scorecardresearch
 

लॉर्ड्स में टीम की अगुवाई करना सम्‍मान की बात: धोनी

‘क्रिकेट के मक्का’ कहलाने वाले लॉर्ड्स मैदान पर किसी के लिये भी कदम रखना सम्मान की बात है और भारतीय कप्तान महेंद्र सिंह धोनी भी इससे इतर नहीं है.

महेंद्र सिंह धोनी महेंद्र सिंह धोनी

‘क्रिकेट के मक्का’ कहलाने वाले लॉर्ड्स मैदान पर किसी के लिये भी कदम रखना सम्मान की बात है और भारतीय कप्तान महेंद्र सिंह धोनी भी इससे इतर नहीं है. वह गुरुवार को लॉर्ड्स के मैदान पर इंग्लैंड के खिलाफ शुरू होने वाले पहले टेस्ट में विश्वकप जीतने वाली टीम के खिलाड़ियों का नेतृत्व करेंगे.

धोनी ने कहा कि लॉर्ड्स में टीम की अगुवाई करने का अनुभव करना सम्मान की बात है और वह इसे अपने स्वर्णिम कैरियर की सबसे बड़ी उपलब्धि करार करते हैं. धोनी ने ‘डेली टेलीग्राफ’ से कहा, ‘यह निश्चित रूप से काफी बड़ी उपलब्धि है. 15 खिलाड़ियों का नेतृत्व करना जिन पर एक अरब 20 करोड़ लोगों की उम्मीदें लगी हों, बड़ी बात है.’

ये शतक होगा लॉर्ड्स के नाम!

उन्होंने कहा, ‘यह सम्मान की बात है, यह काफी विशेष है. लेकिन साथ ही यह एक जिम्मेदारी भी है. आप भारतीय टीम से प्रत्येक मैच जीतने की उम्मीद करते हो, जो असंभव है. फिर भी आपसे इसी चीज की उम्मीद की जाती है.’ ‘कैप्टन कूल’ ने इस साक्षात्कार के दौरान यह भी बताया कि कभी कभी वह अपनी 25 मोटर बाइकों पर जुनूनी दर्शकों से दूर भागना चाहते हैं.

धोनी ने कहा, ‘अगर मौका मिले. दिल्ली या मुंबई में कहीं भी मैं अपनी बाइक निकालूं और हेल्मेट साथ लूं और राइड के लिये चला जाउं.’ धोनी जब अपने परिवार के बारे में बात करते हैं तो भावुक हो जाते हैं. उन्होंने कहा, ‘2005 के बाद से मैंने अपने परिवार के साथ काफी समय व्यतीत नहीं किया है.’

72 लाख में नीलाम हुआ धोनी का बल्ला

वह बहुत पारिवारिक व्यक्ति हैं. उन्होंने कहा, ‘बल्कि मैंने अपना ज्यादातर समय मुंबई में ताज लैंड्सऐंड में बिताया है. हाल में इसमें मेरा 100वां दौरा था, जिसका मतलब है कि मैंने उस होटल में 400 से ज्यादा दिन बिताये हैं और यह मेरे परिवार के साथ बिताये गये समय से काफी ज्यादा है.’

धोनी ने अपने माता-पिता के बात करते हुए कहा, ‘मैं अपने माता-पिता की कमी महसूस करता हूं. लेकिन मैं यह बात भी जानता हूं कि एक बार मैं जब दो या तीन या फिर चार, जितने भी वर्ष हों, में क्रिकेट समाप्त कर दूंगा तो मेरे पास उनके साथ बिताने के लिये काफी समय होगा.’ उन्होंने कहा, ‘मेरी पत्नी मुझे बताती है कि जब मैं घर पर नहीं होता तो 80 प्रतिशत बातें मेरे बारे में होती हैं. लेकिन मैंने अपने पिता से बता दिया है, यही समय है जब मैं अपने देश के लिये कुछ कर रहा हूं और देश सब चीजों से पहले आता है. मुझे लगता है कि वह इस बात को समझते हैं.’

सचिन को नाइटहुड की उपाधि देने की मांग

धोनी ने पहली बार सुखिर्यों में आने के बारे में भी बात की. उन्होंने कहा, ‘यह स्कूल लीग का फाइनल था, जो 35 ओवर का मैच था.’ धोनी ने कहा, ‘मैंने 213 रन बनाये थे, जिसमें सात और आठ छक्के शामिल थे और वे काफी ऊंचे छक्के थे. मैं शुरू से ही रांची में काफी लोकप्रिय हो गया था.’ जब धोनी ने शुरूआत की थी तो भारतीय क्रिकेट एक अरब डालर का उद्योग नहीं था इसलिये लोग उनके पेशे की पंसद पर थोड़ा संदेह कर रहे थे.

सचिन, कपिल, गावस्कर ‘सर्वकालिक टेस्ट’ टीम में

उन्होंने कहा, ‘उन दिनों लोग कहते थे, ‘ठीक है आप क्रिकेट खेलते हैं लेकिन आप क्या करते हो’?’ इसलिये उन्होंने पश्चिम बंगाल के खड़गपुर में रेलवे टिकट संग्राहक के रूप में काम शुरू किया था. धोनी ने कहा, ‘मैं सेंट्रल कोलफील्ड्स लिमिटेड और इंडियन एयरवेज की ओर से खेलता था.’ उन्होंने कहा, ‘उन दिनों मैंने अपने खेल में काफी सुधार किया, मैं ऐसी पिचों पर खेलता था जो भारत में कम होती थी. आज हालांकि व्यवसाय की दुनिया में प्रतिस्पर्धा काफी बढ़ गयी है और युवा खिलाड़ियों के लिये यह विलासिता का साधन बनता जा रहा है.’

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो देखने के लिए जाएं www.m.aajtak.in पर.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें