scorecardresearch
 
ट्रेंडिंग

महाराष्ट्र: जमीन से निकला खजाना, शख्स को मिली 300 साल पुरानी 216 सोने की अशर्फियां और लोटा, Photos

शख्स को खुदाई के दौरान मिलीं 216 सोने अशर्फियां (फोटो- समीर एस शेख)
  • 1/5

महाराष्ट्र के पुणे से सटे पिंपरी चिंचवाड इलाके में खुदाई के दौरान शख्स को 216 सोने की अशर्फियां मिलीं. लेकिन शख्स ने इन सोने अशर्फियों को प्रशासन से छुपा कर रखा. लेकिन गुप्त सूचना के आधार पर पिंपरी-चिंचवड क्राइम ब्रांच यूनिट 2 की टीम ने 300 साल पुरानी 216 सोने की अशर्फियां और 525 ग्राम वजन का एक लोटा बरामद किया.

(फोटो- समीर एस शेख)

शख्स को खुदाई के दौरान मिलीं 216 सोने अशर्फियां (फोटो- समीर एस शेख)
  • 2/5

बताया जा रहा है कि जमीन से मिले इस खाजाने की कीमत अनमोल है. पिंपरी चिंचवड शहर के चिखली इलाके में पैट्रोलिंग के दौरान क्राइम ब्रांच की टीम के एक पुलिसकर्मी को यह जानकारी मिली थी. नेहरू नगर इलाके में रहने वाले सद्दाम सालार खान पठान के पास कुछ प्राचीन सोने की अशर्फियां हैं,  जो उन्होंने छुपाकर रखी हुई हैं. 

शख्स को खुदाई के दौरान मिलीं 216 सोने अशर्फियां (फोटो- समीर एस शेख)
  • 3/5

इस मामले को गंभीरता से लेते हुए पुलिस ने उस जगह जाकर छापेमारी की जहां पर सद्दाम रहता था. पुलिस को पूछताछ में सद्दाम ने बताया कि तीन महीने पहले उनका साला इरफान और ससुर मुबारक काम के सिलसिले में यहां आए थे. उसी दौरान चिखली इलाके में काम के दौरान जमीन में खुदाई करते समय एक लोटा मिला. जिसमें सोने की अशर्फियां मौजूद थीं. उन्होंने यह अशर्फियां बाकी लोगों की नजर से चुराकर अपने थैले में रख लीं और घर लेकर चले गए. घर जाकर देखा कि इसमें सोने की 216 अशर्फियां थीं.

शख्स को खुदाई के दौरान मिलीं 216 सोने अशर्फियां (फोटो- समीर एस शेख)
  • 4/5

इस मामले में पुलिस कमिश्नर कृष्ण प्रकाश ने बताया कि यह अशर्फियां काफी प्राचीन हैं. जो लगभग 300 साल या 1720 से 1750 के आसपास की हैं. जिस पर उर्दू और अरबी भाषा में राजा मोहम्मद शाह ऐसा लिखा हुआ है. सोने की हर अशर्फियों का वजन 10.8 ग्राम है. मौजूदा समय के हिसाब से हर अशर्फी की कीमत लगभग 70 हजार के करीब है.

शख्स को खुदाई के दौरान मिलीं 216 सोने अशर्फियां (फोटो- समीर एस शेख)
  • 5/5

पुलिस का कहना है कि इस मामले  में अब तक 2 लोगों को हिरासत में लिया है. लोटा समेत सोने की अशर्फियां भी बरामद कर ली हैं और उन्हें पुरातत्व विभाग को सौंप दिया है और आगे की जांच जारी है.