scorecardresearch
 

तेंदुलकर को सर की उपाधि दिये जाने की मांग

लंदन के प्रतिष्ठित अखबार द टाइम्स ने सचिन तेंदुलकर को नाइटहुड यानि सर की उपाधि से सम्मानित किये जाने की मांग की है.

सचिन तेंदुलकर सचिन तेंदुलकर

लंदन के प्रतिष्ठित अखबार द टाइम्स ने सचिन तेंदुलकर को नाइटहुड यानि सर की उपाधि से सम्मानित किये जाने की मांग की है.

भारत और इंग्लैंड के शुरू होने जा रही टेस्ट श्रृंखला से ठीक पहले अखबार ने लिखा है कि बल्ले के साथ तेंदुलकर के कौशल ने उन्हें सर डान ब्रैडमैन का सही उतारधिकारी साबित किया है. सचिन की ख्याति उनके कद और दाग रहित चरित्र के कारण ही इस खेल के बड़े बड़े नाम उनके (सचिन) कौशल से झूमते हैं और उनकी तारीफ करने की होड़ लगाते नजर आते हैं.

सचिन पर विशेष
अखबार ने लिखा, ‘शेन वार्न उन्हें उन बल्लेबाजों में सबसे बेहतर मानते हैं जिनको उन्होंने गेंदबाजी की है जबकि खुद ब्रैडमैन ने सचिन की जमकर तारीफ की थी और आस्ट्रेलिया के जाने माने बल्लेबाज मैथ्यू हेडन ने तो यह तक कह दिया था कि मैंने भगवान को देखा है वो भारत के लिये टेस्ट मैचों में बल्लेबाजी करता है.’

सचिन तेंदुलकर टेस्ट इतिहास के 2000वें मैच में लंदन के लार्डस मैदान पर शतकों का शतक बनाने के लक्ष्य के साथ उतरेंगे.

सचिन तेंदुलकर की कहानी तस्वीरों की जुबानी

अखबार ने कहा कि तेंदुलकर ने जिस तरह से क्रिकेट प्रेमियों का मनोंरजन किया है वह उन्हें नाइटहुड उपाधि का हकदार बनाता है.

ब्रिटेन के पूर्व प्रधानमंत्री गार्डन ब्राउन ने 2008 में कहा था कि राष्ट्रमंडल देशों के महान क्रिकेट खिलाड़ियों को नाइटहुड देने की परंपरा रही है और वे सचिन के लिये भी यह सम्मान चाहेंगे.

मशहूर पत्रकार सर मार्क टेली ने भी सचिन तेंदुलकर को यह उपाधि देने का समर्थन करते हुए कहा था, ‘मेरा मानना है कि अगर भारत सरकार मुझे सम्मानित कर सकती है तो इंग्लैंड की सरकार क्यों एक भारतीय को सम्मानित नहीं कर सकती.’

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो देखें

टेली ने कहा कि यह खुशी की बात होगी. अगर कोई कहता है कि यह उपाधि ब्रिटिश राज की याद दिलाती है तो यह गलत बात है क्योंकि ब्रिटिश राज समाप्त हुए जमाना गुजर गया है. भारत और ब्रिटेन ने नये सिरे से रिश्ते बनाये हैं. उन्होंने कहा कि मानद नाइटहुड न सिर्फ भारतीय बल्कि अन्य देशों के लोगों को भी दिया जाता रहा है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें