scorecardresearch
 

Afghanistan: तालिबान ने भारत आ रहे सिखों को गुरु ग्रंथ साहिब ले जाने से रोका

अफगानिस्तान की तालिबान सरकार ने सिखों की पवित्र किताब गुरु ग्रंथ साहिब को देश से बाहर ले जाने पर रोक लगा दी है. 60 अफगान सिखों का एक समूह गुरु ग्रंथ साहिब के साथ बीते शनिवार को दिल्ली पहुंचने वाला था. लेकिन अफगानिस्तान की तालिबान सरकार के विदेश मंत्रालय ने प्रोटोकॉल का हवाला देकर गुरु ग्रंथ साहिब को देश से बाहर नहीं ले जाने दिया. 

X
सांकेतिक तस्वीर
सांकेतिक तस्वीर

अफगानिस्तान की तालिबान सरकार ने सिखों की पवित्र किताब गुरु ग्रंथ साहिब को देश से बाहर ले जाने पर रोक लगा दी है. 60  अफगान सिखों का एक समूह गुरु ग्रंथ साहिब के साथ बीते शनिवार को दिल्ली पहुंचने वाला था. लेकिन अफगानिस्तान की तालिबान सरकार के विदेश मंत्रालय ने प्रोटोकॉल का हवाला देकर गुरु ग्रंथ साहिब को देश से बाहर नहीं ले जाने दिया. 

अफगानिस्तान के विदेश मंत्रालय के अधिकारियों ने आज तक को बताया कि देश के सूचना एवं संस्कृति मंत्रालय ने इस पर आपत्ति जताई है. अफगानिस्तान से बाहर गुरु ग्रंथ साहिब को तब तक नहीं ले जाया जा सकता, जब तक मंत्रालय से इसे हरी झंडी नहीं मिल जाए. इस मामले को संबंधित प्रशासन के संज्ञान में लाया गया और (सिखों) से नियमों का पालन करने को कहा.

अधिकारियों का कहना है कि यह मामला हमारे प्रोटोकॉल विभाग से जुड़ा हुआ है. हमने उनसे भी बात की है. जब तक इस मामले पर देश के संस्कृति और सूचना मंत्रालय से आधिकारिक पुष्टि पत्र नहीं मिल जाता, हम गुरु ग्रंथ साहिब को देश से बाहर नहीं जाने देंगे. अब इस मामले पर अफगान हिंदू और सिख अफगानिस्तान के संस्कृति मंत्रालय से जवाब मिलने का इंतजार कर रहे हैं. 

भारत सरकार से मामले में तत्काल हस्तक्षेप की मांग

इस संबंध में विदेश मंत्रालय और काबुल में भारतीय मिशन के जरिए भारत सरकार के तत्काल हस्तक्षेप की मांग की गई. मामले की संवेदनशीलता को ध्यान में रखते हुए भारतीय अधिकारियों ने भी अपने समकक्षों के समक्ष इस मामले को उठाया है.

इस मामले पर काबुल में सिख कम्युनिटी से जुड़े लोगों सहित इंडियन वर्ल्ड फोरम संबंधित अफगान अधिकारियों के संपर्क में है लेकिन अभी तक कोई सकारात्मक जवाब नहीं मिल पाया है.

बता दें कि 60 अफगान हिंदू और सिखों का समूह चार गुरु ग्रंथ साहिब (सिखों की पवित्र पुस्तक) के साथ बीते शनिवार को भारत पहुंचने वाला था. यह समूह अमृतसर के श्री दरबार साहिब में मत्था टेकने वाला था.

बता दें कि अफगान हिंदुओं और सिखों के अफगानिस्तान से बाहर जाने पर कोई प्रतिबंध नहीं है लेकिन गुरु ग्रंथ साहिब को देश से बाहर ले जाने पर पाबंदी लगाई गई है.

इंडियन वर्ल्ड फोरम ने इस मामले पर नाराजगी जताई है और अफगानिस्तान की सरकार से सिखों के आंतरिक धार्मिक मामलों में हस्तक्षेप नहीं करने को कहा है. इसके साथ ही अफगान सरकार से मामले को तुरंत सुलझाने की मांग की है. 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें