scorecardresearch
 
विश्व

अमित शाह के बयान पर बांग्लादेश के विदेश मंत्री ने जताई कड़ी आपत्ति, कहा- उनकी जानकारी कम

bangladesh
  • 1/9

बांग्लादेश ने बुधवार को केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के एक बयान पर कड़ी आपत्ति जताई है. केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कहा था कि बांग्लादेश के गरीब लोग भारत इसलिए आते हैं क्योंकि उनके देश में पर्याप्त खाना नहीं है. अब इसी बयान पर बांग्लादेश के विदेश मंत्री ए के अब्दुल मोमेन ने प्रतिक्रिया दी है.

bangladesh
  • 2/9

बांग्लादेश के विदेश मंत्री मोमेन ने कहा कि गृह मंत्री अमित शाह की बांग्लादेश के बारे में जानकारी सीमित है. उन्होंने कहा कि जब बांग्लादेश और भारत के रिश्ते इतने गहरे हैं, ऐसे में इस तरह के बयान बिल्कुल भी स्वीकार्य नहीं हैं. इस तरह के बयान से गलतफहमियां पैदा होती हैं.

bangladesh2
  • 3/9

मोमेन से भारतीय मीडिया में छपे अमित शाह के बयान को लेकर सवाल किया गया था. बांग्लादेश के अखबार प्रथम आलो से मोमेन ने कहा, दुनिया में कई ऐसे बुद्धिमान लोग हैं जो सब कुछ देखने के बाद भी अनदेखा कर देते हैं. अगर अमित शाह ने ऐसा कहा है तो मैं कहूंगा कि बांग्लादेश के बारे में उनका ज्ञान सीमित है. बांग्लादेश में कोई भी भूखा नहीं है. बांग्लादेश के उत्तरी जिलों में भी गरीबी और भुखमरी नहीं है. कई क्षेत्र में बांग्लादेश अमित शाह के देश से आगे है.

bangladesh3
  • 4/9

अमित शाह ने अपने बयान में कहा था, 'बांग्लादेश के गरीब लोग भारत इसलिए आते हैं क्योंकि उन्हें अपने देश में खाना नहीं मिलता है. पश्चिम बंगाल में अगर बीजेपी सत्ता में आती है तो बांग्लादेश से घुसपैठ पूरी तरह से रुक जाएगी.'
 

bangladesh
  • 5/9

मोमेन ने कहा, बांग्लादेश का समाज भी भारत से कई मामलों में आगे है. बांग्लादेश में लगभग 90 फीसदी लोग अच्छे शौचालयों का इस्तेमाल करते हैं जबकि भारत में 50 फीसदी से ज्यादा आबादी के पास शौचालय नहीं है.

bangladesh
  • 6/9

मोमेन ने इस बात को स्वीकर किया कि बांग्लादेश में शिक्षित लोगों के लिए नौकरियों की कमी है लेकिन उन्होंने कहा कि अनपढ़ लोग भुखमरी से नहीं जूझ रहे हैं. मोमेन ने कहा, भारत के एक लाख से ज्यादा लोग बांग्लादेश में काम करते हैं. हमें भारत जाने की जरूरत नहीं है.

bangladesh
  • 7/9

ये पहली बार नहीं है जब गृह मंत्री अमित शाह के बयान को लेकर बांग्लादेश ने आपत्ति जताई है. नागरिकता संशोधन कानून पास होने के बाद संसद में अमित शाह ने बांग्लादेश का जिक्र किया था. अमित शाह ने कहा था कि बांग्लादेश, अफगानिस्तान और पाकिस्तान में अल्पसंख्यकों को धार्मिक उत्पीड़न झेलना पड़ता है, इसलिए भारत ने ऐसे लोगों को भारत की नागरिकता देने का प्रावधान किया है. इस दौरान अमित शाह ने बांग्लादेश में अल्पसंख्यकों के साथ हुई कुछ घटनाओं का भी जिक्र किया था, हालांकि साथ ही उन्होंने ये भी कहा था कि शेख हसीना की सरकार अल्पसंख्यकों के लिए माहौल सही करने के प्रयास कर रही है.
 

bangladesh
  • 8/9

बांग्लादेश के विदेश मंत्री डॉ. एके. अब्दुल मोमेन ने अमित शाह के बयान पर प्रतिक्रिया दी थी. उन्होंने कहा था कि दुनिया में कुछ ही ऐसे देश हैं, जहां बांग्लादेश जैसा अच्छा सांप्रदायिक सौहार्द है. अगर अमित शाह बांग्लादेश में आकर कुछ महीने गुजारेंगे, तो इस बात को खुद ही समझ जाएंगे.

modi
  • 9/9

पिछले महीने, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बांग्लादेश का दौरा किया था. मोदी के दौरे को लेकर कट्टरपंथी इस्लामिक संगठनों ने जमकर विरोध-प्रदर्शन किए. इन हिंसक प्रदर्शनों में कई लोगों की मौत भी हो गई थी. बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना की सरकार ने प्रदर्शनों में शामिल लोगों के खिलाफ कड़ा ऐक्शन लिया और इस्लामिक चरमपंथियों को फटकार भी लगाई.