scorecardresearch
 

19 साल की इस महिला पायलट ने नाप ली पूरी दुनिया... जानिए कैसे 52 देशों का चक्कर लगाकर बना रही हैं ये रिकॉर्ड

19 साल की पायलट जारा रदरफोर्ड दुनियाभर में अकेले उड़ान भरने वाली सबसे कम उम्र की महिला बनने के बेहद करीब हैं. सोमवार को उनके वापस बेल्जियम लौटने की उम्मीद की जा रही है.

19 वर्षीय पायलट जारा रदरफोर्ड (फोटो- सोशल मीडिया) 19 वर्षीय पायलट जारा रदरफोर्ड (फोटो- सोशल मीडिया)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • सोमवार को बेल्जियम लौटेंगी जारा रदरफोर्ड
  • 19 साल की जारा ने अकेले 52 देशों सफर तय किया

19 साल की पायलट जारा रदरफोर्ड दुनियाभर में अकेले उड़ान भरने वाली सबसे कम उम्र की महिला बनने के बेहद करीब हैं. सोमवार को उनके वापस बेल्जियम लौटने की उम्मीद की जा रही है. अगस्त में ब्रिटिश-बेल्जियम जारा रदरफोर्ड ने पश्चिमी बेल्जियम  के कॉर्ट्रिज्क-वेवेलगेम हवाई अड्डे  से अपनी 51,000 किमी की यात्रा शुरू की थी. जारा की यात्रा पांच महाद्वीपों और अमेरिका, रूस और कोलंबिया समेत 52 देशों तक फैली थी. 

सोमवार को लौटेंगी जारा रदरफोर्ड 

रिकॉर्ड बुक में अपना नाम दर्ज कराने के बाद जारा रदरफोर्ड को उम्मीद है कि उनकी यात्रा लड़कियों और महिलाओं को STEM (विज्ञान, प्रौद्योगिकी, इंजीनियरिंग और गणित) में स्टडी और काम करने के लिए प्रोत्साहित करेगी और विमानन में लड़कियों की रुचि जगाएगी.

फिलहाल दुनिया का सबसे कम उम्र में चक्कर लगाने का खिताब शाएस्टा वाइस के नाम पर है. उन्होंने साल 2017 में 30 साल की उम्र में दुनिया का चक्कर लगाने वाली सबसे कम उम्र की महिला पायलट बनी थीं. कोरोना वायरल के चलते जारा को कई देशों में स्थानीय स्थानों को देखने की इजाजत नहीं थी. 

शाएस्टा वाइस के नाम पर है मौजूदा रिकॉर्ड 

ऐसे में अब जारा रदरफोर्ड की इस खिताब पर नजर है. वहीं, किसी पुरुष द्वारा सबसे कम उम्र में दुनिया का चक्कर लगाने का रिकॉर्ड मेसन एंड्रयूज के नाम पर है. उन्होंने 18 साल की उम्र में 2018 में अपनी यात्रा पूरी की थी. जारा के माता-पिता दोनों पायलट हैं. जारा का अपना सफर तय करने में करीब तीन माह का समय लगा. इस दौरान वो 52 देशों में रुकीं. जिनमें ग्रीनलैंड, चीन, निकारागुआ भी शामिल हैं. बहरहाल अब हर कोई जारा का इंतजार कर रहा है. 

 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें
ऐप में खोलें×