ के प्रत्यर्पण कानून को दी चुनौती

पंजाब नेशनल बैंक घोटाले के आरोपी मेहुल चोकसी की मुश्किलें बढ़ने वाली हैं. 13000 करोड़ रुपये के पीएनबी घोटाले का खुलासा होने के बाद आरोपी मेहुल चोकसी भारत छोड़कर एंटिगुआ भाग गया था. अब मेहुल चोकसी का प्रत्यर्पण तय माना जा रहा है.

फाइल फोटो- मेहुल चोकसी फाइल फोटो- मेहुल चोकसी

पंजाब नेशनल बैंक घोटाले के आरोपी मेहुल चोकसी की मुश्किलें बढ़ने वाली हैं. 13000 करोड़ रुपये के पीएनबी घोटाले का खुलासा होने के बाद आरोपी मेहुल चोकसी भारत छोड़कर एंटिगुआ भाग गया था. अब मेहुल चोकसी का भारत प्रत्यर्पण लगभग तय है.

इस मामले पर मेहुल चोकसी के वकील विजय अग्रवाल का कहना है कि एंटीगुआ से प्रत्यर्पण पूरी प्रक्रिया के तहत होगा. हमने उनके प्रत्यर्पण को एंटीगुआ के कानूनों के तहत चुनौती दी है. अब नेचुरल जस्टिस के नियमों के तहत उनके प्रत्यर्पण पर विचार किया जाएगा.

एंटीगुआ के अधिकारियों के मुताबिक चोकसी का केस एक अलग तरह का मामला है. भारत के अधिकारियों ने यह साफ जाहिर किया है कि उसका कोई आपराधिक रिकॉर्ड नहीं है. उन्होंने इस बात का जिक्र नहीं किया है कि वह वित्तीय मामलों का अपराधी है. एंटिगुआ का कहना है कि वह अपनी जमीन को आर्थिक अपराधिओं के लिए सुरक्षित ठिकाने के तौर पर इस्तेमाल नहीं होने देगा.

मेहुल चोकसी का मामला एंटिगुआ के कोर्ट में है. लेकिन भारतीय कोर्ट भी मानता है कि अपराधियों के पास भी मौलिक अधिकार होते हैं. मेहुल चोकसी के पास पूरी तरह से कोर्ट जाने और खुद का बचाव करने का अधिकार है. लेकिन इन सबके बाद भी मेहुल चोकसी का भारत प्रत्यर्पण तय है.

भारत पंजाब नेशनल बैंक घोटाले (PNB SCAM) में आरोपी मेहुल चोकसी को जल्द ही भारत वापस लाने की तैयारी में है. वह अभी तक एंटिगुआ में रह रहा था, लेकिन वहां के प्रधानमंत्री गैस्टन ब्राउन ने बयान दिया है कि वह जल्द ही मेहुल चोकसी की नागरिकता रद्द करने वाले हैं. उनके मुताबिक, भारत की ओर से लगातार इसको लेकर दबाव बनाया जा रहा था.

इसी के साथ ही मेहुल चोकसी को भारत लाने का रास्ता भी साफ हो जाएगा. PNB घोटाले के तहत नीरव मोदी और मेहुल चोकसी पर 13 हजार करोड़ रुपये के गबन का आरोप था. ये मामला 2018 में सामने आया था, तभी से ही विपक्ष इस मुद्दे पर मोदी सरकार को घेरे हुए है.

प्रत्यर्पण की प्रक्रिया जल्द होगी शुरू

मेहुल चोकसी के मामले में भारत अभी इंतजार करेगा. सरकारी सूत्रों की मानें तो भारत अभी इस इंतजार में है कि पहले एंटिगुआ की सारी कानूनी प्रक्रिया खत्म हो जाए. उसके बाद ही अपने स्तर पर प्रत्यर्पण की प्रक्रिया शुरू की जाएगी. भारत को अभी तक नागरिकता रद्द होने पर कोई आधिकारिक सूचना नहीं मिली है.

चोकसी की नागरिकता होगी रद्द

एंटिगुआ के प्रधानमंत्री के मुताबिक, मेहुल चोकसी को पहले यहां की नागरिकता मिली हुई थी. लेकिन अब इसे रद्द किया जा रहा है और भारत प्रत्यर्पित किया जा रहा है. हम किसी भी ऐसे व्यक्ति को अपने देश में नहीं रखा जाएगा, जिसपर किसी भी तरह के आरोप लगे हों.

भारत वापसी तय

प्रधानमंत्री गैस्टन ब्राउन के अनुसार, अब एंटिगुआ में मेहुल चोकसी पर किसी तरह का कानूनी रास्ता नहीं बचा है, जिससे वह बच निकले इसलिए उसकी भारत वापसी लगभग तय है.

उन्होंने कहा कि अभी मेहुल चोकसी से जुड़ा पूरा मामला कोर्ट में है, इसलिए हमें पूरी प्रक्रिया का पालन करना होगा. एंटिगुआ के प्रधानमंत्री ने कहा कि उन्होंने इसको लेकर भारत सरकार को पूरी जानकारी दे दी है. हालांकि, मेहुल चोकसी को सभी कानूनी प्रक्रिया पूरा करने का समय दिया जाएगा. जब उसके पास कोई भी कानून ऑप्शन नहीं बचेगा, तो उसे भारत प्रत्यर्पित कर दिया जाएगा.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें