scorecardresearch
 

सर्वेक्षण में खुलासा, बौने हो रहे हैं उत्तर प्रदेश के बच्चे

बाल विकास मंत्रालय के एक सर्वेक्षण में यह खुलासा हुआ है कि उत्तर प्रदेश के बच्चे बौने होते जा रहे हैं. बच्चों को पहले हॉटकुक खिलाया गया और अब पौष्टिक भोजन बांटा जा रहा है ताकि उनका शारीरिक और मानसिक विकास हो सके.

Symbolic Image Symbolic Image

बाल विकास मंत्रालय के एक सर्वेक्षण में यह खुलासा हुआ है कि उत्तर प्रदेश के बच्चे बौने होते जा रहे हैं.

बच्चों को पहले हॉटकुक खिलाया गया और अब पौष्टिक भोजन बांटा जा रहा है ताकि उनका शारीरिक और मानसिक विकास हो सके. मगर ऐसा होता दिख नहीं रहा है. सामान्यत: तीन साल के लड़के की लंबाई 94.9 सेंटीमीटर व लड़की की 93 सेंटीमीटर होनी चाहिए, लेकिन सर्वेक्षण में लड़कों की लंबाई 89 सेंटीमीटर व लड़कियों की 88 सेंटीमीटर मिली है.

सर्वेक्षण के मुताबिक, लखनऊ और इलाहाबाद के बच्चों की लंबाई सामान्य पाई है. यहां सात फीसदी बच्चों की लंबाई कम मिली है. बाकी बच्चों की शारीरिक वृद्धि अच्छी पाई है, जबकि बरेली और शाहजहांपुर में दस फीसदी बच्चों की लंबाई सामान्य से कम मिली है. इन जिलों के 3.22 लाख बच्चों की लंबाई नापी गई थी. यहां तीन साल की लड़कियों की ऊंचाई 90 से 91 सेंटीमीटर के बीच मिली है. पीलीभीत में तीन साल के लड़कों की ऊंचाई 89 सेंटीमीटर व लड़कियों की 87 से 88 सेंटीमीटर पाई गई है.

इसी तरह बदायूं के 45 हजार बच्चों की लंबाई नापी गई. इसमें तीन साल के 40 फीसदी बच्चों की लंबाई 88 से 89 सेंटीमीटर के बीच मिली है. चार साल के बच्चों की लंबाई 100.2 सेंटीमीटर मिली है, जबकि इस उम्र में 102.9 सेंटीमीटर होनी चाहिए. लड़कियों की लंबाई 101 सेंटीमीटर के बजाय 99.1 सेंटीमीटर मिली है. इसके अलावा औरैया, गाजीपुर, बलिया, ललितपुर, बाराबंकी समेत 42 जनपदों के बच्चों की ऊंचाई और वजन कम मिला है. यदि इन बच्चों के वजन और लंबाई में लगातार गिरावट आती रही तो ये कुपोषण की श्रेणी में आ जाएंगे.

गौरतलब है कि भारत सरकार ने इस सर्वेक्षण का मिलान सभी जनपदों की ओर से भेजे गए बच्चे के वजन व लंबाई के आंकड़ों से किया है. उसके बाद ही इसका खुलासा किया है. प्रमुख सचिव चंचल तिवारी ने कहा है कि आंगनबाड़ी केंद्रों पर लाखों बच्चे आ रहे हैं. इनके बौने होने का प्रमुख कारण दूषित भोजन, पानी व वातावरण है. उन्होंने यह भी कहा कि बच्चों को दूषित खाना और पानी न दिया जाए, इसके लिए अभिभावकों को जागरूक किया जाए. आंगनबाड़ी केंद्रों को मॉडल बनाते हुए उनमें शौचालयों की व्यवस्था की जाए. शुद्ध पानी के लिए भी व्यवस्था केंद्र पर हो.

-इनपुट IANS

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें