scorecardresearch
 
ट्रेंडिंग

MP: बेटियों की शादी में खर्च होने वाले रुपयों में से 2 लाख बचाए, शख्स ने कोविड मरीजों की मदद के लिए दान दिए

बेटियों की शादी में होने वाले खर्च से दो लाख बचाकर शख्स ने कोविड मरीजों को दिया दान
  • 1/5

कोरोना वायरस की दूसरी लहर में जहां हर तरफ से मौत की खबरें आ रही हैं, वहीं मध्य प्रदेश के नीमच से अच्छी खबर सामने आई है. एक पिता ने अपनी बेटियों की शादी में होने वाले खर्च से दो लाख रुपये प्रशासन को दिए हैं.  जिनसे कोरोना मरीजों के लिए ऑक्सीजन और जरूरी दवाइयां खरीदी जा सके. 

बेटियों की शादी में होने वाले खर्च से दो लाख बचाकर शख्स ने कोविड मरीजों को दिया दान
  • 2/5

परिवार के इस पहल की हर तरफ चर्चा हो रही है. नीमच जिले के जीरन क्षेत्र के रहने वाले चंपालाल गुर्जर की दो बेटियां अन्नू और मन्नू है. जिनकी शादी 30 अप्रैल को तय की गई थी. लेकिन कोरोना संक्रमण और गाइड लाइन के चलते यह शादी अब परिवार के कुछ सदस्यों में ही सीमित रह गई है. जिसकी वजह से उनका कुछ पैसा बच गया है और इन पैसों का इस्तेमाल कोविड मरीजों की सहायता के लिए करना चाहते हैं.  

बेटियों की शादी में होने वाले खर्च से दो लाख बचाकर शख्स ने कोविड मरीजों को दिया दान
  • 3/5

ऐसे में परिवार ने दोनों बेटियों के शादी में खर्च होने वाले में से दो लाख रुपये का चेक जिला कलेक्टर को सौंप दिया. जिससे कोरोना मरीजों की मदद की जाए. परिवार के इस नेक काम की हर तरफ जमकर तारीफ हो रही है. वहीं अन्नू और मन्नू का कहना है कि कोविड की वजह से हमने सोचा कि कुछ पैसा मरीजों के इलाज में खर्च किया जाए. जो पीड़ित हैं उन्हें सहायता मिल सके. इन पैसों से किसी की जिंदगी बच जाए इससे बड़ी क्या बात हो सकती है, क्योंकि शादी में एक दिन में ही पैसा खर्च हो जाता है. 

बेटियों की शादी में होने वाले खर्च से दो लाख बचाकर शख्स ने कोविड मरीजों को दिया दान
  • 4/5

चंपालाल गुर्जर का कहना है कि देश में इस समय बेहद खराब माहौल है. ऑक्सीजन के बिना लोगों की जान जा रही है. ऐसे में धूम धाम से बेटियों की शादी करने का कोई मतलब नहीं रहे जाता. इसलिए हमने सोचा कि जो पैसा बच रहा है क्यों न उसे कोरोना मरीजों की मदद की जाए. 

बेटियों की शादी में होने वाले खर्च से दो लाख बचाकर शख्स ने कोविड मरीजों को दिया दान
  • 5/5

वहीं इस मामले में जिला कलेक्टर मयंक अग्रवाल का कहना है कि यह एक बहुत ही सराहनीय पहल है. मैं इन बच्चियों के माध्यम से यही कहना चाहूंगा. इस समय पूरा देश इस महामारी से लड़ रहा है.  कहीं पर बेड्स, दवाइयों और ऑक्सीजन की दिक्कत है, हम जिस भी रूप में लोगों की मदद कर सकते हैं हमें उनकी मदद करनी चाहिए.