scorecardresearch
 
ट्रेंडिंग

इस रेल कारखाने के कर्मचारियों ने कबाड़ से बना दिए 'राफेल' और 'पृथ्वी मिसाइल', देखें तस्वीरें

कर्मचारियों ने कबाड़ से बना दिया 'राफेल' और पृथ्वी मिसाइल.
  • 1/5

देश भक्ति का जज्बा लिए रेलकर्मी अपने हुनर का प्रदर्शन करने में अग्रणी भूमिका निभा रहे हैं. देश के लिए कुछ कर गुजरने का जज्बा, वतन के लिए प्यार के चलते समस्तीपुर के रेलकर्मियों ने एक ऐसा कारनामा कर दिखाया है जिसे देख सब हैरान हैं. समस्तीपुर में रेल कारखाने के कर्मचारियों ने कबाड़ से 'राफेल' और पृथ्वी मिसाइल बना डाली. 

बेकार पड़े स्क्रैप (कबाड़) से बनाया राफेल जैसे लड़ाकू विमान और पृथ्वी मिसाइल का मॉडल
  • 2/5

समस्तीपुर स्थित रेल यांत्रिक कारखाना में काम करने वाले रेलकर्मियों ने कड़ी मेहनत से बेकार पड़े स्क्रैप (कबाड़) से राफेल जैसे लड़ाकू विमान और पृथ्वी मिसाइल का मॉडल बनाकर तैयार किया है. इतना ही नहीं यांत्रिक कारखाने में काम करने वाले कर्मियों ने पर्यावरण के महत्व को दर्शाने के लिए कबाड़ में पड़े लोहे के टुकड़ों से पेड़ के मॉडल भी बनाये हैं. समस्तीपुर यांत्रिक रेल कारखाना के रेल कर्मियों की बनाई गई कलाकृतियों का जिक्र दूर-दूर तक होने लगा है. अब ये कलाकृतियां लोगों के आकर्षण का केंद्र बनी हुई हैं.

राफेल विमान को सात दिनों की कड़ी मेहनत से कर्मियों ने तैयार किया.
  • 3/5

बता दें, यांत्रिक कारखाना समस्तीपुर में मुख्य कारखाना प्रबंधक के मार्गदर्शन में कबाड़ (स्क्रैप) से रेलकर्मियों ने राफेल जैसे लड़ाकू विमान और पृथ्वी मिसाइल का मॉडल बनाया है. करीब पांच फीट लंबे और 20 किलो वजन वाले इस राफेल विमान को सात दिनों की कड़ी मेहनत से कर्मियों ने तैयार किया है. इसके अलावा दो पृथ्वी मिसाइल और दो लोहे के स्क्रैप से पेड़ पौधों की कलाकृति भी बनाई गई हैं.

स्क्रैप से देख भक्ति से जुड़े कलाकृति बनाने में माहिर हैं.
  • 4/5

मुख्य कारखाना प्रबंधक वेद प्रकाश का कहना है कि कौशल विकास के तहत रेलकर्मी बेकार पड़े सामानों (स्क्रैप) से देशभक्ति से जुड़ी कलाकृति बनाने में माहिर हैं. वे अभी मेक इन इंडिया के तहत तोप का भी निर्माण करने में लगे हुए हैं. रेलवे इस राफेल विमान और मिसाइल के मॉडल को लोगों के लिए सेल्फी पॉइंट के रूप में स्थापित करने की योजना बना रही है. खास बात ये है कि यांत्रिक कारखाने में काम करने वाले कर्मचारियों ने ऑन ड्यूटी के बाद बचे समय को इन कलाकृतियों को बनाने में लगाया है. 

कलाकृतियां लोगों के आकर्षण का केंद्र बनी हुई हैं.
  • 5/5

मुख्य कारखाना प्रबंधक वेद प्रकाश का कहना है कि राफेल विमान और पृथ्वी मिसाइल जैसी कलाकृतियां हमारे कर्मचारियों के कौशल विकास को प्रदर्शित करती हैं. उनके अंदर क्षमता है कि वे स्क्रैप से कैसे बढ़िया चीज बना सकते हैं. इन लोगों ने एलईडी लाइट से एक मॉडल बनाया है जिसमें ब्लैक स्मिथ नीचे बैठा हुआ है और एक हैमरमैन उस पर हैमरिंग कर रहा है. अभी इन लोगों ने दो पेड़ बनाए हैं. एक राफेल फाइटर विमान बनाया है और एक तोप बना रहे हैं जो निर्माणाधीन है. ये लोग और चीजें अपनी सोच से बनाते रहते हैं. कारखाने के स्क्रैप को इस्तेमाल कर रेलकर्मियों ने अद्भुत कलाकृतियां बनाकर नया आयाम गढ़ा है.